Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Makar Sankranti 2021 : मकर संक्रांति पर करें ये विशेष उपाय, सूर्यदेव और शनि के आशीर्वाद से आपको होगी पुत्र की प्राप्ति

Makar Sankranti 2021 : मकर संक्रांति पर इस वर्ष बहुत ही अच्छा योग बन रहा है। मकर संक्रांति यानि मकर राशि में जब भगवान सूर्यदेव प्रवेश करेंगे, यानि जब अपने पुत्र के घर पिता जाएंगे तो वह पुत्र धन प्राप्ति का वरदान देंगे। मकर संक्रांति के दिन आपको विशेष रुप से सूर्य भगवान की आराधना करना है।

Makar Sankranti  2021 : मकर संक्रांति पर करें ये विशेष उपाय, सूर्यदेव और शनि के आशीर्वाद से आपको होगी पुत्र की प्राप्ति
X

Makar Sankranti 2021 : मकर संक्रांति पर इस वर्ष बहुत ही अच्छा योग बन रहा है। मकर संक्रांति यानि मकर राशि में जब भगवान सूर्यदेव प्रवेश करेंगे, यानि जब अपने पुत्र के घर पिता जाएंगे तो वह पुत्र धन प्राप्ति का वरदान देंगे। मकर संक्रांति के दिन आपको विशेष रुप से सूर्य भगवान की आराधना करना है। ऐसा करने से भगवान सूर्यदेव उन लोगों को जिनके घर में संतान नहीं है अथवा जिन दंपत्तियों को पुत्र प्राप्ति की कामना है उन्हें पुत्र प्राप्ति का वरदान देंगे। हर मकर संक्रांति पर भगवान सूर्यदेव और शनिदेव पुत्र और धन प्राप्ति का, यश, वैभव और मान-सम्मान, सरकारी नौकरी आदि सभी मनोकामनाओं को पूरा करते हैं। लेकिन इस साल मकर संक्रांति पर बहुत ही शुभ संयोग बन रहा है। तो आइए जानते हैं मकर संक्रांति पर अपनी मनोकामना पूरी करने के उपायों के बारे में।

Also Read: Makar Sankranti 2021 : मकर संक्रांति के ये चमत्कारी टोटके आपके जीवन में लाएंगे सुख-शांति और समृद्धि

पूजन सामग्री

मकर संक्रांति के दिन सुबह स्नान आदि करने के बाद आपको एक लाल आसन लेकर भगवान सूर्यदेव की प्रतिमा अथवा तस्वीर के सामने उसे बिछा लें, और एक थाली में रोली, मौली, लौंग, हल्दी, गुड़, केसर, दूध, घी और एक तांबे के लोटे में गंगाजल और शुद्ध जल भर लें। इसके बाद आप एक देशी घी का दीप जलाएं। और कोई एक मिठाई पूजन स्थल पर रख लें।

Also Read: Paush Amavasya 2021 : पौष अमावस्या पर अपने घर से ऐसे दूर करें नकारात्मक ऊर्जा, पितृ होंगे प्रसन्न, देंगे सुखी जीवन का आशीर्वाद

पूजन विधि

सभी सामग्री लेकर आप भगवान सूर्यदेव की ओर मुख करके आप बैठ जाएं। और गंगाजल वाले लोटे में थोड़े से तिल और चावल डाल दें। इसके बाद आप उसमें शक्कर डालें, रोली डालें और लोटे में लाल पुष्प डाल दें। लोटे में थोड़ा सा घी और एक चम्मच दूध डालें। ये सारी सामग्री लोटे में डालकर के आप भगवान सूर्यदेव की ओर अपना मुख करके उन्हें अर्घ्य दें। लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि अर्घ्य का जल जमीन पर ना गिरे। और अर्घ्य देते हुए सूर्य मंत्र का जप करें।

मंत्र

ऊँ सूर्याय नम:

ऊँ भास्कराय नम:

सूर्यदेव को अर्घ्य देने के बाद आप वहीं तीन माला सूर्य मंत्र का फिर से जप करें। और इसके बाद आप पीपल के वृक्ष की जड़ में देशी घी का दीपक जलाएं। और मौली लेकर के पीपल के वृक्ष पर लपेट दें। और पीपल के वृक्ष को अपनी मनोकामना बताएं। और लौंग भी दीपक में डाल दें। और इसके बाद आप अपने पितृों के नाम से किसी वस्तु का दान करें। और उनका तर्पण करें। इस उपाय को करने से आपकी हर मनोकामना पूरी हो जाएगी।

Next Story