Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Mercury Transit 2020 Cancer : बुध का कर्क राशि में गोचर, अशुभ परिणामों से बचने के लिए जानें राशि के अनुसार उपाय

Mercury Transit 2020 Cancer : बुध का राशि परिवर्तन 2 अगस्त 2020 को अपनी सम राशि कर्क में होने जा रहा है, कर्क राशि में बुध का गोचर होने के कारण इसका कुछ राशियों के जातको पर इसका बहुत ही नकारात्मक असर होने वाला है, बुध के इस नकारात्मक परिणाम से बचने के लिए आपको अपनी राशि के अनुसार कुछ उपाय अवश्य करने चाहिए। बुध का कर्क राशि में गोचर करने पर सभी 12 राशियों के लिए उपाय आइए जानते हैं..

Mercury Transit 2020 Cancer : बुध का कर्क राशि में गोचर, अशुभ परिणामों से बचने के लिए जानें राशि के अनुसार उपाय
X
Mercury Transit 2020 Cancer : बुध का कर्क राशि में गोचर, अशुभ परिणामों से बचने के लिए जानें राशि के अनुसार उपाय

Mercury Transit 2020 Cancer : बुध का गोचर 2 अगस्त 2020 को सुबह 3 बजकर 41 मिनट पर होगा। जिसके बाद बुध 17 अगस्त 2020 को सुबह 8 बजकर 39 मिनट तक इसी राशि में स्थित रहेंगे। जिसका सभी राशियों पर अलग- अलग प्रभाव पड़ेगा। लेकिन यदि आप बुध के कुछ उपाय करते हैं तो आपको बुध के नकारात्मक परिणाम नहीं भुगतने पड़ेंगे। बुध का कर्क राशि में गोचर करने पर सभी 12 राशियों के लिए उपाय आइए जानते हैं..


मेष राशि बुध के उपाय (Mesh Rashi Budh Ke Upay)

मेष राशि के लिए बुध का गोचर चौथे भाव में हो रहा है। चौथे भाव में बुध का गोचर होनेे के कारण आपके सुखों में बढ़ोतरी होगी। आपको इस समय में निवेश से भी लाभ की प्राप्ति हो सकती है।लेकिन इस समय में आपकी माता स्वाभाव कुछ चालाक हो सकता है। जिसकी वजह से आपका अपनी माता के साथ झगड़ा हो सकता है। इसलिए आपको उपाय के रूप में बुधवार के दिन संध्या काल में किसी तीर्थ स्थल पर या मंदिर में काले तिलों का दान करना चाहिए।


वृषभ राशि बुध के उपाय (Vrisabh Rashi Budh Ke Upay)

बुध का गोचर आपकी राशि के तीसरे भाव में बुध का गोचर हो रहा है। तीसरे भाव में बुध का गोचर होने के कारण इस समय में आपके पराक्रम में वृद्धि होगी। इसके साथ ही इस समय में आपके भाग्य में भी वृद्धि होगी। लेकिन इस समय में आपका अपने छोटे भाई बहनों के साथ झगड़ा हो सकता है। इस समय में आपको उपाय के रूप में बुधवार के दिन पौधे लगाने चाहिए।ऐसा करने से आपको जल्दी ही बुध के शुभ परिणाम प्राप्त होने लगेंगे।


मिथुन राशि बुध के उपाय (Mithun Rashi Budh Ke Upay)

मिथुन राशि के जातकों के लिए बुध का गोचर दूसरे भाव में होने जा रहा है। बुध का राशि परिवर्तन आपके दूसरे भाव में होने के कारण इस समय में आपकी वाणी में कुछ कटूता आ सकती है। लेकिन इस समय में आपको धनलाभ हो सकता है। इसके साथ ही आपको अपने ससुराल वालों से भी लाभ प्राप्त हो सकता है। लेकिन बुध के अशुभ फल को कम करने और शुभ फल को बढ़ाने के लिए आपको बुधवार के दिन हरी साबुत मूंग की दाल गौ माता को अपने हाथों से खिलाने चाहिए।


कर्क राशि बुध के उपाय (Kark Rashi Budh Ke Upay)

बुध का गोचर कर्क राशि के जातकों के लिए लग्न भाव में होने जा रहा है। लग्न में बुध का गोचर होने के कारण इस समय में आपकी बौद्धिक क्षमता का विकास होगा। इसके साथ ही आपके वैवाहिक जीवन में भी आपको सकारात्मक परिणाम देखने को मिलेंगे। लेकिन आपको बुध के शुभफलों को और भी अधिक बढ़ाने के लिए उपाय के रूप में आपको विधारा मूल धारण करनी चाहिए।


सिंह राशि बुध के उपाय (Singh Rashi Budh Ke Upay)

सिंह राशि के जातकों के लिए बुध का गोचर बारहवें भाव में हो रहा है। बारहवें भाव में बुध का गोचर होने के कारण इस समय में इनके खर्चों में अधिकता आएगी। वह दूसरी और इस समय में इनका स्वास्थय भी खराब हो सकता है और इन्हें शत्रु बाधा का सामना भी करना पड़ सकता है। इसलिए मेष राशि के जातको को उपाय के रूप में बुधवार के दिन हरी घास गौ माता को अपने हाथ से खिलाएं।ऐसा करने से आपको बुध के अशुभ फलों की प्राप्ति नही होगी।


