Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Jyotish Shastra : सभी मुहूर्त शुभ नहीं होते, जानिए किस वार, माह, तिथि और नक्षत्र में बनाएं अपना मकान

  • किसी भी कार्य को शुरू करने से पहले उसके शुभ मुहूर्त पर विचार होता है।
  • शुभ मुहूर्त में कार्य शुरू करने से मन को सुकून मिलता है।
  • शुभ मुहूर्त के हमारे जीवन में अनेक फायदे भी होते हैं।

Jyotish Shastra : सभी मुहूर्त शुभ नहीं होते, जानिए किस वार, माह, तिथि और नक्षत्र में बनाएं अपना मकान
X

Jyotish Shastra : शास्त्रों के अनुसार किसी भी वस्तु को खरीदने-बेचने अथवा किसी भी कार्य को शुरू करने से पहले उसके शुभ मुहूर्त के बारे में विचार किया जाता है। शुभ मुहूर्त में किसी भी कार्य को करने से व्यक्ति के मन को बहुत सुकून मिलता है। आप लोग कोई भी मकान-दुकान, आफिस, कोठी-बंगला अथवा कोई भी कारोबार शुरू करते हैं तो सबसे पहले आपको उसके 'मुहूर्त' पर ही विचार करना होगा। शुभ तिथि, वार, माह और शुभ नक्षत्रों में कोई भी वाहन खरीदने और मकान का निर्माण कार्य शुरू करने से न केवल आपके परिवार को आर्थिक, सामाजिक, मानसिक व शारीरिक फायदे मिलते हैं बल्कि आपके परिवार के लोगों को सुख-शांति, ऐश्वर्य और स्वास्थ्य लाभ भी प्राप्त होता है। तो आइए जानते हैं मकान बनाने के लिए शुभ वार, शुभ माह, शुभ तिथि और शुभ नक्षत्र के बारे में जिससे आपका कार्य निर्विघ्न संपन्न हो सके।

ये भी पढ़ें : Jyotish Shastra : सुखी जीवन जीने के ये हैं बेहतरीन उपाय


शुभ वार

सप्ताह में सोमवार, बुधवार, बृहस्पतिवार, शुक्रवार तथा शनिवार के दिन को सबसे अधिक शुभ दिन माना जाता है। रविवार और मंगलवार के दिन कभी भी मकान बनाने की शुरुआत, भूमिपूजन और गृह प्रवेश संबंधित शुभ कार्य नहीं करने चाहिए।


शुभ माह

हिन्दू सनातन धर्म के अनुसार वैशाख, श्रावण और फाल्गुन माह भवन निर्माण के लिए सर्वश्रेष्ठ माह माने जाते हैं।। हमेशा ध्यान रखें कि चैत्र, आषाढ़, आश्विन और कार्तिक माह में भवन निर्माण संबंधी शुभ कार्य कभी भी शुरु न करें। इन महीनों में नवनिर्माण करने से धन हानि और घर के किसी व्यक्ति की आयु क्षीण होने की संभावना रहती है।

ये भी पढ़ें : Jyotish Shastra : जानें, धन लाभ के लिए किस जानवर को क्या खिलाएं


शुभ तिथि

भवन निर्माण के लिए सबसे अधिक शुभ तिथि द्वितीया, तृतीया, पंचमी, षष्ठी, सप्तमी, दशमी, एकादशी, द्वादशी और त्रयोदशी मानी जाती हैं, जबकि अष्टमी तिथि मध्यम मानी जाती है। वहीं किसी भी महीने की चतुर्थी, नवमी और चतुर्दशी तिथि के दिन निर्माण कार्य की शुरुआत नहीं करनी चाहिए। शास्त्रों के अनुसार इन तीनों तिथियों में गृह निर्माण निषेध माना जाता है।


शुभ नक्षत्र

किसी भी शुभ माह के दौरान रोहिणी, पुष्य, अश्लेषा, मघा, उत्तरा फाल्गुनी, उत्तराषाढ़ा, उत्तरा भाद्रपदा, स्वाति, हस्तचित्रा, रेवती, शतभिषा, धनिष्ठा नक्षत्र निर्माण कार्य के लिए सबसे उत्तम नक्षत्र माने जाते हैं। जबकि अन्य सभी नक्षत्र निर्माण कार्य के लिए सामान्य नक्षत्र माने जाते हैं।

(Disclaimer: इस स्टोरी में दी गई सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं। Haribhoomi.com इनकी पुष्टि नहीं करता है। इन तथ्यों को अमल में लाने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Next Story