Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

गणेश चतुर्थी 2020 : चंद्र दर्शन से बचने का समय, आप भी जानें

22 अगस्त 2020, दिन शनिवार को गणेश चतुर्थी है। और गणेश चतुर्थी पर भगवान गणेश की पूजा बड़े धूमधाम से की जाती है। और यह पर्व कुछ ही दिनों में आने वाला है। हिन्दू धर्म में सभी लोगों को इस पर्व का इंतजार रहता है। गणेश चतुर्थी को भगवान गणेश जी का जन्मदिन मनाया जाता है। इस दिन गणेश भगवान की स्थापना होगी। सनातन धर्म में गणेश जी प्रथम पूज्य और प्रमुख देव माने जाते हैं। भगवान गणेश जी रिद्धि-सिद्धि के दाता और शुभ-लाभ के प्रदाता माने गए हैं। वे भक्तों की बाधा, रोग, दोष तथा दरिद्रता को दूर करते हैं। गणेश चतुर्थी के दिन गणेश जी स्थापना के लिए उत्तम मुहूर्त देखा जाता है। उत्तम व श्रेष्ठ मुहूर्त में ही भगवान गणेश जी की स्थापना की जाती है। गणेश चतुर्थी के दिन चंद्र दर्शन करने से बचना चाहिए। तो आइए आप भी जानें चंद्र दर्शन से बचने का समय।

Ganesh Chaturthi 2021: गणेश चतु्र्थी के दिन ना करें चंद्र दर्शन, लगता है कलंक, जानें इससे बचने का उपाय और मंत्र
X
प्रतीकात्मक

22 अगस्त 2020, दिन शनिवार को गणेश चतुर्थी है। और गणेश चतुर्थी पर भगवान गणेश की पूजा बड़े धूमधाम से की जाती है। और यह पर्व कुछ ही दिनों में आने वाला है। हिन्दू धर्म में सभी लोगों को इस पर्व का इंतजार रहता है। गणेश चतुर्थी को भगवान गणेश जी का जन्मदिन मनाया जाता है। इस दिन गणेश भगवान की स्थापना होगी। सनातन धर्म में गणेश जी प्रथम पूज्य और प्रमुख देव माने जाते हैं। भगवान गणेश जी रिद्धि-सिद्धि के दाता और शुभ-लाभ के प्रदाता माने गए हैं। वे भक्तों की बाधा, रोग, दोष तथा दरिद्रता को दूर करते हैं। गणेश चतुर्थी के दिन गणेश जी स्थापना के लिए उत्तम मुहूर्त देखा जाता है। उत्तम व श्रेष्ठ मुहूर्त में ही भगवान गणेश जी की स्थापना की जाती है। गणेश चतुर्थी के दिन चंद्र दर्शन करने से बचना चाहिए। तो आइए आप भी जानें चंद्र दर्शन से बचने का समय।

मान्यता है कि भगवान गणेश जी का जन्म भाद्रपद माह में शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को मध्यानकाल में, स्वाति नक्षत्र और सिंह लग्न में दिन सोमवार को हुआ था। इसलिए यह चतुर्थी मुख्य गणेश चतुर्थी और विनायक चतुर्थी कहलाती है। गणेश चतुर्थी के शुभ अवसर पर भगवान गणेश जी की पूजा और स्थापना होती है। गणेश चतुर्थी की पूजा लगातार 10 दिनों तक चलती है। अनंत चतुर्दशी गणपति की विदाई हो जाती है। अगर आप भी चाहते हैं कि गणेश महोत्सव के दौरान आपकी भी सभी मन्नतें पूरी हों, भगवान गणेश जी की पूजा आप करें।भगवान गणेश जी की पूजा और स्थापना करने से आपके जीवन के सभी कष्ट और विघ्न का अंत हो जाएगा।

गणेश चतुर्थी पर सुबह 09:07 बजे से रात्रि 09:25 बजे तक चंद्र दर्शन करने से बचें। चंद्र दर्शन ना करने की अवधि कुल 12 घंटे 19 मिनट है। गणेश चतुर्थी के दिन चंद्रमा के दर्शन करना निषेध होता है। माना जाता है कि इस दिन चंद्रमा के दर्शन करने से मिथ्या दोष या मिथ्या कलंक लगता है। इसलिए दस दिन चंद्रमा के दर्शन ना करें।

गणेश चतुर्थी पर भगवान गणेश की मूर्ति की स्थापना सही तिथि और सही मुहूर्त पर ही करें। यदि आप सही मुहूर्त पर गणेश जी की मूर्ति स्थापना करते हैं तो आपके घर में सब मंगल ही मंगल होगा।

और पढ़ें
Next Story