Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Lal Kitab : शत्रु की मौत ये असरदार उपाय, जानें कैसे करें प्रयोग

Lal Kitab : अगर आपको कोई व्यक्ति या आपका शत्रु लगातार परेशान कर रहा है और आप उस परेशानी से दुखी हो चुके हैं। तथा उस परेशानी से और व्यक्ति से छुटकारा पाना चाहते हैं अथवा उस शत्रु का विनाश करना चाहते हैं तो लाल किताब में इसके लिए कई असरदार टोटके बताए गए हैं।

Lal Kitab : शत्रु की मौत ये असरदार उपाय, जानें कैसे करें प्रयोग
X

Lal Kitab : शत्रु की मौत ये असरदार उपाय, जानें कैसे करें प्रयोग

Lal Kitab : अगर आपको कोई व्यक्ति या आपका शत्रु लगातार परेशान कर रहा है और आप उस परेशानी से दुखी हो चुके हैं। तथा उस परेशानी से और व्यक्ति से छुटकारा पाना चाहते हैं अथवा उस शत्रु का विनाश करना चाहते हैं तो लाल किताब में इसके लिए कई असरदार टोटके बताए गए हैं। जिसका प्रयोग करने आप अपने शुत्रु को मौत के घाट भी उतार सकते हैं और उस परेशानी और परेशानी के कारण से हमेशा-हमेशा के लिए निजात पा सकते हैं। तो आइए जानते हैं एक ऐसे ही टोटके के बारे में जिससे आप अपने शत्रु और उसके द्वारा दी गई परेशानियों से निजात प्राप्त कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें : Bach Baras 2021: बछ बारस व्रत का ऐसे करें उद्यापन, मिलेगा उपवास का पूरा फल

इस टोटके को करने के लिए आपको दुश्मन के पैर की मिट्टी लेनी है और मिट्टी को लेकर आप पूर्व दिशा की ओर आसन लगाकर बैठ जाएं। तथा उस मिट्टी को आप एक पात्र में रख दें। इसके बाद एक सफेद कागज पर अपने दुश्मन का नाम लिखें। इसके बाद एक नीबू लेकर उसे उस सफेद कागज पर लपेट दें। तथा उसे मिट्टी के अंदर गाड़कर, एक कलश में उस मिट्टी, कागज और नीबू को रखकर सुनसान स्थान पर जाकर उस कागज, नीबू और मिट्टी के कलश को गाड़ दें और सीधा मुंह करके अपने घर आ जायें और पीछे मुड़कर ना देखें। ऐसा करने से 24 घंटे के भीतर ही आपके दुश्मन का विनाश हो जाएगा।

इस उपाय को करते समय ध्यान रखें कि कोई भी व्यक्ति आपको इस उपाय को करते हुए देख ना लें अर्थात आप इस उपाय को एकांत में और गुपचुप तरीके से ही प्रयोग करें। तथा इस उपाय को करते समय भगवान में पूर्ण श्रद्धा रखें और उनका स्मरण करते रहें। क्योंकि कोई भी उपाय श्रद्धा के बिना करने पर अपना पूर्ण फल नहीं दिखा पाता है और काम नहीं करता है। इसलिए उपाय करते समय पूर्ण श्रद्धा और विश्वास बनाये रखें।

(Disclaimer: इस स्टोरी में दी गई सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं। Haribhoomi।com इनकी पुष्टि नहीं करता है। इन तथ्यों को अमल में लाने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Next Story