Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Nirjala Ekadashi 2021 : निर्जला एकादशी के दिन ऐसा क्‍या दान करें जिससे खुल जाएं आपके सुख-सौभाग्य के द्वार, जानें...

  • एक साल में 24 एकादशी (Ekadashi) होती हैं।
  • एकादशी के दिन भगवान विष्णु (Lord Vishnu) की पूजा की जाती है।
  • जानें, निर्जला एकादशी की दान सामग्री

Nirjala Ekadashi 2021 : निर्जला एकादशी व्रत के पारण में ना करें ये गलतियां, हो जाता है नुकसान
X

Nirjala Ekadashi 2021 : एक साल में 24 एकादशी (Ekadashi) होती हैं और एकादशी के दिन भगवान विष्णु (Lord Vishnu) की पूजा की जाती है। वहीं प्रत्येक एकादशी का अपना एक अलग ही महत्व होता है। परन्तु निर्जला एकादशी व्रत करने वाले व्रती को साल की बाकी जो 23 एकादशी होती हैं उनके व्रत करने के पुण्य के बराबर पुण्य की प्राप्ति होती है। यह एकादशी ग्रीष्मकाल में पड़ती है। इसलिए निर्जला एकादशी का दान यानी ग्रीष्म काल में किया जाने वाला दान बहुत ही पुण्य और प्रभावशाली माना जाता है। इस साल निर्जला एकादशी 21 जून 2021 को पड़ रही है। निर्जला एकादशी को पांडव एकादशी और भीमसेनी एकादशी भी कहा जाता है। यह व्रत करने से व्यक्ति की दीर्घायु, आयु, संतान, सुख-संपत्ति की प्राप्ति होती है। इसलिए इसे भीमसेनी एकादशी भी कहा जाता है। तो आइए निर्जला एकादशी के दिन ऐसा क्या करें जिससे अक्षय पुण्य की प्राप्ति हो सके।

ये भी पढ़ें : Ganga Dussehra 2021 : ज्येष्ठ शुक्ल दशमी के दिन इस शुभ मुहूर्त में गंगा दशहरा स्तोत्र का पाठ कर करें मां भगीरथी को प्रसन्न

निर्जला एकादशी का दान

  • निर्जला एकादशी चूंकि यह ज्येष्ठ मास में पड़ती है , इस दौरान गर्मी की तपन के कारण हमें शीतलता प्रदान करने वाली वस्तुओं का दान करना चाहिए। क्योंकि गर्मी के कारण ऐसी वस्तुओं का दान करना इस दौरान सबसे शुभ माना जाता है।
  • ज्येष्ठ मास में तेज गर्मी पड़ती है और सूर्य अपने पूरे उफान पर होता है। इसलिए निर्जला एकादशी पर गर्मी में राहत दिलाने वाले पदार्थों का दान करना बहुत ही शुभ माना जाता है।
  • निर्जला एकादशी के दिन सुयोग्य ब्राह्मणों को जूते और चप्पल दान देना भी शुभ माना जाता है। जूते दान करने वाला व्यक्ति सोने के विमान में बैठकर स्वर्ग लोक को जाता है।
  • इस व्रत में अन्न दान, छाता दान, बिस्तर दान, वस्त्र दान का भी अपना ही एक अलग महत्व होता है।
  • निर्जला एकादशी का व्रत करने से व्यक्ति को परम पुण्य की प्राप्ति होती है।
  • इस दिन चना और गुड़ का दान करना भी अत्यंत लाभकारी होता है।
  • वहीं इस दिन जूते, छाता और पंखा का दान करना भी शुभ माना जाता है।
  • निर्जला एकादशी के दिन आम और खरबूजे दान करना भी परम पुण्यकारी माना जाता है।

(Disclaimer: इस स्टोरी में दी गई सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं। Haribhoomi।com इनकी पुष्टि नहीं करता है। इन तथ्यों को अमल में लाने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Next Story