Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

shardiya navratri 2020: मां ब्रहमचारिणी को प्रसन्न करने की पूजाविधि, मंत्र, उपाय, आप भी जानें

shardiya navratri 2020: नवरात्रि के नौ दिन मां दुर्गा नौ स्वरूपों को समर्पित हैं। नवरात्रि के हर दिन हम मां दुर्गा के एक स्वरूप की पूजा करते हैं। नवरात्रि का दूसरा दिन मां ब्रह्मचारिणी की अराधना का दिन है।

shardiya navratri 2020: मां ब्रहमचारिणी को प्रसन्न करने की पूजाविधि, मंत्र, उपाय, आप भी जानें
X

shardiya navratri 2020: नवरात्रि के नौ दिन मां दुर्गा नौ स्वरूपों को समर्पित हैं। नवरात्रि के हर दिन हम मां दुर्गा के एक स्वरूप की पूजा करते हैं। नवरात्रि का दूसरा दिन मां ब्रह्मचारिणी की अराधना का दिन है। तो आइए आप भी जानें मां ब्रह्मचारिणी की पूजा- अराधना विधि, मां ब्रह्मचारिणी की पूजा -अराधना में आप क्या करेंगे। मां ब्रह्मचारिणी का मंत्र, मां ब्रह्मचारिणी का उपाय जिससे मां ब्रह्मचारिणी प्रसन्न हो जाएं। और आपको सुख, समृद्धि और ऐश्वर्य का वरदान दें। जिससे आप अपने यश और पराक्रम में वृद्धि कर सकते हैं।

माता पार्वती ने भगवान शिव को पति के रूप में प्राप्त करने के लिए कई हजार वर्ष तक ब्रह्मचारी रहकर घोर तपस्या की थी। जिसकी वजह से उनका नाम ब्रह्मचारिणी पड़ा। माता ब्रह्मचारिणी श्वेत वस्त्र धारण करती हैं। उनके दाहिने हाथ में जप माला और बांये हाथ में कमंडल सुशोभित है। शिवपुराण और रामचरित मानस में भी लिखा है कि मां पार्वती ने भगवान शिव को पति के रूप में प्राप्त करने के लिए एक हजार वर्षों तक फलों का सेवन कर तप किया था। और उसके बाद तीन हजार वर्षों तक वृक्षों की पत्तियों का सेवन करके तपस्या की। इतनी कठोर तपस्या के बाद ही मां पार्वती को मां ब्रह्मचारिणी का स्वरूप प्राप्त हुआ था। माता ब्रह्मचारिणी के मंत्रों का जप कर उनके भक्त मनचाही इच्छा पूरी होने का वरदान प्राप्त करते हैं।

मां ब्रह्मचारिणी की पूजा-आराधना

मां ब्रह्मचारिणी की पूजा-अराधना आप नवरात्रि के दूसरे दिन विधि-विधान से करते हैं। विधि-विधान के अनुसार अगर आपने अपने घर में घटस्थापना की है तब भी आप मां ब्रह्मचारिणी की पूजा कर सकते हैं, और अगर आपके घर में मां नवदुर्गा की, मां ब्रह्मचारिणी की कोर्इ भी तस्वीर है, माता पार्वती की कोई प्रतिमा है तो आप उनकी पूजा-आराधना कर सकते हैं। माता को चीनी का भोग लगाएं। मां ब्रह्मचारिणी को चीनी बहुत ही प्रिय है। और मां को भोग लगाने के बाद उस भोग को आपको किसी आचार्य, ब्राह्मण को दान में दे देना चाहिए। मां ब्रह्मचारिणी को लाल पुष्प पसंद हैं। आप मां ब्रह्मचारिणी को लाल पुष्प अर्पित करके प्रसन्न कर सकते हैं। मां ब्रह्मचारिणी की पूजा भी जैसे हम तमाम देवी-देवताओं की पूजा करते हैं वैसे ही मां ब्रह्मचारिणी को धूप-दीप, नेवैध्य अर्पित करें।

मां ब्रह्मचारिणी का मंत्र

दधाना करपद्याभ्यामक्ष्मालाकमण्डलु।

देवी प्रसीदतु मयि ब्रह्मचारिण्यनुत्तमां।

मां ब्रह्मचारिणी की पूजा से कुंडली में विराजमान जो बुरे ग्रह हैं, जिनकी दशा खराब चल रही होती है, वह ग्रह सुधर जाते हैं। और व्यक्ति के जीवन में मां की अराधना से अच्छे दिन आते हैं। यही नहीं मां ब्रह्मचारिणी की पूजा करने से भगवान भोलेनाथ प्रसन्न होते हैं और अपने भक्त की सभी इच्छाएं पूरी करते हैं।

उपाय

नवरात्रि के दूसरे दिन आप मां ब्रह्मचारिणी को सिन्दूर का चोला अर्पित करें। सिन्दूर का चोला अर्पित करने से ऐसा माना जाता है कि व्यक्ति के पराक्रम में वृद्धि होती है। अगर आप भी अपने पराक्रम में वृद्धि की कामना करते हैं तो मां ब्रह्मचारिणी के इस उपाय को जरुर करें।

Next Story