Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Gochar 2021 : शुक्र ने बदली राशि, 06 सितंबर तक कन्या में करेंगे गोचर

Gochar 2021 : शुक्र ग्रह ने बुधवार, 11 अगस्त को कन्या राशि में प्रवेश कर लिया है। इस राशि में शुक्र नीच का रहता है। शुक्र की ये स्थिति कुछ लोगों के लिए शुभ नहीं है। शुक्र 6 सितंबर तक इसी राशि में रहेंगे। इसके बाद शुक्र तुला राशि में प्रवेश करेगा। शुक्र के राशि परिवर्तन से कुछ राशियों को सबसे अधिक फायदा होने जा रहा है। ज्योतिष में शुक्र भौतिक सुख, वैवाहिक सुख, भोग-विलास, शौहरत, कला, प्रतिभा, सौन्दर्य, रोमांस, काम-वासना और फैशन-डिजाइनिंग आदि का कारक ग्रह माना जाता है।

Gochar 2021 : शुक्र ने बदली राशि, 06 सितंबर तक कन्या में करेंगे गोचर
X

Gochar 2021 : शुक्र ग्रह ने बुधवार, 11 अगस्त को कन्या राशि में प्रवेश कर लिया है। इस राशि में शुक्र नीच का रहता है। शुक्र की ये स्थिति कुछ लोगों के लिए शुभ नहीं है। शुक्र 6 सितंबर तक इसी राशि में रहेंगे। इसके बाद शुक्र तुला राशि में प्रवेश करेगा। शुक्र के राशि परिवर्तन से कुछ राशियों को सबसे अधिक फायदा होने जा रहा है। ज्योतिष में शुक्र भौतिक सुख, वैवाहिक सुख, भोग-विलास, शौहरत, कला, प्रतिभा, सौन्दर्य, रोमांस, काम-वासना और फैशन-डिजाइनिंग आदि का कारक ग्रह माना जाता है। ज्योतिषाचार्य अनीष व्यास ने बताया कि शुक्र, वृष और तुला राशि के स्वामी होते हैं और मीन इनकी उच्च राशि है, जबकि कन्या इनकी नीच राशि है। शुक्र के शुभ प्रभाव से सुख-समृद्धि और सौभाग्य में होगी वृद्धि होती है। शुक्र को सभी ग्रहों में सबसे चमकदार ग्रह माना जाता है। चूंकि शुक्र एक शुभ ग्रह है इसलिए कुंडली में इसकी अच्छी स्थिति से जातकों को जीवन में कई सुख सुविधाएं मिलती हैं लेकिन मुख्य रुप से प्रेम, भौतिक सुखों में इसकी मजबूती से वृद्धि होती है। इसके साथ ही वैवाहिक जीवन में भी शुक्र की स्थिति का असर पड़ता है, यदि कुंडली में शुक्र अच्छी स्थिति में है तो दांपत्य जीवन सुखद रहता है। वहीं शुक्र की दुर्बल स्थिति व्यक्ति के वैवाहिक जीवन को खराब कर सकती है।

ये भी पढ़ें : Chanakya Niti : महिलाएं कभी नहीं देती अपने पाटर्नर को ये चीज, जानकर चौक जाएंगे आप

ज्योतिष के मुताबिक, शनि व बुध शुक्र के मित्र ग्रहों में आते है। शुक्र ग्रह के शत्रुओं में सूर्य व चन्द्रमा है। शुक्र के साथ गुरु व मंगल सम सम्बन्ध रखते हैं। वृषभ एवं तुला राशि के स्वामी शुक्र कन्या राशि में नीच राशिगत संज्ञक तथा मीन राशि में उच्चराशिगत संज्ञक कहे गए हैं।

प्रभाव

कुण्डली विश्ल़ेषक अनीष व्यास ने बताया कि गलत काम, चोर और भ्रष्टाचार बढ़ने की संभावना है। वस्तुओं की लागत बढ़ सकती है। कई लोगों के लिए कष्टपूर्ण समय हो सकता है। कई लोग खांसी और ठण्ड से पीड़ित हो सकते हैं। अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी अशुभ असर देखने को मिलेगा। राष्ट्रों के बीच संघर्ष बढ़ सकता है। आसपास के देशों से भारत के संबंध तनावपूर्ण हो सकते हैं। मन में बेचैनी एवं अस्थिरता उत्पन्न होगी। साथ ही अकारण चिंता, भय और तनाव भी होगा। भूकंप बरसात दुर्घटना और प्राकृतिक आपदा होगी। लेकिन जन शून्य स्थानों पर होगी। शुक्र के पास अमृत संजीवनी है और शुक्र पृथ्वी के साथ है। पाकिस्तान नेपाल चीन अरब और अफ्रीकी देशों में हिंसा, अराजकता, आतंकवाद बढ़ेगा।

ये भी पढ़ें : Janmashtami 2021 Shayari : श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर इन बेहतरीन टॉप-10 शायरियों से दें अपने प्रियजनों को शुभकामनाएं

शुक्र के उपाय

भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक अनीष व्यास ने बताया कि मां लक्ष्मी अथवा मां जगदम्बा की पूजा करें। भोजन का कुछ हिस्सा गाय, कौवे और कुत्ते को दें। शुक्रवार का व्रत रखें और उस दिन खटाई न खाएं। चमकदार सफेद एवं गुलाबी रंग का प्रयोग करें। श्री सूक्त का पाठ करें। शुक्रवार के दिन सफेद वस्त्र, दही, खीर, ज्वार, इत्र, रंग-बिरंगे कपड़े, चांदी, चावल इत्यादि वस्तुएं दान करें।

Gochar 2021 : शुक्र ग्रह ने बुधवार, 11 अगस्त को कन्या राशि में प्रवेश कर लिया है। इस राशि में शुक्र नीच का रहता है। शुक्र की ये स्थिति कुछ लोगों के लिए शुभ नहीं है। शुक्र 6 सितंबर तक इसी राशि में रहेंगे। इसके बाद शुक्र तुला राशि में प्रवेश करेगा। शुक्र के राशि परिवर्तन से कुछ राशियों को सबसे अधिक फायदा होने जा रहा है। ज्योतिष में शुक्र भौतिक सुख, वैवाहिक सुख, भोग-विलास, शौहरत, कला, प्रतिभा, सौन्दर्य, रोमांस, काम-वासना और फैशन-डिजाइनिंग आदि का कारक ग्रह माना जाता है।(Disclaimer: इस स्टोरी में दी गई सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं। Haribhoomi।com इनकी पुष्टि नहीं करता है। इन तथ्यों को अमल में लाने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Next Story