Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Shattila Ekadashi 2021: षटतिला एकादशी 2021 की डेट, शुभ मुहूर्त, व्रत पारण का समय और जानें इस दिन के उपाय

Shattila Ekadashi 2021: साल 2021 में षटतिला एकादशी (Shattila Ekadashi date) कब है। षटतिला एकादशी का शुभ मुहूर्त (Shattila Ekadashi shubh muhurat) क्या रहेगा। षटतिला एकादशी व्रत पारण का समय (Shattila Ekadashi vrat parana Time) क्या है। और षटतिला एकादशी के दिन क्या उपाय (Shattila Ekadashi upay) करने से व्यक्ति को लाभ प्राप्त होता है।

Shattila Ekadashi 2021: षटतिला एकादशी  2021 की डेट, शुभ मुहूर्त, व्रत पारण का समय और जानें इस दिन के उपाय
X

Shattila Ekadashi 2021: हिन्दू धर्म में एकादशी बहुत ही महत्वपूर्ण तिथि होती है और मान्यता है कि अगर कोई व्यक्ति सच्चे मन से एकादशी का व्रत करता है तो उसे मोक्ष की प्राप्ति होती है। षटतिला एकादशी 07 फरवरी 2021 को मनाई जाएगी। षटतिला एकादशी के नाम से ही आप जान सकते हैं कि इस दिन तिल का महत्व और प्रयोग बहुत ज्यादा होता है। इस दिन व्यक्ति को अपनी दिनचर्या में तिल का इस्तेमाल ज्यादा से ज्यादा करना चाहिए। साथ ही अपनी सामर्थ्य अनुसार तिलों का दान भी करना चाहिए। इसका पुण्य बेहद फलदायी होता है। तो आइए जानते हैं षटतिला एकादशी के बारे में।

Also Read : Mesh Rashi : मेष राशि के जातक करें नमक का ये अचूक उपाय, बन जाएंगे आपके सभी बिगड़े काम


षटतिला एकादशी शुभ मुहूर्त

षटतिला एकादशी 07 फरवरी को मनाई जाएगी।

एकादशी तिथि प्रारंभ : 07 फरवरी 2021, सुबह 06:26 बजे से

एकादशी तिथि समाप्त : 08 फरवरी 2021, सुबह 04:47 बजे

व्रत पारण का समय: 08 फरवरी 2021, सुबह 07:50 बजे से 09:17 बजे तक

Also Read : Fengshui Tips : एक क्लिक में जानें नीले हाथी और गैंडा को घर में रखने के ये फायदे

षटतिला एकादशी का महत्व

इस दिन के लिए तिल बहुत ही महत्वपूर्ण होता है। इस दिन तिल का दान और तिल का अधिक से अधिक सेवन करना तथा तिल प्रयोग में लाना शुभ फलदायी माना जाता है। इस दिन तिल का इस्तेमाल करने से पापों का नाश होता है। और व्यक्ति को बैकुंठ धाम की प्राप्ति होती है। इस दिन स्नान आदि में भी तिल का इस्तेमाल किया जाता है। और इस दिन तिल से आहुति, तर्पण, दान और खाने में भी तिल का प्रयोग किया जाता है। जो व्यक्ति षटतिला एकादशी का व्रत करता है उसे वाचिक, मानसिक और शारीरिक पापों से मुक्ति मिलती है। इस दिन व्यक्ति को श्रृद्धापूर्वक तिल का प्रयोग करना चाहिए।

Next Story