Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

श्री राम चरित मानस के इस मंत्र से किसी को भी वश में कर सकते हैं आप, जानें मंत्र की प्रयोग विधि

हिन्दू धर्म शास्त्रों में अनेक मंत्र बताए गए गए। वहीं उन मंत्रों को प्रयोग करने की विधि और मंत्र को किसलिए प्रयोग करना है। तथा मंत्र प्रयोग से होने वाले लाभ और हानि के विषय में भी विस्तार से बताया गया है। इसी तरह धर्म शास्त्रों आदि में किसी पुरूष अथवा महिला को वश में करने वाले भी अनेक मंत्र बताए गए है।

श्री राम चरित मानस के इस मंत्र से किसी को भी वश में कर सकते हैं आप, जानें मंत्र की प्रयोग विधि
X
प्रतीकात्मक

हिन्दू धर्म शास्त्रों में अनेक मंत्र बताए गए गए। वहीं उन मंत्रों को प्रयोग करने की विधि और मंत्र को किसलिए प्रयोग करना है। तथा मंत्र प्रयोग से होने वाले लाभ और हानि के विषय में भी विस्तार से बताया गया है। इसी तरह धर्म शास्त्रों आदि में किसी पुरूष अथवा महिला को वश में करने वाले भी अनेक मंत्र बताए गए है।

किसी भी व्यक्ति को आकर्षित करने वाला यह प्रभावशाली वशीकरण प्रयोग है। आकर्षित करने वाले इस पावन मंत्र को निश्चित समय में किया जाता है। यह अमोघ मंत्र है, जो कि आकर्षित करने की क्षमता को प्रदान करता है। वैसे तो वशीकरण के तमाम मंत्र हिन्दू धर्म शास्त्रों में मौजूद हैं, जो निश्चित तौर पर प्रभावशाली भी हैं, लेकिन श्रीराम चरित मानस से सम्बन्धित जो मंत्र हम आपको बताने जा रहे हैं, वह नि:संदेह आपकी मनोकामना को सिद्ध करेगा।


किसी दूसरे को आकर्षित करने की क्षमता प्रदान करने वाला यह मंत्र आपके लक्ष्य की प्राप्ति में निश्चित तौर पर सहायक सिद्ध होगा। लेकिन इस मंत्र का प्रयोग धर्म के कार्य के लिए होना चाहिए। अधर्म के कार्यों के लिए बिलकुल किसी भी मंत्र का प्रयोग नहीं करना चाहिए। वैसे तो धर्मरत व्यक्ति के सारे कार्य स्वयं ही सिद्ध हो जाते हैं। लेकिन उस व्यक्ति के पास ऐसे सिद्ध मंत्र हों तो उस व्यक्ति के सारे मनोरथ पूर्ण हो जाते हैं।

श्रीराम चरित मानस का प्रसिद्ध मंत्र

रंगभूमि जब सिय पगु धारी।

देखि रूप मोहे नर-नारी।।

ऐसे करें प्रयोग

नवरात्रि के नौ दिनों में प्रतिदिन इस मंत्र का 11०० बार जाप करें। जब किसी को आकर्षित करना हो तो इस मंत्र को 108 बार पढ़कर गोरोचन का टीका लगा लें। इस मंत्र का प्रयोग वशीकरण के लिए होता है। इस मंत्र के प्रयोग से वशीकरण की अद्भुत शक्ति साधक के पास आ जाती है, जो कि अनायास ही उस साधक को आकर्षक बनाती है।

Next Story