Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Shardiya Navratri 2020 : शारदीय नवरात्रि के बाद इस विधि से हटाएं मां दुर्गा की चौकी

Shardiya Navratri 2020 : शारदीय नवरात्रि (Shardiya Navratri) पर मां दुर्गा (Goddess Durga) के नौ रूपों की पूजा की जाती है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि नवरात्रि के समाप्त होने के बाद मां दुर्गा की चौकी को किस प्रकार से हटाना चाहिए। अगर नहीं तो आज हम आपको इसके बारे में बताएंगे तो चलिए जानते हैं शारदीय नवरात्रि के बाद कैसे हटाएं मां दुर्गा की चौकी।

Shardiya Navratri 2020 : शारदीय नवरात्रि के बाद इस विधि से हटाएं मां दुर्गा की चौकी
X

Shardiya Navratri 2020 : शारदीय नवरात्रि के बाद इस विधि से हटाएं मां दुर्गा की चौकी 

Shardiya Navratri 2020 : शारदीय नवरात्रि का त्योहार (Shardiya Navratri Festival) पूरे भारतवर्ष में बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है। नवरात्रि (Navratri) के पूरे नौ दिनों तक मां दुर्गा के नौ रूपों की विशेष आराधना की जाती है। लेकिन शारदीय नवरात्रि के समाप्त होने के बाद कई लोग मां दुर्गा की चौकी को ऐसे ही हटा देते हैं। जो नियमों के विरूद्ध माना जाता है तो आइए जानते हैं शारदीय नवरात्रि के बाद मां दुर्गा की चौकी हटाने की विधि।

नवरात्रि के बाद मां दुर्गा की चौकी हटाने की विधि (Navratri Ke Baad Maa Durga Ki chowki Hatane Ki Vidhi)

1. नवरात्रि पर नवमी तिथि को मां दुर्गा का विसर्जन बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए और न हीं मां दुर्गा की चौकी हटानी चाहिए। क्योंकि नवरात्रि के नौ दिनों तक माता को घर में ही विराजित किया जाता है।

2.दशमी तिथि के दिन ही मां दुर्गा की चौकी को हटाना चाहिए और नवरात्रि के तरह ही मां दुर्गा की पूजा करनी चाहिए।

3. सबसे पहले चौकी पर से कलश को हटाएं लेकिन उससे पहले कलश का नारियल उतार लें और कलश पर एक चावल की कटोरी रख लें और उस पर दीपक, धूप या अगरबत्ती अवश्य जलाएं। उसके बाद कलश के जल को तुलसी में अर्पित कर दें।

4.यदि आपने नवरात्रि पर ज्वार बोया है तो आप उसे मिट्टी सहित किसी थाली में रख लें।

5. इसके बाद नौ दिनों तक आपने जो माता पर फूल चढ़ाएं है। उन्हें भी इकट्ठा कर लें। पूजा के सभी समान को आप एक जगह पर इकट्ठा कर लें।

6.नवरात्रि पर आपने जो भी पूजा का सामान इकट्ठा किया है। उसे किसी पवित्र नदी,तालाब या सरोबर में विसर्जित कर दें।

7.नवरात्रि का सभी समान विसर्जित कराने के बाद माता के चित्र या मूर्ति को वापस वहीं पर रख दिजिए जहां से आपने उसे उठाया था।

8. इसके बाद चौकी पर से कपड़ा उठा लें। अगर आपने उस कलश में चावल को रखे हैं तो उस चावल को उठाकर अपने खाने के अन्न में मिला लिजिए। ऐसा करने से घर में कभी भी अन्न की कमीं नही होती।

9. चौकी पर से कपड़ा हटाने के बाद उस जगह पर एक दीपक जला दें और फूल चढ़ा दें। क्योंकि माता के स्थान को खाली रखना अशुभ माना जाता है।

10.इसके बाद माता पर चढ़ाए गए हल्दी, सुपारी और पैसों को अपनी तिजोरी में रख लें। माना जाता है कि ऐसा करने से आपके घर में कभी भी पैसों की कोई कमीं नहीं होगी।

Next Story