Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Naam saptami Vrat 2021 : जानिए कब है नाम सप्तमी व्रत 2021, इस दिन भूलकर भी ना करें ये काम

  • नाम सप्तमी चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को मनायी जाती है।
  • साल 2021 में 19 अप्रैल 2021 को सोमवार के दिन नाम सप्तमी व्रत रखा जाएगा।

Naam saptami Vrat 2021 : नाम सप्तमी व्रत 2021 कब है, इस दिन क्या ना करें, जानें...
X

Naam saptami Vrat 2021 : नाम सप्तमी चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को मनायी जाती है। साल 2021 में 19 अप्रैल 2021 को सोमवार के दिन नाम सप्तमी व्रत रखा जाएगा। नाम सप्तमी के दिन भगवान सूर्यदेव की विधि-विधान से पूजा की जाती है, जिसके प्रताप से व्यक्ति को पितृदोष आदि से भी मुक्ति मिल जाती है।

ये भी पढ़ें : Jyotish Shastra : कारोबार बढ़ाने के लिए करें गजलक्ष्मी की पूजा, देती हैं राजयोग का वरदान


नाम सप्तमी 2021 शुभ मुहूर्त

सप्तमी तिथि

19 अप्रैल 2021, दिन सोमवार

सप्तमी तिथि प्रारंभ

18 अप्रैल रात्रि 10 बजकर 35 मिनट पर

सप्तमी तिथि समाप्त

19 अप्रैल रात्रि 12 बजकर 02 मिनट पर

ये भी पढ़ें : Chaitra Navratri 2021 : नवरात्रि में प्रतिदिन करें मां अम्बे जी की आरती, बरसेगी मातारानी की कृपा

क्या करें, क्या ना करें

हमारे देश में सभी धार्मिक व्रत और पर्वों को बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है और व्रत और पर्वों में लोग बड़ी ही आस्था और विश्वास रखते हैं। इसी प्रकार नाम सप्तमी व्रत का भी बहुत महत्व है। सप्तमी तिथि को श्रद्धालुओं को सूर्य का ध्यान करना चाहिए। हिन्दू धर्मशास्त्रों के मुताबिक जो लोग पितृ दोष से पीड़ित हैं उन्हें भी इस दिन सूर्य पूजा और सूर्यदेव का ध्यान करने से पितृदोष से मुक्ति मिल जाती है। तथा नाम सप्तमी के दिन दिन व्यक्ति को तेल का स्पर्श नहीं करना चाहिए। इस दिन कुछ वस्तुओं का स्पर्श करना भी निषेध माना जाता है। इस दिन नीला वस्त्र धारण नहीं करना चाहिए। तथा नाम सप्तमी के दिन नशीली वस्तुओं का सेवन तो बिलकुल भी नहीं करना चाहिए। नाम सप्तमी के दिन किसी भी व्यक्ति से कटु वचन तो बिलकुल भी नहीं बोलने चाहिए। तथा लड़ाई-झगड़ा आदि तो बिलकुल भी नहीं करना चाहिए। इस दिन रजस्वला स्त्री के संपर्क में भी नहीं आना चाहिए। जुआ आदि भी नाम सप्तमी के दिन नहीं खेलना चाहिए। इस दिन किसी भी बात को लेकर दुखी नहीं होना चाहिए।

नाम सप्तमी के दिन सूर्य उपासना पूरे विधि-विधान से करनी चाहिए। इस दिन पूजन में किसी भी प्रकार से आप दुखी ना हों और प्रसन्न मन से सूर्य उपासना करें। प्रत्येक सप्तमी को आप इसी प्रकार भगवान सूर्य की इसी प्रकार विधि-विधान से पूजा करेंगे तो आपके लिए शुभ होगा और आपके रोग, शोक, कष्ट, विपत्ति आदि नष्ट हो जाएंगे। तथा आपके जीवन में कोई भी परेशानी नहीं आएगी।

(Disclaimer: इस स्टोरी में दी गई सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं। Haribhoomi.com इनकी पुष्टि नहीं करता है। इन तथ्यों को अमल में लाने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Next Story