Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Guru Purnima 2021 : आषाढ़ पूर्णिमा के दिन 'गुरु चरण कमल बलिहारी रे...' भजन से करें अपने ईष्टदेव को प्रसन्न

  • हर साल आषाढ़ पूर्णिमा के दिन गुरु पूर्णिमा का पर्व मनाया जाता है।
  • धर्मशास्त्रों में गुरु की बड़ी महिमा बताई गई है।

Guru Purnima 2021 : व्यास पूर्णिमा पर गुरु मेरी पूजा गुरु गोबिंद भजन गाएं और लें अपने ईष्टदेव का आशीर्वाद
X

Guru Purnima 2021 : व्यास पूर्णिमा पर 'गुरु मेरी पूजा गुरु गोबिंद' भजन गाएं और लें अपने ईष्टदेव का आशीर्वाद

Guru Purnima 2021 : हर साल आषाढ़ पूर्णिमा के दिन गुरु पूर्णिमा का पर्व पूरे भारतवर्ष में धूमधाम से मनाया जाता है और सभी लोग इस पावन अवसर पर अपने गुरु और ईष्टदेव की आराधना करते हैं। तथा अनेक प्रकार से लोग अपने गुरु को प्रसन्न कर उनका आशीर्वाद पाने का प्रयत्न करते हैं। वहीं धर्मशास्त्रों में गुरु की बड़ी महिमा बताई गई है। तथा गुरु को भगवान से भी बड़ा बताया गया है। वहीं साथ 2021 में गुरु पूर्णिमा का पर्व 24 जुलाई 2021, दिन शनिवार को मनाया जाएगा। लोग इस दिन अनेक प्रकार से भजन-कीर्तन और जागरण आदि करके अपने गुरु और ईष्टदेव का आशीर्वाद भी प्राप्त करते हैं। तो आइए इस साल गुरु पूर्णिमा के इस खास अवसर पर 'गुरु चरण कमल बलिहारी रे...' भजन गाकर आप भी अपने गुरु को प्रसन्न करें और उनका आशीर्वाद प्राप्त करें। जिससे आपको इस लोक में पुण्य लाभ मिले और मृत्यु के उपरांत अनंत लोक में भगवान के श्रीचरणों में स्थान मिले।

ये भी पढ़ें : Guru Purnima 2021 : गुरु पूर्णिमा कब है, जानें शुभ मुहूर्त, महत्व और कथा

गुरु चरण कमल बलिहारी रे...

साखी

गुरु पारस गुरु परस हैं, चन्दन वास सुवास।

सतगुरु पारस जीव के दीन्हो मुक्ति निवास ।।

सतगुरु बड़े सराफ हैं परखे खरा और खोट।

भवसागर ते काढ़िके, राखे अपनी ओट।।

सद्गुरु मेरा सूरमा वार करे भरपूर।

बाहिर कछु ना दीख ही भीतर चकनाचूर।।

बलिहारी गुरु आपकी घड़ी घड़ी सौ सौ बार।

मानुष ते देवता किया करत न लागी बार।।

भजन

गुरु चरण कमल बलिहारी रे

मोरे मन की दुविधा टारी रे।। गुरु ....

भव सागर में नीर अपारा,

डूब रहा नहिं मिले किनारा ।

पल में लिया उबारी रे ।। गुरु ....

काम क्रोध मद लोभ लुटरे,

जनम जनम के बेरी मेरे।

सबको दीन्‍्हा मारी रे।। गुरु ....

द्वैत भाव सब दूर कराया ,

पूरण ब्रह्म एक दरसाया।

घट घट ज्योत निहारी रे।। गुरु ....

जोग जुगत गुरु देव बताई ,

ब्रह्मानंद शांति मन आईं ।

मानुष देह सुधारी रे।।

(Disclaimer: इस स्टोरी में दी गई सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं। Haribhoomi।com इनकी पुष्टि नहीं करता है। इन तथ्यों को अमल में लाने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Next Story