Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सर्व पितृ अमावस्या पर श्रद्धा भाव से करें पितरों को विदा

sarva-pitru-amavasya 2020 : पितृ पक्ष में श्राद्ध करके सर्व पितृ अमावस्या के दिन सूर्यास्त के समय पितरों की पूर्ण आदर और श्रद्धा से विदाई अवश्य की जानी चाहिए। इसमें शास्त्रीय विधानानुसार सूर्यास्त के समय गंगा नदी के तट पर चौदह दीप प्रज्वलित कर पितृों का ध्यान करते हुए स्मरण करना चाहिए। इसके बाद दक्षिण दिशा की ओर मुंह कर दीपों को गंगा में प्रवाहित कर पितरों से अपनी जाने-अनजाने में हुई गलतियों की क्षमा मांगते हुए उनकी विदाई करनी चाहिए।

सर्व पितृ अमावस्या पर श्रद्धा भाव से करें पितरों को विदा
X
प्रतीकात्मक तस्वीर

sarva-pitru-amavasya 2020 : पितृ पक्ष में श्राद्ध करके सर्व पितृ अमावस्या के दिन सूर्यास्त के समय पितरों की पूर्ण आदर और श्रद्धा से विदाई अवश्य की जानी चाहिए। इसमें शास्त्रीय विधानानुसार सूर्यास्त के समय गंगा नदी के तट पर चौदह दीप प्रज्वलित कर पितृों का ध्यान करते हुए स्मरण करना चाहिए। इसके बाद दक्षिण दिशा की ओर मुंह कर दीपों को गंगा में प्रवाहित कर पितरों से अपनी जाने-अनजाने में हुई गलतियों की क्षमा मांगते हुए उनकी विदाई करनी चाहिए।


हिन्दु धर्मशास्त्रों के अनुसार सनातन धर्म में पीपल का बहुत ही विशेष स्थान है। मान्यताओं के अनुसार पीपल में 33 कोटि देवी-देवताओं का वास माना गया है। गीता में भगवान वासुदेव ने भी कहा है कि वृक्षों में मैं पीपल हूं। पीपल में हमारे पितरों का भी वास माना गया है इसलिए श्राद्ध पक्ष में तो पीपल के वृक्ष का और भी अधिक महत्व है।

इसलिए गंगा या किसी अन्य पवित्र नदी का तट नहीं होने की स्थिति पर आप पीपल के वृक्ष के चारों ओर दीप प्रज्वलित करके दक्षिण दिशा की ओर मुंह कर पितरों का स्मरण करते हुए उनकी विदाई करें।


वैसे तो पितृ पक्ष के श्राद्ध की महिमा अपार है, लेकिन जो भी व्यक्ति अपने दिवंगत माता-पिता, दादी -दादा, परदादा, नाना, नानी आदि का इन 16 श्राद्धों में व्रत उपवास रखकर या श्राद्ध के दिन ब्राह्मण को पूर्ण श्रद्धा से भोजन कराकर दक्षिणा देते हैं, नित्य अपने पूर्वजों का तर्पण करते है उनके घर भगवान विष्णु और देवी लक्ष्मी सदैव ही विराजमान रहती हैं। अर्थात वे सदैव ही सुख, सौभाग्य धन धान्य से परिपूर्ण रहते हैं। अत: इस धरती में सभी व्यक्तियों को इन दिनों में अपने कर्तव्यों का अवश्य अवश्य ही पालन करना चाहिए ।

Next Story
Top