Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सावन के महीने में महाकालेश्वर, सोमनाथ में भक्त कर सकेंगे दर्शन, देखिए किन लोगों को नहीं मिलेगी एंट्री

Sawan Month 2020 : आपको बता दें कि अभी 12 ज्योतिर्लिंग में से 6 को लेकर स्थिति साफ नहीं हो पाई है कि सावन के महीने में ये बंद रहेंगे, या इन्हे भक्त जनों के लिए खोला जाएगा। 6 जुलाई से शुरू हो रहे सावन महीने की समापन तिथि 3 अगस्त है। इस वर्ष सावन महीने की पहली और अंतिम तिथि दोनों सोमवार के दिन पड़ रही है।

सावन में महाकालेश्वर, सोमनाथ में भक्त कर सकेंगे दर्शन, इन 6 ज्योतिर्लिंग पर अभी फैसला नहींसावन में महाकालेश्वर, सोमनाथ में भक्त कर सकेंगे दर्शन

6 जुलाई से इस वर्ष सावन महीना शुरू हो रहा है, लेकिन इस बार सावन का महीना थोड़ा अलग होने वाला है। प्रत्येक वर्ष सावन के महीने में देशभर में स्थित 12 ज्योतिर्लिंग में भक्तों की भारी भीड़ दर्शन को आती है, लेकिन इस वर्ष कोरोना की वजह से स्थिति थोड़ी बदली हुई है।

12 में 6 ज्योतिर्लिंग में दर्शन की व्यवस्था शुरू हो गई है। जिन मंदिरों में दर्शन की व्यवस्था शुरू हो गई है, वो निम्न हैं - उज्जैन में स्थित महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग, गुजरात में स्थित सोमनाथ ज्योतिर्लिंग, गुजरात में स्थित नागेश्वर मंदिर, हैदराबाद में स्थित मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग, खंडवा स्थित ओंकारेश्वर, बनारस स्थित कशी विश्वनाथ ज्योतिर्लिंग है।

6 ज्योतिर्लिंग पर स्थिति स्पष्ट नहीं

आपको बता दें कि अभी 12 ज्योतिर्लिंग में से 6 को लेकर स्थिति साफ नहीं हो पाई है कि सावन के महीने में ये बंद रहेंगे, या इन्हे भक्त जनों के लिए खोला जाएगा। 6 जुलाई से शुरू हो रहे सावन महीने की समापन तिथि 3 अगस्त है। इस वर्ष सावन महीने की पहली और अंतिम तिथि दोनों सोमवार के दिन पड़ रही है।

भक्तों को ऑनलाइन करवाना होगा रजिस्ट्रेशन

मंदिर में कोरोना को देखते हुए कुछ नए नियम बनाए गए हैं, जिन्हे भक्तों को पूरी तरह पालन करना होगा। मंदिर में प्रवेश करने वाले सभी भक्तों को सोशल डिस्टेंसिंग के पालन के साथ मास्क पहनना अनिवार्य होगा। वहीं मंदिरों में पूजा करने के अनुमति नहीं बल्कि सिर्फ दर्शन करने की अनुमति होगी।

आपको बता दें कि इन सभी ज्योतिर्लिंग की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर लोगों को ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करवाना होगा, इसके बाद जिस टाइम पर दर्शन का समय दिया जाएगा तभी जाकर भक्त दर्शन कर पाएंगे। आपको बता दें कि 10 वर्ष की आयु से छोटे और 65 वर्ष से अधिक के उम्र के लोगों को मंदिर में एंट्री नहीं मिल सकेगी।

Next Story
Top