Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

रसोईघर में ना करें ये गलतियां, नहीं तो हो जाएंगे कंगाल, आप भी जानें

व्यक्ति को सफलता प्राप्त करने के लिए उसका स्वस्थ होना सबसे ज्यादा आवश्यक होता है। अगर आपका शरीर स्वस्थ है तो आप हमेशा अपने लक्ष्य को प्राप्त कर सकते हैं। और आपके शरीर को स्वस्थ रखने का कार्य आपका रसोईघर करता है। अगर आपका रसोईघर अच्छा है और उसमें वास्तु शास्त्र के अनुसार कोई गलतियां नहीं होती है तो माता अन्नपूर्णा आप के ऊपर प्रसन्न रहती हैं।

रसोईघर में ना करें ये गलतियां, नहीं तो हो जाएंगे कंगाल, आप भी जानें
X
प्रतीकात्मक तस्वीर

व्यक्ति को सफलता प्राप्त करने के लिए उसका स्वस्थ होना सबसे ज्यादा आवश्यक होता है। अगर आपका शरीर स्वस्थ है तो आप हमेशा अपने लक्ष्य को प्राप्त कर सकते हैं। और आपके शरीर को स्वस्थ रखने का कार्य आपका रसोईघर करता है। अगर आपका रसोईघर अच्छा है और उसमें वास्तु शास्त्र के अनुसार कोई गलतियां नहीं होती है तो माता अन्नपूर्णा आप के ऊपर प्रसन्न रहती हैं। और माता अन्नपूर्णा आपको मालामाल कर देंती हैं। लेकिन अगर आपका रसोईघर वास्तु शास्त्र के अनुकूल नहीं हैं तो आप उन गलतियों को नजरंदाज ना करें। ऐसी गलतियों की वजह से आपका पूरा घर कंगाल हो सकता है। रसोईघर में इन गलतियों को करना सबसे बड़ा पाप भी माना जाता है। इससे पूरे परिवार को दुखों का सामना करना पड़ सकता है। तो आइए जानते हैं रसोईघर के बारे में कुछ महत्वपूर्ण बातें।

1. रसोईघर में अस्थाई रूप से माता अन्नपूर्णा का वास होता है। ऐसे में कई महिलाएं ऐसी होती हैं जो खाना बनाते समय स्नान नहीं करती, तथा हाथ-पांव भी नहीं धोती हैं। और रसोईघर में खांसना, छींकना, इधर-उधर हाथ लगाना जबकि बगैर हाथ धोने पर भोजन को छूने पर खाना दूषित हो जाता है। इस तरह का खाना खाने पर घर में बीमारियां आती है। ऐसे वातावरण में माता अन्नपूर्णा क्रोधित हो जाती हैं। और ऐसे घर में दरिद्रता का भी वास हो जाता है। ऐसा भोजन करने वाले व्यक्ति को किसी भी कार्य में सफलता नहीं मिलती है। ऐसे परिवार पर राहु-केतु का भी दुष्प्रभाव पड़ता है। इसलिए आप अपने रसोईघर में ऐसी गलतियां कभी भी ना करें। हमेशा स्वच्छ हाथों से ही भोजन तैयार करना चाहिए। ऐसा करने से माता अन्नपूर्णा बहुत प्रसन्न होती हैं।

2. शास्त्रों में स्पष्ट बताया गया है कि जहां पर गृहणी भोजन बनाती है, वह स्थान अगर स्वच्छ नहीं है तो राहु-केतु का सबसे बुरा प्रभाव पड़ता है। और शनि भी उस घर के लोगों से रूठ जाते हैं। ऐसे घर में कमाने वाले व्यक्ति पर सबसे बुरे प्रभाव पड़ते हैं। पूरा घर धीरे-धीरे निर्धनता का शिकार हो जाता है। इसलिए रसोईघर हमेशा साफ रखना चाहिए। और रसोईघर में गंगाजल से नियमित छिड़काव जरूर करना चाहिए। इससे माता अन्नपूर्णा आपके परिवार पर आकर्षित होती हैं। और उनकी कृपा से ऐसे परिवार के लोगों को कामयाबी मिलती है।

3. अपने रसोईघर में अधिक धारदार चीजें ना रखें, इससे परिवार के सदस्यों के बीच तनाव बढ़ता है। और परिवार के लोगों के बीच झगड़े आदि होने लगते हैं। रसोईघर मे अधिक धारदार चीजें रखने से नकारात्मकता आती है। इससे आपके जीवन में सबसे बुरे प्रभाव पड़ते हैं।

4. रसोईघर के सामने जूते-चप्पल, झाड़ू-पोंछा कभी नहीं रखना चाहिए। इससे माता अन्न्पूर्णा नाराज हो जाती हैं। और पूरे घर को गरीबी का सामना करना पड़ता है। शास्त्रों के अनुसार रसोईघर के सामने जूते-चप्पल आदि रखने को पाप भी माना जाता है। जूते-चप्पल, झाड़ू-पोंछा रसोईघर के सामने कभी नहीं रखना चाहिए, ऐसा करने से आपके परिवार में घोर अनर्थ होता है। ऐसा करने से माता अन्नपूर्णा उलटे पांव वापस चली जाती हैं।

5. रसोईघर में खाना बनाते समय महिलाओं को भोजन झूठा नहीं करना चाहिए। ऐसा करने से मां अन्नपूर्णा का अपमान माना जाता है। इससे घर में दरिद्रता आती है। और इसके साथ ही ऐसे परिवार से माता लक्ष्मी भी रूठ जाती हैं। ऐसे में उस गृहणी का भी अपमान माना जाता है, जो उस रसोईघर में भोजन बनाती है। ऐसे घर की सुख, शांति सब भंग हो जाती है। इसलिए अगर आप भोजन बनाती हैं तो सबसे पहले भोजन में से कुछ अंश भोजन का निकाल कर भगवान का भोग लगाएं, या अपने आराध्य को भोजन अर्पित करें। या सबसे पहले थोड़ा सा भोजन किसी कन्या को खिला दें। इसके बाद ही आप भोजन को चख सकती हैं।

6. अगर बार-बार आपके भोजन में बाल निकल आते हैं, तो इसे आप मामूली बात ना समझें। ऐसा माना जाता है कि भोजन में बार-बार बालों का निकलना राहु-केतु का बुरा प्रभाव होता है। ऐसा घर हमेशा निर्धनता का शिकार हो जाता है। खाने में कभी बाल नहीं आना चाहिए। खाने में बाल आना मां अन्नपूर्णा का सबसे बड़ा अपमान होता है। इसे घोर अनर्थ माना जाता है। ऐसे में खाने की शुद्धता भी भंग हो जाती है। और परिवार को भयंकर बीमारियों का सामना करना पड़ सकता है। ऐसी भूल आप कभी ना करें।

शास्त्रों में स्पष्ट बताया गया है कि जिस घर मे माता अन्नपूर्णा का वास हो जाए, तो उस घर में माता अन्नपूर्णा के साथ सभी देवता निवास करते हैं। ऐसा घर धन, धान्य से भरा रहता है।

Next Story