Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Ganga Dussehra 2021 : जानें, गंगा दशहरा पूजा विधि, इस दिन जरुर करें ये काम

  • गंगा दशहरा (Ganga Dussehra) हिन्दुओं का एक पवित्र त्योहार है ।
  • गंगा दशहरा का पावन पर्व ज्येष्ठ शुक्ल दशमी तिथि (Jyeshtha Shukla Dashami Tithi) के दिन मनाया जाता है।

Ganga Dussehra 2021 : जानें, गंगा दशहरा पूजा विधि, इस दिन जरुर करें ये काम
X

Ganga Dussehra 2021 : गंगा दशहरा (Ganga Dussehra) हिन्दुओं का एक पवित्र त्योहार है। गंगा दशहरा का पर्व देशभर में बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। मान्यताओं के अनुसार इस दिन मां गंगा (Maa Ganga) का धरती लोक (Dharati lok) में आगमन हुआ था। गंगा दशहरा का पावन पर्व ज्येष्ठ शुक्ल दशमी तिथि (Jyeshtha Shukla Dashami Tithi) के दिन मनाया जाता है। माना जाता है कि इस दिन गंगास्नान, दान-पुण्य (GangaSanan, Daan-punya) का बहुत महत्व (importance) होता है। इस दिन गंगास्नान करने से मनुष्य के सभी पाप नष्ट हो जाते हैं। पतितपावनी मां गंगा की निर्मल धारा को इसी दिन राजा भगीरथ (King Bhagirath) अपने पुण्य प्रताप और तपस्या के बल पर पृथ्वी पर लाए थे इसीलिए मां गंगा का एक नाम भागीरथी (Bhagirathi) भी है। तो आइए जानते हैं गंगा दशहरा पर गंगा की पूजा कैसे करें।

ये भी पढ़ें : Ganga Dussehra 2021 : गंगा दशहरा की व्रत कथा सुनने से होता है जीवात्मा का उद्धार

गंगा दशहरा पूजा विधि ( Ganga Dussehra Puja Vidhi)

  • गंगा दशहरा के दिन सुबह जल्दी उठकर गंगास्नान करना चाहिए।
  • अगर आपके लिए गंगा में स्नान करना संभव ना हो तो किसी नदी या पवित्र सरोवर में भी स्नान कर सकते हैं।
  • इसके बाद भगवान की पूजा करने के साथ ही गरीबों और ब्रह्मणों को दान-दक्षिणा देना चाहिए।
  • ऐसा करने से जानें-अनजाने में किए गए पापों से मुक्ति और जिन्दगी में शांति भी मिलती है।

ये भी पढ़ें :Jyotish Shastra : दान में कभी ना लें ये पांच चीज, जिंदगी हो जाएगी बर्बाद

गंगा दशहरा उपाय ( Ganga Dussehra Upay)

भक्तों पर मां गंगा की कृपा सदैव बनी रहती है। पौराणिक कथाओं के अनुसार, महाराजा भगीरथ के अखंड तप के प्रभाव से प्रसन्न होकर जिस दिन मां गंगा पृथ्वी पर अवतरित हुई वह बहुत ही दिव्य और पवित्र दिन था। यह दिन ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी का दिन था। पृथ्वी पर माता गंगा के अवतरण दिवस को गंगा दशहरा के रुप में मनाया जाता है। इस दिन गंगास्नान से मनुष्य को कई यज्ञ करने के बराबर पुण्य प्राप्त होता है। इसलिए मनुष्य को पवित्र मन और भावना के साथ ही गंगा स्नान करना चाहिए। इस दिन मां गंगा और भगवान शिव का स्मरण जरुर करें।

(Disclaimer: इस स्टोरी में दी गई सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं। Haribhoomi.com इनकी पुष्टि नहीं करता है। इन तथ्यों को अमल में लाने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Next Story