Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Ratha Saptami 2022: रथ सप्तमी के दिन करें इन मंत्रों का जाप तो सूर्यदेव होंगे प्रसन्न, जानें आरोग्य सप्तमी की पूजा विधि

Ratha Saptami 2022: रथ सप्तमी के दिन साक्षात भगवान सूर्यदेव की पूजा की जाती है। कहा जाता है कि, यह वहीं दिन है जब भगवान सूर्य नारायण सृष्टि में ऊर्जा का संचार करने के लिए पहली बार रथ पर सवार हुए और तभी से संपूर्ण जगत को अपने प्रकाश से प्रकाशित कर रहे हैं।

Gochar 2022: सूर्य ने 16 जुलाई को किया कर्क राशि में प्रवेश, अब हो सकती हैं कुछ अप्रत्याशित घटनाएं
X

Ratha Saptami 2022: रथ सप्तमी के दिन साक्षात भगवान सूर्यदेव की पूजा की जाती है। कहा जाता है कि, यह वहीं दिन है जब भगवान सूर्य नारायण सृष्टि में ऊर्जा का संचार करने के लिए पहली बार रथ पर सवार हुए और तभी से संपूर्ण जगत को अपने प्रकाश से प्रकाशित कर रहे हैं। वहीं माघ शुक्ल सप्तमी को अचला सप्तमी, रथ सप्तमी, आरोग्य सप्तमी, भानु सप्तमी, अर्क सप्तमी आदि अनेक नामों से भी जाना जाता है। 07 फरवरी 2022, दिन सोमवार को रथ सप्तमी मनायी जाएगी। इस दिन व्रत रखकर सूर्यदेव को प्रसन्न किया जाता है और उनकी कृपा प्राप्त होती है। तो आइए जानते हैं रथ सप्तमी पूजा विधि और सूर्यदेव के उन मंत्रों के बारे में जिनसे भगवान सूर्य शीघ्र प्रसन्न होते हैं और आपको दीर्घायु, उत्तम स्वास्थ्य और धन-धान्य का वरदान दे सकते हैं।

ये भी पढ़ें: Ratha Saptami 2022: माघ शुक्ल सप्तमी के दिन पहली बार रथ पर बैठे थे सूर्य भगवान, जानें रथ सप्तमी का ये महत्व

रथ सप्तमी पूजा विधि

रथ सप्तमी के दिन सुबह ब्रह्म मुहूर्त में उठकर शौच आदि क्रियाओं से निवृत होकर स्नान करें, अगर हो सके तो इस दिन किसी पवित्र नदी अथवा कुंड या सरोवर में स्नान करें। इसके बाद उगते हुए सूर्य को जल में लाल पुष्प, तिल और गुड़ मिलाकर अर्घ्य दें। धूप-दीप जलाकर भगवान सूर्य को दिखाएं। गरीब लोगों को अपनी सामर्थ्य के अनुसार दान दें। जरुरतमंदों को भोजन कराएं और पूरे दिन व्रत रखकर भगवान सूर्य का ध्यान करें। दिन में एक समय बिना नमक का भोजन करें। सूर्यदेव की आरती, चालीसा और आदित्य हृदय स्त्रोत का पाठ करें।

भगवान सूर्य के मंत्र

1. ॐ घृ‍णिं सूर्य्य: आदित्य:

2. ॐ ह्रीं ह्रीं सूर्याय सहस्रकिरणराय मनोवांछित फलम् देहि देहि स्वाहा।।

3. ॐ ऐहि सूर्य सहस्त्रांशों तेजो राशे जगत्पते, अनुकंपयेमां भक्त्या, गृहाणार्घय दिवाकर:।

4. ॐ ह्रीं घृणिः सूर्य आदित्यः क्लीं ॐ ।

5. ॐ ह्रीं ह्रीं सूर्याय नमः ।

6. ॐ सूर्याय नम: ।

7. ॐ घृणि सूर्याय नम: ।

(Disclaimer: इस स्टोरी में दी गई सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं। Haribhoomi।com इनकी पुष्टि नहीं करता है। इन तथ्यों को अमल में लाने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

और पढ़ें
Next Story