Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Devotthan Ekadashi 2020: जानिए देव उठनी एकादशी की तिथि और पूजा विधि

Devotthan Ekadashi 2020:हिन्दू धर्म शास्त्रों के अनुसार ब्रह्मा जी ने देव उठनी और प्रबोधनी एकादशी का महत्व नारद जी को बताया था। और नारद से कार्तिक मास में इस एकादशी के व्रत का पालन करने को कहा था।

Devotthan Ekadashi 2020: जानिए देव उठनी एकादशी की तिथि और पूजा विधि
X

Devotthan Ekadashi 2020:हिन्दू धर्म शास्त्रों के अनुसार ब्रह्मा जी ने देव उठनी और प्रबोधनी एकादशी का महत्व नारद जी को बताया था। और नारद से कार्तिक मास में इस एकादशी के व्रत का पालन करने को कहा था। हिन्दू धर्म में एकादशी व्रत का महत्व सबसे अधिक माना जाता है। ऐसा बताया जाता है कि इस व्रत की कथा सुनने और पढ़ने से 100 गायों के दान के बराबर पुण्य मिलता है। तो आइए आप भी जानें देव उठनी एकादशी की तिथि और पूजा विधि के बारे में।

देव उठनी एकादशी 2020

साल 2020 में देव उठनी एकादशी 25 नवंबर 2020, दिन बुधवार को मनाई जाएगी।

देव उठनी एकादशी की पूजा विधि

देव उठनी एकादशी के दिन सूर्योदय से पूर्व उठकर नित्य कर्म, स्नान आदि करना चाहिए। सूर्योदय के पूर्व ही व्रत का संकल्प लेकर, पूजा करके सूर्योदय होने पर भगवान सूर्यदेव को अर्घ्य देना चाहिए।

देव उठनी एकादशी के दिन स्नान के लिए नदी अथवा कुंए पर जाएं तो अति उत्तम होता है। और इस दिन निराहार व्रत किया जाता है।

दूसरे दिन ग्यारस की पूजा करने के बाद व्रत पूर्ण माना जाता है। एवं उसके बाद ही भोजन ग्रहण किया जाता है।

कई लोग इस दिन रतजगा करके हंसते-गाते और भजन करते हैं। इस दिन बेलपत्र, शमी पत्र और तुलसी पत्र चढ़ाने का महत्व होता है।

देव उठनी ग्यारस अथवा प्रबोधनी एकादशी तुलसी विवाह का भी महत्व होता है। और इस दिन के बाद से शादी-विवाह के शुभ मुहूर्त शुरू हो जाते हैं। बहुत से लोग इस दिन गन्नों की झोपड़ी बनाकर भी पूजा करते हैं। और इस सीजन में जितने भी फल आते हैं उन सब की भी पूजा इस देव उठनी ग्यारस के दिन की जाती है।

Next Story