Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Gochar 2021 : मई में ये तीन ग्रह बदलेंगे अपनी राशि, एक क्लिक में जानें क्या हो सकता है इसका प्रभाव

  • वृषभ राशि वालों पर पड़ेगा सबसे ज्यादा असर
  • फेरबदल वाला रहेगा मई का महीना

Gochar 2021 : मई में ये तीन ग्रह बदलेंगे अपनी राशि, एक क्लिक में जानें क्या हो सकता है इसका प्रभाव
X

Gochar 2021 : ज्योतिष की दृष्टि से साल 2021 अत्यंत महत्वपूर्ण है। जबकि कल से शुरु होने वाला मई का महीना ज्योतिष और ग्रहों की दृष्टि से बहुत ही खास है। इस महीने में शुक्र, बुध और सूर्य राशि परिवर्तन करेंगे। इसके साथ ही शनि अपनी मकर राशि में, राहु वृषभ राशि में और केतु वृश्चिक राशि में गोचर करते हुए सभी राशियों को प्रभावित करेंगे। मंगल ग्रह मिथुन राशि में बने रहेंगे और चंद्रमा हर सवा दो दिन के बाद अपनी चाल बदलते रहते हैं।

ये भी पढ़ें : Vastu Shastra : चाहें कुछ भी हो जाये परन्तु इन दो चीजों का दान कभी मत करना, गले पड़ जाती है दरिद्रता और गरीबी

वहीं ज्योतिषाचार्य अनीष व्यास की मानें तो वैदिक ज्योतिष के सिद्धांत के अनुसार, मनुष्य के जीवन में जो भी घटनाएं घटित होती हैं। उनका कारण ग्रहीय दशा, गोचर, उनकी चाल है। सौरमंडल में बैठे ग्रह ही यह निर्धारित करते हैं कि आने वाला समय कैसा होगा और मनुष्य जीवन पर इसका क्या प्रभाव पड़ेगा। मई का महीना ग्रहों के लिहाज से भारी फेरबदल वाला साबित होगा। ज्योतिषीय गणना और हिंदू पंचांग के अनुसार मई के महीने में सूर्य, शुक्र, बुध की स्थितियों में बदलाव होगा।

ज्योतिषाचार्य अनीष व्यास ने बताया कि 01 मई 2021, दिन शनिवार को बुध वृषभ राशि में, 04 मई को शुक्र का वृषभ में प्रवेश और 14 मई को सूर्य राशि में चले जाएंगे। वहीं ग्रहों-नक्षत्रों के राशि परिवर्तन का सीधा प्रभाव जातक की राशि पर पड़ता है। कई बार ग्रहों के चाल बदलने से जातक को शुभ फलों की प्राप्ति होती है तो कई बार उतार-चढ़ाव का सामना करना पड़ता है। मई में होने वाले ग्रहों के राशि परिवर्तन से मेष से लेकर मीन राशि तक के जातकों को लाभ या नुकसान उठाना पड़ सकता है।

ये भी पढ़ें : Vivah : जानें, अपने विवाह में विलंब का कारण, शीघ्र शादी के लिए करें ये उपाय

01 मई 2021 को बुध करेंगे वृषभ राशि में गोचर

वहीं कुण्डली विश्ल़ेषक अनीष व्यास ने बताया कि 01 मई 2021 को ग्रहों के राजकुमार बुध वृषभ राशि में प्रवेश करेंगे। बुध देवता हम सभी के लिए बुद्धि का संचालन करते हैं और व्यक्ति के आचरण और व्यवहार की दिशा की तय करते हैं। बुध के गोचर से आपकी बुद्धि में विकास हो सकता है और आपको कहीं से रुके धन की प्राप्ति हो सकती है। हरी चीजों पर बुध का प्रभाव माना जाता है। बुध के अशुभ प्रभाव को दूर करने के लिए आपको हरी मूंग की दाल दान करनी चाहिए और गाय को पालक खिलाना चाहिए। इसके अलावा स्वयं भी हरी चीजों का सेवन अधिक करना चाहिए।

04 मई 2021 को शुक्र करेंगे वृषभ में प्रवेश

वहीं ज्योतिषशास्त्री अनीष व्यास की मानें तो सभी जातकों के दांपत्य जीवन लव रिलेशनशिप और भौतिक सुविधाओं जैसी प्रमुख चीजों को संचालित करने वाले दैत्यों के गुरु माने जाने वाले शुक्र ग्रह मंगलवार 04 मई 2021 को राशि परिवर्तन करेंगे। तथा 04 मई से शुक्र वृषभ राशि में गोचर करेंगे। शुक्र राशि परिवर्तन का भी असर सबसे ज्यादा वृषभ राशि के जातकों पर देखने को मिलेगा। इस दौरान वृषभ राशि वालों को आर्थिक लाभ हो सकता है। शुक्र ग्रह को वैभव, ऐश्वर्य और सुख-संपदा का कारक माना जाता है। शुक्र के राशि परिवर्तन से कई राशि वालों के अच्छे दिन आ सकते हैं तो कुछ लोग मुश्किल में भी पड़ सकते हैं। शुक्र का संबंध प्रजनन क्षमता से भी माना जाता है। इस में ग्रह में होने वाला बदलाव कई राशियों के यौन जीवन को प्रभावित कर सकता है।

14 मई को सूर्य का राशि परिवर्तन

सभी लोगों के करियर, शारीरिक बल और मान -सम्मान को प्रभावित करने वाले ग्रहों के परिवार के मुखिया यानी सूर्यदेव वृषभ राशि में प्रवेश करेंगे। सूर्य की स्थिति बदलने से हम सभी के करियर में बदलाव देखने को मिलते हैं। किसी को प्रमोशन मिल सकता है। किसी के हाथ में नई नौकरी लग सकती है। इस परिवर्तन के अशुभ प्रभाव को दूर करने के लिए सभी जातकों को रोजाना सूर्यदेव को अघ्र्य देना चाहिए। ऐसा करने से हमें निरोगी काया के साथ दीर्घायु भी प्राप्त होती है। सूर्य को ज्योतिष शास्त्र में आत्मा, यश, मान-सम्मान, राजा, उच्च पद और सरकारी सेवा का कारक माना जाता है।

ग्रहों के गोचर का प्रभाव

वहीं ज्योतिषाचार्य अनीष व्यास की मानें तो मई में जो ग्रहों की स्थिति बनने जा रही है वह बड़े परिवर्तनों की ओर इशारा कर रही है। गुरु, शुक्र, बुध और सूर्य के राशि परिवर्तन से व्यापार में तेजी आएगी। बीमारियों में कमी आएगी। रोजगार के अवसर बढ़ेंगे। आय में इजाफा होगा। प्राकृतिक घटनाएं होगी। भूकंप आने की संभावना है। राजनीति में बड़े स्तर पर परिवर्तन देखने को मिलेगा। इसका प्रभाव राज्य, राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर देखा जाएगा।

(Disclaimer: इस स्टोरी में दी गई सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं। Haribhoomi।com इनकी पुष्टि नहीं करता है। इन तथ्यों को अमल में लाने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Next Story