Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

shardiya navratri 2020: जानिए कब से कब तक हैं अष्टमी, नवमी और दशमी तिथि

shardiya navratri 2020: नवरात्रि पर्व के दौरान अष्टमी और नवमी तिथि का विशेष महत्व होता है। नवरात्रि के दौरान प्रतिपदा तिथि के दिन कलश स्थापना और माता की चौकी सजाने के बाद नवरात्रि व्रत का श्रीगणेश हो जाता है। और अष्टमी और नवमी तिथि को नवरात्रि व्रत संपन्न हो जाते हैं।

shardiya navratri 2020: जानिए कब से कब तक हैं अष्टमी, नवमी और दशमी तिथि
X

shardiya navratri 2020: नवरात्रि पर्व के दौरान अष्टमी और नवमी तिथि का विशेष महत्व होता है। नवरात्रि के दौरान प्रतिपदा तिथि के दिन कलश स्थापना और माता की चौकी सजाने के बाद नवरात्रि व्रत का श्रीगणेश हो जाता है। और अष्टमी और नवमी तिथि को नवरात्रि व्रत संपन्न हो जाते हैं। यानि कि कलश स्थापना 17 अक्टूबर 2020, दिन शनिवार को होगा। अर्थात शनिवार (कल) नवरात्रि आरंभ हो जाएंगी। और अष्टमी की पूजा भी शनिवार यानि कि 24 अक्टूबर 2020 को होगी। 24 अक्टबूर 2020, शनिवार को अष्टमी तिथि दिन के 11:28 बजे तक रहेगी। तो जितने भी प्रकार के धार्मिक अनुष्ठान जिनका पालन आप अष्टमी तिथि के लिए कर रहे हैं। तो उसमें समय का ध्यान जरुर रखें। क्योंकि 24 अक्टूबर 2020, दिन शनिवार को दिन के 11:28 बजे के बाद नवमी तिथि प्रारंभ हो जाएगी। इसलिए अष्टमी तिथि के अनुष्ठान आदि आप 11:28 बजे से पहले ही संपन्न कर लें। कई प्रकार की तांत्रिक पूजा भी लोग अष्टमी तिथि पर करते हैं तो ऐसे लोग समय का विशेष ध्यान रखें। तथा इसी प्रकार नवमी तिथि रविवार 25 अक्टूबर 2020 को दिन के 11:14 बजे तक रहेगी। इसलिए आप नवमी तिथि के दिन किए जाने वाली पूजा-पाठ, हवन, अनुष्ठान आदि 25 अक्टूबर 2020, दिन रविवार को 11:14 बजे से पहले ही प्रारंभ कर लें। और नीयत समय में ही अपने अनुष्ठान आदि को संपन्न करने की कोशिश करें। नवमी के दिन भी तांत्रिक क्रियाएं करने वाले लोगों को भी इस दिन समय का विशेष ध्यान रखना चाहिए। और दिन के 11:14 बजे से पहले-पहले ही नवमी की पूजा आपको संपन्न कर लेनी चाहिए। क्योंकि रविवार को 11:14 बजे के बाद दशमी तिथि आरंभ हो जाएगी। लेकिन विजयादशमी का पर्व 26 अक्टूबर 2020, दिन सोमवार को मनाया जाएगा। क्योंकि सोमवार 26 अक्टूबर 2020 को दिन के 11:33 बजे तक दशमी तिथि रहेगी। और 26 अक्टूबर 2020, दिन सोमवार को सूर्योदय दशमी तिथि में होगा। तो तिथि के अनुसार विजयादमी का पर्व उसी दिन मनाया जाएगा। लेकिन अगर कुछ कार्य ऐसा है जो दशमी तिथि की शाम को किया जाता है। तो वो कार्य रविवार 25 अक्टूबर 2020 को ही किया जाएगा। क्योंकि उस दिन शाम को दशमी तिथि प्रवेश कर जाएगी। इसलिए दशमी तिथि का जो भी कार्य है उसे आप 25 अक्टूबर 2020, दिन रविवार को दिन के 11:14 बजे के बाद आप कर सकते हैं। वैसे 26 अक्टूबर 2020, दिन सोमवार को भी दशमी तिथि दोपहर 11:33 बजे रहेगी। तो जो भी कार्य आप दशमी तिथि में करना चाहते हैं उसे 26 अक्टूबर 2020, दिन सोमवार को 11:33 बजे से पहले-पहले करने की कोशिश करें। मां दुर्गा का विसर्जन भी रविवार, 25 अक्टूबर 2020 को शाम के समय में किया जाएगा। क्योंकि उस समय दशमी तिथि रहेगी। और कुछ स्थानों पर अगले दिन 26 अक्टूबर को मां दुर्गा का विसर्जन किया जाएगा। क्योंकि उस दिन भी दशमी तिथि है।

Next Story