Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Gochar 2021 : न्याय और कर्म के देवता शनि महाराज 141 दिन बाद आज से चलेंगे सीधी चाल, जानें जनमानस पर कैसा होगा उनका प्रभाव

  • शनिदेव 23 मई 2021 से मकर राशि में उल्टी चाल चल रहे थे।
  • शनि मकर राशि में अब 29 अप्रैल 2022 तक मार्गी रहेंगे।
  • शनिदेव को ज्योतिष में न्यायाधीश बताया गया है।

Gochar 2021: सर्वार्थ सिद्धि और अमृत सिद्धि योग में किया देवगुरु बृहस्पति ने राशि परिवर्तन, जानें इसके लाभ, प्रभाव और उपाय
X

Gochar 2021 : शनि देव लंबे समय के बाद सीधी चाल चलने जा रहे हैं यानि शनि देव सोमवार 11 अक्टूबर 2021 को सुबह 7:48 पर मार्गी होने जा रहे हैं। अभी तक शनि वक्री थे। मकर राशि में शनि का गोचर हो रहा है। वर्ष 2021 में शनि का कोई राशि परिवर्तन नहीं है। ज्योतिष शास्त्र में शनि की चाल को अत्यंत धीमा बताया गया है। यही कारण है कि व्यक्ति के जीवन पर शनि का प्रभाव अधिक दिनों तक रहता है। शनिदेव 23 मई 2021 से मकर राशि में उल्टी चाल चल रहे थे। लेकिन अब वे सोमवार 11 अक्टूबर 2021 को सुबह 7:48 पर मार्गी होंगे। अर्थात सीधी चाल से चलेंगे। शनि मकर राशि में 29 अप्रैल 2022 तक मार्गी रहेंगे। उसके बाद वे कुंभ राशि में गोचर कर जाएंगे। शनि देव को कर्मफल दाता माना गया है यानि शनि देव व्यक्ति के कर्मों के अनुसार शुभ- अशुभ फल प्रदान करते हैं। शनि को न्यायाधीश बताया गया है। जन्म कुंडली में शनि जब अशुभ होते हैं तो व्यक्ति का जीवन मुसीबतों से भर देते हैं। व्यक्ति को धन हानि, रोग, तलाक, प्रेम संबंधों में बाधा आदि भी प्रदान करते हैं। इसलिए शनि देव को शांत रखना अत्यंत आवश्यक माना गया है।

ये भी पढ़ें : Shardiya Navratri 2021: दुर्गा सप्तशती के पाठ का ये महत्व जानकर आप प्रतिदिन करने लग जाएंगे मातारानी का गुणगान, जानें इसकी ये महत्वपूर्ण बात

ज्योतिषाचार्य अनीष व्यास ने बताया कि वर्तमान समय में धनु राशि, मकर राशि ,और कुंभ राशि पर चल रही है। शनि की साढ़ेसाती, वही मिथुन राशि और तुला राशि पर है। शनि की ढैया का है प्रभाव। शनि के मार्गी होने से कई राशियों को लाभ होगा। साथ ही देश-दुनिया पर भी शनि के मार्गी होने का विशेष प्रभाव पड़ेगा। शनि के चाल बदलने या फिर राशि परिवर्तन को ज्योतिष शास्त्र में काफी महत्वपूर्ण माना जाता है। शनि मंद गति से चलने वाले ग्रह हैं। यह करीब ढाई वर्ष में एक राशि से दूसरी राशि में अपना स्थान परिवर्तन करते हैं। शनि के राशि परिवर्तन से जातकों के जीवन में उथल-पुथल शुरू होती है। शनि 2020 से मकर राशि में है और 23 मई 2021 से इसी राशि में उल्टी चाल चल रहे हैं।

यह होगा असर

कुण्डली विश्ल़ेषक अनीष व्यास ने बताया कि अब शनि की चाल बदलने वाली है। जो कि सोमवार 11 अक्टूबर 2021 को सुबह 7:48 पर शनि उल्टी चाल से मार्गी अवस्था में आ जाएंगे। इनके मार्गी होने से कृषि आंदोलन का संघर्ष समाप्त होते दिख रहा है। इसके साथ ही भवन निर्माण, कृषि कार्य, इंजीनियर ,इलेक्ट्रॉनिक, क्रेशर ,मार्बल, लकड़ी ,गैस ठेकेदारी, बिल्डिंग मटेरियल से जुड़े कर्म क्षेत्रों से जुड़े लोगों को शुभ लाभ होने वाला रहेगा। इसके साथ ही जिन जातकों को नई नौकरी की तलाश थी। उनको नई नौकरी की मिलने की संभावनाएं बनेंगी। साथ ही धर्म क्षेत्र का अस्तित्व पूरे विश्व में बढ़ेगा। पेट से ,हृदय से, तथा कैंसर से जूझ रहे जातकों को राहत मिलनी शुरू हो जाएगी। उग्रवादी स्थितियों पर भी लगाम लगेगा।

141 दिनों बाद होंगे शनि मार्गी

कुण्डली विश्ल़ेषक अनीष व्यास ने बताया कि शनि देव 23 मई 2021 को वक्री हुए थे। शनि अब सोमवार 11 अक्टूबर 2021 को सुबह 07 बजकर 48 मिनट पर मार्गी होने जा रहे हैं। शनि देव 141 दिन बाद शनि मार्गी हो रहे हैं। मार्गी अवस्था में आते ही शनि प्रभावशाली हो जाएंगे। वक्री अवस्था में शनि कमजोर माने गए हैं।

शनि दोष से मिलने वाले कष्ट होंगे दूर

भविष्यवक्ता अनीष व्यास ने बताया कि शनि 23 मई 2021 से मकर राशि में वक्री यानी उल्टी चाल चल रहे हैं। मार्गी होने के कारण शनि का कई राशियों पर प्रभाव पड़ेगा। जिसके कारण कई राशि वालों की परेशानियां बढ़ सकती है। इस महीने शनि 11 अक्टूबर 2021, दिन सोमवार को सुबह 08 बजे मार्गी हो जाएंगे। शनि के राशि परिवर्तन या चाल परिवर्तन को काफी महत्वपूर्ण माना जाता है। शनि सबसे मंद गति वाले ग्रह हैं। ये राशि से दूसरी राशि में गोचर करने में करीब ढाई साल का वक्त लगाते हैं।

(Disclaimer: इस स्टोरी में दी गई सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं। Haribhoomi.com इनकी पुष्टि नहीं करता है। इन तथ्यों को अमल में लाने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Next Story