Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Durga Ashtami 2021 : ये है दुर्गा अष्टमी का शुभ मुहूर्त, जानें इस बार कन्या पूजन ना करने पर क्यों नहीं लगेगा दोष

  • नवरात्रि के आठवें दिन यानि अष्टमी तिथि पर मां दुर्गा की विशेष पूजा का विधान है।
  • इस साल दुर्गा अष्टमी का पर्व 20 अप्रैल दिन मंगलवार को है।

Durga Ashtami 2021 : दुर्गा अष्टमी का शुभ मुहूर्त, जानें इस बार कन्या पूजन ना करने पर क्यों नहीं लगेगा दोष
X

Durga Ashtami 2021 : नवरात्रि के आठवें दिन यानि अष्टमी तिथि पर मां दुर्गा की विशेष पूजा का विधान है। इस साल दुर्गा अष्टमी का पर्व 20 अप्रैल दिन मंगलवार को है। साथ ही यह दिन मां महागौरी की पूजा का भी दिन है। नवरात्रि में अष्टमी और नवमी विशेष दिन होते हैं। इन दिनों में कन्या भोजन और देवी दुर्गा को प्रसन्न करने के लिए यज्ञ और हवन करवाए जाते हैं।

ये भी पढ़ें : Durga Ashtami 2021 : दुर्गा अष्टमी-नवमी कब है, जानें नव कन्या पूजन करने की विधि


पुराणों में अष्टमी तिथि को देवी पूजा का महत्व बताया गया है। जिसके मुताबिक अष्टमी पर देवी पूजा करने से हर तरह की परेशानी दूर हो जाती है और घर में कभी दरिद्रता भी नहीं आती है। वहीं अगर इस बार आप कोरोना संक्रमण के चलते या किसी अन्य कारण से कन्या पूजन ना कर पाएं तो इसका कोई दोष नहीं लगेगा। अष्टमी पर कन्या पूजन का संकल्प लेकर आने वाले किसी भी महीने में शुक्ल पक्ष की अष्टमी के दिन कन्या का पूजन कर भोजन करवाया जाए तो देवी प्रसन्न होती हैं। साथ ही इस अष्टमी पर किसी जरुरतमंद को खाना खिलाया जा सकता है तो आपको कोई दोष नहीं लगेगा।

ये भी पढ़ें : Hanuman Janmotsav 2021 : हनुमान जन्मोत्सव पर मिलेगी संकटों से निजात


अष्टमी तिथि पर मंत्रों और अनेक प्रकार से विधि-विधान से देवी की पूजा करनी चाहिए। इस दिन मां दुर्गा से सुख-समृद्धि, यश-कीर्ति, विजय और आरोग्यता की कामना करनी चाहिए।

मां दुर्गा का पूजन अष्टमी और नवमी को करने से कष्ट और हर हर के दुख मिट जाते हैं और शत्रुओं पर विजय प्राप्त होती है। यह तिथि परम कल्याणकारी, पवित्र और सुख को देने वाली तथा धन की वृद्धि करने वाली है।

अष्टमी पूजा का मुहूर्त

सुबह का मुहूर्त

07:15 बजे से 09:05 बजे तक

दोपहर का मुहूर्त

01:40 बजे से 03:50 बजे तक

रात का मुहूर्त

08:35 बजे से रात 10:50 बजे तक

अभिजीत मुहूर्त

सुबह 11:42 बजे से दोपहर 12:33 बजे तक

नवरात्रि में कन्या पूजन करने के बाद कन्याओं को प्रसाद खिलाना चाहिए और साथ ही उन्हें दक्षिणा भी देनी चाहिए, क्योंकि कन्या पूजन में यह बेहद अहम होता है। इससे मां दुर्गा प्रसन्न होकर सभी मनोकामनाएं पूरी करती हैं।

(Disclaimer: इस स्टोरी में दी गई सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं। Haribhoomi.com इनकी पुष्टि नहीं करता है। इन तथ्यों को अमल में लाने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Next Story