Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Kalashtami 2021 : फाल्गुन मास की कालाष्टमी पर एक क्लिक कर करें श्रीमहाकाल भैरवाष्टक का पाठ, मिलेगा महादेव का आशीर्वाद

  • श्रीमहाकाल भैरवाष्टक (Shrimahakal Bhairavashtak) का पाठ करने से मिलती है सभी प्रकार के संकटों से मुक्ति
  • शिव कृपा (Shiva kripa) प्राप्त करने का मुख्य साधन है श्रीमहाकाल भैरवाष्टक का पाठ

Kalashtami 2021 : फाल्गुन मास की कालाष्टमी पर एक क्लिक कर करें श्रीमहाकाल भैरवाष्टक का पाठ, मिलेगा महादेव का आशीर्वाद
X

Kalashtami 2021 : प्रत्येक माह की कालाष्टमी (Kalashtami) के दिन भगवान शिव (Lord Shiva) के कालभैरव (Kaal Bhairav) रूप की पूजा करने का विधान है। भगवान कालभैरव साक्षात महाकाल भगवान शिव के अवतार हैं। महाकाल भगवान शिव शंकर की कई रूपों में पूजा की जाती है जिनमें कालभैरव का स्वरूप प्रमुख माना जाता है। कालाष्टमी के अवसर पर भगवान श्रीमहाकाल (Shrimahakal) का आशीर्वाद और कृपा पाने के लिए लोग उनकी विधि-विधान से पूजा-अर्चना करते हैं। तो आइए आप भी इस फाल्गुन मास की पवित्र कालाष्टमी के अवसर पर श्रीमहाकाल भैरवाष्टक का पाठकर भगवान शिव का आशीर्वाद प्राप्त करें जिससे आपके सभी संकट दूर हो जाएं।

ये भी पढ़ें : Pradosh Vrat 2021 : ऐसे करें बुध प्रदोष व्रत में महादेव की पूजा, मिलेगा सुख और ऐश्वर्य का आशीर्वाद


श्रीमहाकाल भैरवाष्टक

यं यं यं यक्षरूपं दशदिशिविदितं भूमिकम्पायमानं

सं सं संहारमूर्तिं शिरमुकुटजटा शेखरंचन्द्रबिम्बम्।

दं दं दं दीर्घकायं विक्रितनख मुखं चोर्ध्वरोमं करालं

पं पं पं पापनाशं प्रणमत सततं भैरवं क्षेत्रपालम् ॥

रं रं रं रक्तवर्णं, कटिकटिततनुं तीक्ष्णदंष्ट्राकरालं

घं घं घं घोष घोषं घ घ घ घ घटितं घर्झरं घोरनादम्।

कं कं कं कालपाशं द्रुक् द्रुक् दृढितं ज्वालितं कामदाहं

तं तं तं दिव्यदेहं, प्रणामत सततं, भैरवं क्षेत्रपालम् ॥

लं लं लं लं वदन्तं ल ल ल ल ललितं दीर्घ जिह्वा करालं

धूं धूं धूं धूम्रवर्णं स्फुट विकटमुखं भास्करं भीमरूपम्।

रुं रुं रुं रूण्डमालं, रवितमनियतं ताम्रनेत्रं करालम्

नं नं नं नग्नभूषं , प्रणमत सततं, भैरवं क्षेत्रपालम् ॥

वं वं वायुवेगं नतजनसदयं ब्रह्मसारं परन्तं

खं खं खड्गहस्तं त्रिभुवनविलयं भास्करं भीमरूपम् ।

चं चं चलित्वाऽचल चल चलिता चालितं भूमिचक्रं

मं मं मायि रूपं प्रणमत सततं भैरवं क्षेत्रपालम् ॥

शं शं शं शङ्खहस्तं, शशिकरधवलं, मोक्ष सम्पूर्ण तेजं

मं मं मं मं महान्तं, कुलमकुलकुलं मन्त्रगुप्तं सुनित्यम् ।

यं यं यं भूतनाथं, किलिकिलिकिलितं बालकेलिप्रदहानं

आं आं आं आन्तरिक्षं , प्रणमत सततं, भैरवं क्षेत्रपालम् ॥

खं खं खं खड्गभेदं, विषममृतमयं कालकालं करालं

क्षं क्षं क्षं क्षिप्रवेगं, दहदहदहनं, तप्तसन्दीप्यमानम् ।

हौं हौं हौंकारनादं, प्रकटितगहनं गर्जितैर्भूमिकम्पं

बं बं बं बाललीलं, प्रणमत सततं, भैरवं क्षेत्रपालम् ॥

वं वं वं वाललीलं सं सं सं सिद्धियोगं, सकलगुणमखं,

देवदेवं प्रसन्नं पं पं पं पद्मनाभं, हरिहरमयनं चन्द्रसूर्याग्नि नेत्रम् ।

ऐं ऐं ऐं ऐश्वर्यनाथं, सततभयहरं, पूर्वदेवस्वरूपं

रौं रौं रौं रौद्ररूपं, प्रणमत सततं, भैरवं क्षेत्रपालम् ॥

हं हं हं हंसयानं, हसितकलहकं, मुक्तयोगाट्टहासं, ?

धं धं धं नेत्ररूपं, शिरमुकुटजटाबन्ध बन्धाग्रहस्तम् ।

तं तं तंकानादं, त्रिदशलटलटं, कामगर्वापहारं,

भ्रुं भ्रुं भ्रुं भूतनाथं, प्रणमत सततं, भैरवं क्षेत्रपालम् ॥

ये भी पढ़ें : Jyotish Shastra : सभी मुहूर्त शुभ नहीं होते, जानिए किस वार, माह, तिथि और नक्षत्र में बनाएं अपना मकान

दोहा

नमो भूतनाथं नमो प्रेतनाथं नमः कालकालं नमः रुद्रमालम् ।

नमः कालिकाप्रेमलोलं करालं नमो भैरवं काशिका क्षेत्रपालम् ॥

(Disclaimer: इस स्टोरी में दी गई सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं। Haribhoomi.com इनकी पुष्टि नहीं करता है। इन तथ्यों को अमल में लाने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Next Story