कन्या राशि बुध के उपाय (Kanya Rashi Budh Ke Upay)

कन्या राशि के लिए बुध का गोचर ग्यारहवें भाव में हो रहा है। बुध के इस गोचर के कारण आपकी आय में वृद्धि होगी। इसके साथ ही आपको अपने मित्रो और बड़ी बहन से भी किसी प्रकार का कोई लाभ प्राप्त हो सकता है। यदि आप किसी से प्रेम करते हैं तो आपको अपने प्रेम संंबंधों में भी सुख प्राप्त हो सकता है। बुध के इस शुभ प्रभाव को बढ़ाने के लिए आपको उपाय के रूप में बुधवार के दिन विधारा की जड़ को जल में भिगोकर स्नान करने से अनुकूल परिणाम मिलेंगे।


तुला राशि बुध के उपाय (Tula Rashi Budh Ke Upay)

तुला राशि के जातकों के लिए बुध का गोचर दसवें भाव में हो रहा है। बुध का गोचर दसवें भाव में होने के कारण आपको अपने कार्यक्षेत्र में परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। बुध का राशि परिवर्तन आप और आपके उच्च अधिकारियों के बीच में भी झगड़ा करा सकता है। इसलिए आपको उपाय के रूप में बुध ग्रह के बीज मंत्र ॐ ब्रां ब्रीं ब्रौं सः बुधाय नमः का नियमित जाप करना चाहिए।यदि आप यह उपाय करते हैं तो आपको बुध ग्रह के अशुभ परिणामों की प्राप्ति नही होगी।


वृश्चिक राशि बुध के उपाय (Vrishchik Rashi Budh Ke Upay)

वृश्चिक राशि के जातको के लिए बुध का गोचर नवम भाव में होेने जा रहा है। बुध का गोचर नवम भाव में होने के कारण इस समय में आपके भाग्य में वृद्धि होगी। इसके साथ ही आपके सभी रूके हुए काम भी इस समय में पूर्ण होंगे। वहीं छोटे भाई बहनों का साथ भी आपको पूर्ण रूप से प्राप्त होगा। बुध के इन शुभफलों को और भी अधिक बढ़ाने के लिए आपको उपाय के तौर पर आपको चार मुखी रुद्राक्ष धारण करना चाहिए।


धनु राशि बुध के उपाय (Dhanu Rashi Budh Ke Upay)

धनु राशि के जातकों के लिए बुध का यह गोचर आठवें भाव में हो रहा है। आठवें भाव में बुध का गोचर होने के कारण आपको कई प्रकार की परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। आपको इस समय में नसो से जुड़ी कोई समस्या भी हो सकती है और साथ ही आपका अपने ससुराल वालों के साथ भी झगड़ा हो सकता है। इसलिए आपको उपाय के रूप में नित्य प्रति चंद्र देव की आराधना करनी चाहिए।


मकर राशि बुध के उपाय (Makar Rashi Budh Ke Upay)

मकर राशि वालों के लिए बुध का गोचर सातवें भाव में हो रहा है। सातवें भाव में बुध का गोचर होने के कारण इस समय में आपको वैवाहिक सुख की प्राप्ति होगी। इसके साथ ही यदि आप व्यापार करते हैं तो इस समय में आपके व्यापार में वृद्धि होगी। बुध के इन शुभफलों को और भी अधिक बढ़ाने के लिए आपको बुधवार के दिन राधा जी का श्रृँगार करने के उपरांत उनकी पूजा अर्चना करनी चाहिए।


कुंभ राशि बुध के उपाय (Kumbh Rashi Budh Ke Upay)

कुंभ राशि के जातकों के लिए बुध का गोचर छठे भाव में हो रहा है। छठे भाव में बुध का गोचर होने के कारण आपको स्वास्थय संबधी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। इसके साथ ही आपको अपने शत्रुओं के द्वारा भी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए आपको बुध के इन अशुभ प्रभावों से बचने के लिए उपाय के रूप में बुध ग्रह का यंत्र अथवा रत्न धारण करना चाहिए।


मीन राशि बुध के उपाय (Meen Rashi Budh Ke Upay)

बुध का गोचर मीन राशि वालों के लिए पांचवें भाव में हो रहा है। पांचवें भाव से संतान और प्रेम का विचार किया जाता है। बुध के राशि परिव्रर्तन के कारण आपको अपने प्रेम संबंधो में परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। वहीं दूसरी और जिन विवाहित लोगो को संतान की प्राप्ति नहीं हुई है उन्हें अभी और इंतजार करना पड़ सकता है। विद्यार्थियों के लिए भी यह समय ठीक नहीं है इसलिए आपको उपाय के रूप में बुधवार के दिन व्रत रखना चाहिए।

Next Story
Top