Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए करें ये उपाय, धन के रूप में होगा उनका आगमन

माता लक्ष्मी की कृपा अपने जीवन में प्राप्त करना तो सभी लोग चाहते हैं लेकिन माता लक्ष्मी सब लोगों पर अपनी कृपा नहीं करती। कई बार कुछ लोग तो थोड़े-बहुत परिश्रम के बाद ही मालामाल हो जाते हैं। और वहीं कुछ लोग कठिन परिश्रम करने के बाद भी दो जून की रोटी तक नहीं जुटा पाते है। और परेशानियों में ही जकड़े रहे हैं।

मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए आप यह उपाय करिए, धन के रूप में होगा उनका आगमन
X

माता लक्ष्मी की कृपा अपने जीवन में प्राप्त करना तो सभी लोग चाहते हैं लेकिन माता लक्ष्मी सब लोगों पर अपनी कृपा नहीं करती। कई बार कुछ लोग तो थोड़े-बहुत परिश्रम के बाद ही मालामाल हो जाते हैं। और वहीं कुछ लोग कठिन परिश्रम करने के बाद भी दो जून की रोटी तक नहीं जुटा पाते है। और परेशानियों में ही जकड़े रहे हैं। वहीं वो लोग जिन्हें कम परिश्रम करने अथवा परिश्रम ना भी करने पर आश्चर्यजनक धनलाभ होता रहता है उन लोगों पर माता लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है। और उनके सभी कार्य संपन्न होते रहते हैं। उनके घर में धन-धान्य की वृद्धि होती है। तो आइए जानते हैं माता लक्ष्मी की ऐसी ही कृपा पाने के उपायों के बारे में जिससे आपके घर में भी धन-धान्य और सुख तथा वैभव की संपन्नता बनी रहे।

Also Read: Sanatan Dharm: पराई औरत से संबंध बनाने पर भोगनी पड़ती है ऐसी सजा, इन प्रजातियों में मिलता है जन्म

1. प्रतिदिन अपने घर में सुबह सुबह कुछ समय के लिए धार्मिक भजन अवश्य सुनें। धार्मिक भजनों का सुबह-सुबह आनंद लेने से आपके घर में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह होगा। और आपका मन प्रसन्न रहेगा। तथा साथ ही आपके घर में धन-धान्य और सुख-समृद्धि बनी रहेगी।

2. अगर आपके घर के पूजाघर में किसी देवी अथवा देवता की प्रतिष्ठित मूर्ति है तो उसकी पूजा प्रतिदिन अवश्य करें। उस प्रतिमा पर धूल-मिट्टी आदि ना जमने दें। और पूजाघर की साफ-सफाई की विशेष व्यवस्था करे।

Also Read: Hindu Dharmashastra: जानिए परिवार की बर्बादी का कारण बनती हैं इस नाम वाली महिलाएं

3. किसी भी स्थिति में अपने घर बिस्तर पर बैठकर कभी भोजन न करें। बिस्तर पर भोजन करने से व्यक्ति को बुरे सपने आते हैं। और घर में नकारात्मक ऊर्जा का वास हो जाता है। और धनहानि की संभावना बढ़ जाती है।

4. घर अथवा मंदिर में आरती, दीपक, पूजा, अग्नि जैसे पवित्रता के प्रतीक साधनों को कभी मुंह से फूंक ना मारें। ऐसा करने से घर में परेशानियां बढ़ने लगती हैं। दीपक को जब तक वह जलता है, तब तक स्वयं जलने दें।

5. ऐसी व्यवस्था करें कि सूर्य के प्रकाश की पहली किरणें आपके घर के पूजाघर में अवश्य पहुंचे। क्योंकि सूर्य की पहली किरण के आपके पूजाघर में पहुंचने के साथ-साथ ही सकारात्मक ऊर्जा आपके घर में निवास कर जाती है।

6. प्रतिदिन नियमित रुप से पूजा-अर्चना प्रात: छह से आठ बजे के मध्य और धरती पर आसन बिछाकर पूर्व या उत्तर अथवा पूर्वोत्तर की ओर अपना मुख करके करनी चाहिए। और साथ ही पूजा का आसन जुट अथवा कुश का हो तो उत्तम रहता है।

7. अपने घर के पूजा के स्थान पर सदैव जल का एक कलश भरकर रखें। और प्रतिदिन उसका जल बदल दें। साथ ही जितना संभव हो कलश को ईशान कोण के हिस्से में ही रखें।

8. प्रतिदिन अपने घर के मुख्य दरवाजे के दायीं ओर स्वास्तिक बनाएं। स्वास्तिक बनाने से मन में प्रसन्नता का अनुभव होता है और घर में सकारात्मक वातावरण का माहौल बनता है। तथा साथ ही घर में दैवीय कृपा बनी रहती है।

9. सप्ताह में एक बार अपने घर में समुद्री नमक अथवा सेंधा नमक से पोछा जरुर लगवाएं। इसके प्रभाव से नकारात्मक ऊर्जा आपके घर से दूर हट जाती है।

10. अपने घर को कभी बंद ना छोड़ें और ना ही घर के अंदर कभी जाले लगने दें। वरना ये जाले आपके भाग्य और कर्म पर लगते हैं। और परिवार में बाधा आने का दौर शुरू हो जाता है।

Next Story