Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Holi 2021 : होली 2021 का पंचांग, जानें किस समय करें होलिका दहन

  • हिन्दू धर्म में होली (Holi) का पर्व हर्ष और उल्लास का पर्व माना जाता है।
  • होली पर होलिका पूजन (Holika Pujan) और होलिका दहन (Holika Dahan) का बहुत अधिक महत्व होता है।

Holi 2021 : होली 2021 का पंचांग, जानें किस समय करें होलिका दहन
X

Holi 2021 : हिन्दू धर्म में होली का पर्व हर्ष और उल्लास का पर्व माना जाता है। होली पर होलिका पूजन (Holika Pujan ) और होलिका दहन (Holika Dahan) का बहुत अधिक महत्व होता है लेकिन अगर आप होलिका पूजन और होलिका दहन आदि की तैयारियां कर रहे हैं तो आपको इसके लिए होली का पंचांग अवश्य ही जान लेना चाहिए। जिससे आप होलिका पूजन और होलिका दहन में किसी भी प्रकार की कोई गलती न करें तो आइए जानते हैं होली का पंचांग।

ये भी पढ़ें : Jyotish Shastra : ऐसे लोग हमेशा रहते हैं गरीब, जानें कुंडली में धनहीनता के योग


होली 2021 शुभ मुहूर्त (Holi 2021 Subh Muhurat)

होलिका दहन मुहूर्त

शाम को 6 बजकर 37 मिनट से शुरू होकर रात के 08 बजकर 56 मिनट तक (28 मार्च 2021)

भद्रा पूँछ

सुबह 10 बजकर 27 मिनट से सुबह 11 बजकर 30 मिनट तक

भद्रा मुख

सुबह 11 बजकर 30 मिनट से दोपहर 01 बजकर 15 मिनट तक

पूर्णिमा तिथि प्रारम्भ

03 बजकर 27 मिनट एएम (28 मार्च 2021)

पूर्णिमा तिथि समाप्त

12 बजकर 17 मिनट तक एएम (29 मार्च 2021)

ये भी पढ़ें : Holi 2021 : चट मंगनी पट ब्याह और बीमारी से निजात पाने के लिए करें होलिका दहन के दिन ये विशेष उपाय, जानें

होली पंचांग 2021 (Holi Panchang 2021)

तिथि

पूर्णिमा

दिन

रविवार

माह

फाल्गुन मास

होलिका दहन मुहूर्त

शाम को 6 बजकर 37 मिनट से शुरू होकर रात के 08 बजकर 56 मिनट तक (28 मार्च 2021)

नक्षत्र

उत्तर फाल्गुनी, शाम 05:29 पीएम तक

योग

वृद्धि

करण

विष्टि

चंद्रमा

कन्या राशि

सूर्य राशि

मीन राशि

अभिजित मुहूर्त

12:00 एएम से 12:49 पीएम

अमृत काल मुहूर्त

10:58 एएम से 12:25 पीएम

राहुकाल

05:00 पीएम से 06:32 पीएम

सूर्योदय

06:17 बजे

सूर्यास्त

06:32 बजे

ये भी पढ़ें : Jyotish Shastra : यहां लाल धागा लपेटकर जो मांगोगे हाथों हाथ मिलेगा, धन-संपत्ति, सुख, नौकरी-व्यवसाय सब दौड़ पड़ेंगे

होली दहन के दौरान करें ये काम

  • होलिका दहन के दिन उगते हुए सूर्य को अपने पितृों के निमित्त अर्घ्य जरुर दें।
  • शुभ मुहूर्त में घर के किसी बुजुर्ग व्यक्ति से होलिका में अग्नि प्रज्जवलित कराएं।
  • होलिका की आग में गेंहू, जौ अथवा चना की फसल को डालकर भून लें और परिवार के सभी सदस्य उसे ग्रहण करें।
  • होलिका दहन की राख से घर के सभी लोग अपने माथे पर टीका लगाएं।

(Disclaimer: इस स्टोरी में दी गई सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं। Haribhoomi.com इनकी पुष्टि नहीं करता है। इन तथ्यों को अमल में लाने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Next Story