Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Jyotish Shastra : तुलसी के पौधे को छू कर बोल दें ये मंत्र, जो भी चाहोगे वह सब मिलेगा

  • हिन्दू धर्म तुलसी पूजन का विशेष महत्व है।
  • तुलसी के पौधे को मां लक्ष्मी का प्रतीक माना गया है।

Jyotish Shastra : तुलसी को छूने के बाद बोल दें ये मंत्र, जो भी चाहोगे वह सब मिलेगा
X

Jyotish Shastra : हमारे हिन्दू धर्म तुलसी पूजन का विशेष रूप से महत्व बताया गया है। क्योंकि तुलसी के पौधे को मां लक्ष्मी का प्रतीक माना गया है। कहा जाता है कि जिस घर में हर रोज तुलसी की पूजा की जाती है, उस घर में कभी भी दरिद्रता और दुर्भाग्य का वास नहीं होता और उस घर में सदैव मां लक्ष्मी का वास रहता है। साथ ही तुलसी पूजन करने से मोक्ष की भी प्राप्ति होती है और पापों का नाश होता है। कहते हैं कि जिस घर में तुलसी का पौधा होता है वहां देवी और देवता निवास करते हैं। साथ ही तुलसी उस घर की नाकारात्मक ऊर्जा को समाप्त कर देती है और घर में केवल और केवल सकारात्मक ऊर्जा का संचय करती है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, रोज तुलसी पूजन करने से धन-संपदा, वैभव, सुख और समृद्धि की प्राप्ति होती है और महालक्ष्मी हमेशा प्रसन्न रहती हैं।

ये भी पढ़ें : Vishwakarma Puja 2021: विश्वकर्मा जयंती की तिथि, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और जानें इसके नियम

वहीं पद्म पुराण के अनुसार, जहां तुलसी का पौधा होता है वहां ब्रह्मा, विष्णु, शंकर यानि त्रिदेवों का निवास होता है और तुलसी की पूजा करने से महापातक भी उसी प्रकार नष्ट हो जाते हैं जैसे सूर्य के उदय होने पर अंधकार नष्ट हो जाता है।

यदि आपके घर में गृह क्लेश रहता हो या फिर आपके घर में गरीबी बनी रहती है अथवा पैसा आता तो है लेकिन टिकता नहीं है अथवा जीवन में किसी ना किसी तरह की कोई परेशानी आती रहती है तो आप तुलसी के खास मंत्र का जाप करें।

ये भी पढ़ें : Teja Dashmi 2021 : तेजा दशमी कब है, क्यों मनाई जाती है, जानें इसकी लोक कथा

मंत्र

महाप्रसाद जननी सर्व सौभाग्यवर्धिनी, आधि व्याधि हरा नित्यं तुलसी त्वं नमोस्तुते।।

यदि आप इस मंत्र का जाप तुलसी पूजन के दौरान करते हैं तो मात्र कुछ ही दिनों के अंदर आपकी हर परेशानी दूर हो जाएगी और घर में स्थायी रूप से मां लक्ष्मी का वास रहेगा। साथ ही घर में खुशहाली का वातावरण भी बना रहेगा। घर में कभी भी दुख-दरिद्रता का वास नहीं होगा।

तुलसी मंत्र की प्रयोग विधि

  • मंत्र जाप के लिए रोज की भांति अपने ईष्टदेव की पूजा जरुर करें।
  • इसके बाद सबसे पहले तुलसी के पास जाकर तुलसी जी को प्रणाम करें।
  • उसके बाद तुलसी जी को शुद्ध जल अर्पित करें।
  • तुलसी जी को सिन्दूर और हल्दी चढ़ाएं। यह तुलसी जी का श्रृंगार होता है।
  • तुलसी जी के पास घी का दीप जलाएं और धूप-अगरबत्ती जरुर करें।
  • इसके बाद तुलसी की सात परिक्रमा अवश्य करें।
  • इसके बाद तुलसी के सामने बैठकर तुलसी की माला से इस खास मंत्र का जप करें।
  • मंत्र जाप के बाद अपनी सभी मनोकामनाएं तुलसी जी को छूकर बोल दें।
  • ऐसा करने से आपकी मनोकामना सीधे भगवान तक पहुंचती है। और भगवान आपकी मनोकामना जल्दी ही पूर्ण कर देते हैं।

(Disclaimer: इस स्टोरी में दी गई सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं। Haribhoomi.com इनकी पुष्टि नहीं करता है। इन तथ्यों को अमल में लाने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Next Story