Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

गुरू पूर्णिमा के दिन चंद्र ग्रहण का भारत में नहीं होगा कोई प्रभाव

Chandra Grahan 2020: भारतीय समय के अनुसार आज सुबह 8:38 बजे से आरंभ हो गया है और भारत में चंद्र ग्रहण का कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। चंद्र ग्रहण को ऑस्टेलिया, अमेरिका और यूरोप में देखा जा रहा है। करीब 2 घंटे 45 मिनट तक रहने के बाद करीब 11:21 बजे खत्म हो जाएगा। भारत में आज गुरु पूर्णिमा का पर्व मनाया जा रहा है।

गुरू पूर्णिमा के दिन चंद्र ग्रहण का भारत में नहीं होगा कोई प्रभाव
X
प्रतीकात्मक तस्वीर

भारतीय समय के अनुसार आज सुबह 8:38 बजे से आरंभ हो गया है और भारत में चंद्र ग्रहण का कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। चंद्र ग्रहण को ऑस्टेलिया, अमेरिका और यूरोप में देखा जा रहा है। करीब 2 घंटे 45 मिनट तक रहने के बाद करीब 11:21 बजे खत्म हो जाएगा। भारत में आज गुरु पूर्णिमा का पर्व मनाया जा रहा है।

पंडित दिनेश कुमार शर्मा के मुताबिक ग्रहण कैसा भी हो य मानव जाति के हितकर नहीं होते। ग्रहण के समय लोगों को विशेष सावधानी बरतनी चाहिए, पूजा, भोजन आदि नहीं करना चाहिए। और गर्भवती स्त्रियों को भी ग्रहण के समय सतर्कता बरतनी चाहिए। वैसे आज का चंद्र ग्रहण भारत में दिखाई नहीं दे रहा है। इसलिए इसका भारत को कोई प्रभाव नहीं होगा।

वैसे तो लोग चंद्र ग्रहण को नंगी आंखों से देख सकते हैं। इसे देखने से आंखों पर कोई भी प्रभाव नहीं पड़ेगा। परन्तु भारत में दिन होने के कारण चंद्र ग्रहण दिखाई नहीं दे रहा है। फिर भी अगर आप चंद्र ग्रहण का नजारा देखना चाहते हैं तो आप इसे लाइव स्ट्रीमिंग के माध्यम से देख सकते हैं।

चंद्रग्रहण के शुरू होने से पहले चंद्रमा धरती की उपच्छाया में प्रवेश करता है। जब चंद्रमा पृथ्वी की वास्तविक छाया में प्रवेश किए बिना ही बाहर निकल आता है तो उसे उपच्छाया ग्रहण कहते हैं। उपच्छाया में प्रवेश को वास्तविक चंद्रग्रहण नहीं माना जाता है। चंद्रमा जब धरती की वास्तविक छाया में प्रवेश करता है, तभी उसे चंद्रग्रहण माना जाता है।

सुबह 8 बजकर 38 मिनट पर शुरू हुआ

आज उपच्छाया चंद्र ग्रहण सुबह 8:38 बजे पर शुरू हुआ था जो 11:21 बजे पर समाप्त होगा। ग्रहण काल में चंद्रमा कहीं से कटा हुआ होने की बजाए अपने पूरे आकार में नजर आएगा।

उपच्छाया ग्रहण को नहीं दी जाती कोई मान्यता

यह वास्तविक चंद्र ग्रहण न होकर एक उपच्छाया चंद्र ग्रहण है। उपच्छाया चंद्र ग्रहण को धार्मिक लिहाज से बहुत अधिक मान्यता नहीं दी जाती है। यह इस वर्ष का तीसरा चंद्र ग्रहण है। और एक माह में ही लगने वाला यह तीसरा ग्रहण है।

देश में नहीं होगा प्रभाव: रवािवार को गुरु पूर्णिमा के दिन लगने वाला चंद्रग्रहण भारत के संदर्भ में बहुत ज्यादा प्रभावी नहीं होगा। क्योंकि यह एक उपच्छाया चंद्रग्रहण है और भारत में दिखाई भी नहीं देगा।

यहां दिखाई दे रहा चंद्र ग्रहण: यह चंद्र ग्रहण यूरोप, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, पैसिफिक और अंटार्टिका में दिखाई दे रहा है। भारतीय समयानुसार ग्रहण की सुबह के 8 :38 बजे से शुरू हो गया है, और 11:21 बजेसमाप्त हो जाएगा।

गुरु पूर्णिमा और चंद्र ग्रहण: आज पूरे भारत में गुरु पूर्णिमा का पर्व भी मनाया जा रहा है। दरअसल चंद्र ग्रहण हमेशा पूर्णिमा के दिन ही होता है और सूर्य ग्रहण अमावस्या के दिन। आषाढ़ माह की पूर्णिमा तिथि को गुरु पूर्णिमा और व्यास पूर्णिमा के नाम से जाना जाता है। यह लगातार तीसरा वर्ष है जब गुरु पूर्णिमा के दिन चंद्रग्रहण लग रहा है। यह उपच्छाया चंद्रग्रहण है जो भारत में नहीं दिखाई दे रहा है।

विशेष सावधानी की आवश्यकता नहीं: भारत में यह ग्रहण नहीं दिखाई देगा, लेकिन आपकी जानकारी के लिए बता दें कि चंद्र ग्रहण को देखने में विशेष सावधानी की आवश्यकता नहीं होती है। सूर्य ग्रहण को देखने से आंखों को नुकसान हो सकता है।

11:21 बजे तक दिखेगा ग्रहण: भारतीय समय के अनुसार ग्रहण 11: 21 मिनट तक रहेगा।


Next Story