Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Radha Ashtami 2021: राधा अष्टमी के दिन व्रत में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं, जानें...

Radha Ashtami 2021: भादों मास के शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि सनातन धर्म में बेहद खास मानी जाती है। हिन्दू धर्म शास्त्रों के अनुसार, इस दिन भगवान श्रीकृष्ण की प्रियतमा श्री राधारानी का जन्म हुआ था। इसीलिए इस तिथि को राधा अष्टमी के नाम से जानते हैं। जन्माष्टमी से ठीक 15 दिन बाद राधा अष्टमी पड़ती है। जैसे राधा के बिना श्याम अधूरे हैं, ठीक वैसे ही राधा अष्टमी के व्रत के बिना जन्माष्टमी का व्रत अधूरा है।

Radha Ashtami 2021: राधा अष्टमी के दिन व्रत में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं, जानें...
X

Radha Ashtami 2021: भादों मास के शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि सनातन धर्म में बेहद खास मानी जाती है। हिन्दू धर्म शास्त्रों के अनुसार, इस दिन भगवान श्रीकृष्ण की प्रियतमा श्री राधारानी का जन्म हुआ था। इसीलिए इस तिथि को राधा अष्टमी के नाम से जानते हैं। जन्माष्टमी से ठीक 15 दिन बाद राधा अष्टमी पड़ती है। जैसे राधा के बिना श्याम अधूरे हैं, ठीक वैसे ही राधा अष्टमी के व्रत के बिना जन्माष्टमी का व्रत अधूरा है।

ये भी पढ़ें : Lal Kitab: पैसों को चुंबक की तरह खींचता है ये पौधा, जानें इसके और भी फायदे

मान्यताओं के अनुसार, जो भक्त राधा अष्टमी के दिन व्रत रखता है और विधि पूर्वक भक्ति भाव से राधा कृष्ण की पूजा-अर्चना करता है। उसे जन्माष्टमी के व्रत का पूर्ण लाभ मिलता है। ऐसे में हम आपको बता दें कि, राधा अष्टमी के व्रत के दिन आप सिर्फ एक बार ही फलाहार कर सकते हैं और साथ ही यह व्रत निर्जला नहीं रखा जाता है। ध्यान रखें कि, राधा अष्टमी के दिन सुबह में जूस या फल आदि का सेवन कर सकते हैं। वहीं पूजा संपन्न होने के बाद ही आप सेंधा नमक के साथ फलाहार का सेवन करें। वहीं आप राधा अष्टमी व्रत के पारण के बाद ही अन्न का सेवन करें।

ये भी पढ़ें : Radhashtami 2021 : राधा अष्टमी व्रत आज, श्रीराधारानी के भोग में रखें ये चीज, और ऐसे करें श्रृंगार तथा पूजन, जानें...

वहीं राधारानी और कन्हैया जी को अरबी बहुत पसंद हैं। इसीलिए राधा अष्टमी के दिन उन्हें अरबी की सब्जी या अरबी से बनी मिठाई आदि का भोग 56 प्रकार के व्यंजनों के साथ या अपनी क्षमता के अनुसार लगाया जाता है। राधारानी और कन्हैया जी के लिए पान का भोग जरुर लगाएं।

राधा अष्टमी के अवसर पर दिन में श्रीराधारानी और कन्हैया जी की कथाएं सुनें। और रात को इनके नाम का अपने घर में जागरण-कीर्तिन आदि करें। राधा अष्टमी के दिन दंपति को व्रत अवश्य रखना चाहिए। अगर किसी कारण वश व्रत नहीं रख पाते हैं तो पूरे मन से उनका पूजन करें। इस दिन राधारानी के लिए तुलसी का पत्ता अवश्य अर्पित करें।

(Disclaimer: इस स्टोरी में दी गई सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं। Haribhoomi.com इनकी पुष्टि नहीं करता है। इन तथ्यों को अमल में लाने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Next Story