Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Gochar 2021 : शनि का गोचर किन लोगों का करेगा मंगल और अमंगल, जानें इसके उपाय

Gochar 2021 : 11 अक्टूबर 2021, दिन सोमवार यानी आज सुबह 07:48 बजे से शनि मार्गी हो गए हैं। वहीं ज्योतिष के अनुसार, शनि अभी तक वक्री स्थिति में थे और मकर राशि में शनि गोचर कर रहे थे। वहीं शनि अब 29 अप्रैल 2022 तक मार्गी रहेंगे। वहीं इस दौरान वे कुछ राशि के जातकों के लिए शुभ फल प्रदान करेंगे और कुछ राशि के जातकों को इस दौरान बड़ी सावधानी से काम लेना पड़ सकता है।

Gochar 2021: सर्वार्थ सिद्धि और अमृत सिद्धि योग में किया देवगुरु बृहस्पति ने राशि परिवर्तन, जानें इसके लाभ, प्रभाव और उपाय
X

Gochar 2021 : 11 अक्टूबर 2021, दिन सोमवार यानी आज सुबह 07:48 बजे से शनि मार्गी हो गए हैं। वहीं ज्योतिष के अनुसार, शनि अभी तक वक्री स्थिति में थे और मकर राशि में शनि गोचर कर रहे थे। वहीं शनि अब 29 अप्रैल 2022 तक मार्गी रहेंगे। वहीं इस दौरान वे कुछ राशि के जातकों के लिए शुभ फल प्रदान करेंगे और कुछ राशि के जातकों को इस दौरान बड़ी सावधानी से काम लेना पड़ सकता है, अन्यथा वे किसी मामले में फंस सकते हैं अथवा परेशानियां उनके जीवन का अंग बन सकती हैं। तो आइए जानते हैं किन राशि वालों को शनि के इस गोचर से लाभ हो सकता है और किन राशि के जातकों को सावधान रहना होगा और इस दौरान शनि को अनुकूल बनाने के लिए क्या उपाय करने होंगे।

इन राशि वालों को होगा लाभ

भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक अनीष व्यास की मानें तो मार्गी शनि से धनु राशि वालों को शुभ परिणाम प्राप्त हो सकते हैं। शनि की साढ़े साती से पीड़ित इन राशि वालों के अच्छे दिन शुरू हो सकते हैं। इसके अलावा मकर और कुंभ राशि वालों को भी राहत मिलेगी। शनि ढैय्या से पीड़ित मिथुन और तुला राशि वालों की भी परेशानियां कम होंगी। मेष और कन्या राशि वालों के लिए भी समय अनुकूल रहेगा।

इन राशि वालों को रहना होगा सावधान

भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक अनीष व्यास ने बताया कि शनि के राशि परिवर्तन के साथ ही मीन राशि वालों पर शनि की साढ़े साती शुरू होगी। कर्क और वृश्चिक राशि वालों पर शनि ढैय्या शुरू हो जाएगी। इस दौरान वृषभ और सिंह राशि वालों को भी उतार-चढ़ाव का सामना करना पड़ सकता है।

शनि दोष से मुक्ति पाने के लिए उपाय

भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक अनीष व्यास ने बताया कि शिव उपासना और हनुमत उपासना करें। मंगलवार और शनिवार को हनुमान जी की पूजा करें। हनुमान चालीसा एवं शनि चालीसा का पाठ करें। शनिवार के दिन शनि मंदिर में छाया दान अवश्य करें। गरीब, वृद्ध, असहाय लोगों को भोजन कराएं। पशु पक्षियों के लिए दाने, हरे चारे, पानी की व्यवस्था करें। तेल का दान भी करना चाहिए। तेल दान करने से आपको अपने कष्टों से छुटकारा मिलता है। शनिवार को लोहे से बनी चीजों को दान करना चाहिए। इस दिन लोहे का सामान दान करने से शनि देव शांत होते हैं। लोहा दान देने से शनि की दृष्टि निर्मल होती है। रुद्राक्ष की माला लेकर एक सौ आठ बार ॐ शं शनैश्चराय नमः का जप करें, शनिदेव की कृपा बनेगी और कष्ट दूर होंगे। काले कुत्ते को शनिवार के दिन सरसों के तेल से बनी रोटी खिलाएं। सूर्यास्त के समय पीपल के पेड़ के पास सरसों के तेल का दीपक जलाने से शनि दोष से मुक्ति मिलती है।

ना करें ये काम

कुण्डली विश्ल़ेषक अनीष व्यास ने बताया कि किसी असहाय को बेवजह परेशान नहीं करें। मांस, मदिरा का सेवन बिल्कुल नही करें। कमजोर व्यक्तियों का अपमान न करें। अनैतिक कार्यों से दूर रहें।

(Disclaimer: इस स्टोरी में दी गई सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं। Haribhoomi.com इनकी पुष्टि नहीं करता है। इन तथ्यों को अमल में लाने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Next Story