Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Gochar 2021 : वैवाहिक सुख के दाता और वैभव देने वाले शुक्र ग्रह कल करेंगे मिथुन राशि में प्रवेश, जानें इसके उपाय और प्रभाव

  • 28 मई को वृषभ से मिथुन राशि में प्रवेश करेगा शुक्र ग्रह
  • सुख और वैभव देने वाले शुक्र ग्रह
  • शुक्र इस दिन रात 11 बजकर 44 मिनट पर मिथुन राशि में करेंगे प्रवेश

Gochar 2021 : वैवाहिक सुख के दाता और वैभव देने वाले शुक्र ग्रह कल करेंगे मिथुन राशि में प्रवेश, जानें इसके उपाय और प्रभाव
X

Gochar 2021 : वैवाहिक सुख के दाता और वैभव देने वाले शुक्र ग्रह कल करेंगे मिथुन राशि में प्रवेश, जानें इसके उपाय और प्रभाव

Gochar 2021 : फलित ज्योतिष में महत्वपूर्ण स्थान रखने वाले शुक्र ग्रह 28 मई 2021 यानी कल को मिथुन राशि में प्रवेश करने जा रहा है। वर्तमान समय में शुक्र वृषभ राशि में गोचर कर रहे हैं, लेकिन 28 मई 2021 शुक्रवार को वृषभ राशि से निकल कर मिथुन राशि में प्रवेश करेंगे। शुक्र इस दिन रात 11 बजकर 44 मिनट पर मिथुन राशि में गोचर करेंगे। मिथुन राशि में शुक्र 22 जून 2021 तक रहेंगे। मिथुन राशि पर इनके मित्र ग्रह बुध पहले से ही विद्यमान है अतः बुध और शुक्र का एक साथ रहना पृथ्वी वासियों के लिए बहुत सुखद परिणाम दायक रहेगा। ज्योतिष में शुक्र को धन, मूल्य, संगीत, सौंदर्य, मनोरंजन, बंधन ऊर्जा, प्रेम, संबंध की भावना, जीवनसाथी, माता प्रेम, रचनात्मकता, विवाह, संबंध, कला, समर्पण, मीडिया, फैशन, पेंटिंग का कारक ग्रह माना जाता है।

ये भी पढ़ें : Mercury Transit 2021: बुध 26 मई को अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे गोचर, गले से जुड़ी बीमारियों में लोगों को मिल सकती है राहत

शुक्र को सभी ग्रहों में सबसे चमकदार ग्रह माना जाता है। चूंकि शुक्र एक शुभ ग्रह है इसलिए कुंडली में इसकी अच्छी स्थिति से जातकों को जीवन में कई सुख सुविधाएँ मिलती हैं लेकिन मुख्य रुप से प्रेम, भौतिक सुखों में इसकी मजबूती से वृद्धि होती है। इसके साथ ही वैवाहिक जीवन में भी शुक्र की स्थिति का असर पड़ता है, यदि कुंडली में शुक्र अच्छी स्थिति में है तो दांपत्य जीवन सुखद रहता है। वहीं शुक्र की दुर्बल स्थिति व्यक्ति के वैवाहिक जीवन को खराब कर सकती है। शनि व बुध शुक्र के मित्र ग्रहों में आते है। शुक्र ग्रह के शत्रुओं में सूर्य व चन्द्रमा है। शुक्र के साथ गुरु व मंगल सम सम्बन्ध रखते हैं। वृषभ एवं तुला राशि के स्वामी शुक्र कन्या राशि में नीच राशिगत संज्ञक तथा मीन राशि में उच्चराशिगत संज्ञक कहे गए हैं।

ये भी पढ़ें : Vastu Shastra : भाग्योदय के लिए ऐसे लगाएं अपने घर में भगवान की मूर्ति, जानें...

अमृत संजीवनी के दाता हैं शुक्र

कुण्डली विश्ल़ेषक अनीष व्यास ने बताया कि अमृत संजीवनी के मालिक शुक्र पृथ्वी के साथ हैं और शुक्र के पास अमृत संजीवनी है। कोरोना महामारी से होने वाली मृत्यु दर में कमी आएगी और कोरोना का असर न्यूनतम होगा। प्राकृतिक आपदा और अप्रिय घटनाएं जन शून्य स्थानों पर होने की संभावना अधिक है। शुक्र अमृत संजीवनी के कारण दुर्घटना के शिकार लोगों को बचाने में सफल रहेंगे।

शुक्र का गोचर किस राशि के लिए कैसा रहेगा

शुक्र का गोचर शुभ

मिथुन, सिंह, कन्या, तुला, कुंभ

शुक्र का गोचर अशुभ

कर्क , मकर, वृश्चिक

शुक्र का गोचर सामान्य

मेष, वृष, धनु, मीन

शुक्र का शुभ-अशुभ प्रभाव

कुण्डली विश्ल़ेषक अनीष व्यास ने बताया कि शुक्र के राशि परिवर्तन से बिजनेस करने वाले लोगों के लिए समय अच्छा रहेगा। रोजगार के क्षेत्रों में वृद्धि होगी। आय में बढ़ोतरी होगी। देश की अर्थव्यवस्था के लिए शुभ रहेगा। खाने की चीजों की कीमतें सामान्य रहेंगी। सब्जियां, तिलहन और दलहन की कीमतें कम होंगी। मशीनरी समान महंगे हो सकते हैं। व्यापार में तेजी रहेगी। सोने चांदी के भाव में वृद्धि होगी। भौतिक सुख और वैवाहिक सुख में वृद्धि होगी। कानूनी मामलों में वृद्धि होगी। सुख-सुविधाओं की चीजों में बढ़ोत्तरी भी हो सकती है इसके साथ ही राजनीति में उतार-चढ़ाव देखने को मिलेगा। शुक्र के अशुभ प्रभाव से स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां भी होती है।

शुक्र के उपाय

कुण्डली विश्ल़ेषक अनीष व्यास ने बताया कि लक्ष्मी माता की उपासना करें। सफेद वस्त्र दान करें। भोजन का कुछ हिस्सा गाय, कौवे और कुत्ते को दें। शुक्रवार का व्रत रखें और उस दिन खटाई न खाएं। चमकदार सफेद एवं गुलाबी रंग का प्रयोग करें। श्री सूक्त का पाठ करें। शुक्रवार के दिन दही, खीर, ज्वार, इत्र, रंग-बिरंगे कपड़े, चांदी, चावल इत्यादि वस्तुएं दान करें।

(Disclaimer: इस स्टोरी में दी गई सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं। Haribhoomi.com इनकी पुष्टि नहीं करता है। इन तथ्यों को अमल में लाने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Next Story