Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Chandra Grahan 2020: चंद्रग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को क्यों नहीं सोना चाहिए, जानिए...

Chandra Grahan 2020: 5 जुलाई 2020 का चंद्रग्रहण सुबह 8 बजकर 16 मिनट से लेकर 10 बजकर तक रहेगा। यह उपछाया चंद्रग्रहण है। उपछाया चंद्रग्रहण तब होता है सूर्य और चंद्रमा के बीच में पृथ्वी घूमती हुई आती है। यह ग्रहण सुबह के समय लगने जा रहा। गर्भवती महिला इस बात को सोच रही है, ग्रहण के दौरान क्या करें क्या न करें।

Chandra Grahan 2020: चंद्रग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को क्यों नहीं सोना चाहिए, जानिए...
X
चंद्रग्रहण 2020

Chandra Grahan 2020: 5 जुलाई 2020 का चंद्रग्रहण सुबह 8 बजकर 16 मिनट से लेकर 10 बजकर तक रहेगा। यह उपछाया चंद्रग्रहण है। उपछाया चंद्रग्रहण तब होता है सूर्य और चंद्रमा के बीच में पृथ्वी घूमती हुई आती है। यह ग्रहण सुबह के समय लगने जा रहा। गर्भवती महिला इस बात को सोच रही है, ग्रहण के दौरान क्या करें क्या न करें। आज हम आपको बताएंगे कि चंद्रग्रहण के दौरान गर्भवती महिला को चंद्रग्रहण के समय क्यों नहीं सोना चाहिए।

जब आप सोत हैं तो आप रिचार्ज होते हैं। आप एक बैट्री की तरह हैं। दिन भर चार्ज की हुई ऊर्जा का उपयोग करते हैं और फिर इस ऊर्जा को एकत्रित करने के लिए आप सोते हैं। दुनिया का कोई भी जीव और कोई भी मनुष्य सोए बिना नहीं रह सकता है। जब आप नींद में होते हैं तो आप इस दुनिया से कटे हुए होते हैं और अपने लोगों से भी कटे हुए होते हैं और आपके अंदर तमाम एनर्जी प्रवेश करती है। जिससे आप फिर से काम करने लायक बनते हैं और जगने लायक बनते हैं। सोने के बाद ब्रह्माण्ड की, वायु मंडल की दिव्य एनर्जी आपके अंदर प्रवेश करती है तो आपके जो अच्छी एनर्जी होती है वह हरेक इंसान को चाहिए ही होता है। चंद्रग्रहण के दौरान वायु मंडल में अच्छी एनर्जी के साथ साथ ग्रहण की दूषित एनर्जी भी मिक्स हो जाती है। तब आप सोते है तो आपके वह एनर्जी शरीर में प्रवेश करती है। अच्छी एनर्जी के जगह पर आपके शरीर में प्रवेश करने पर आपके शरीर का संतुलन खराब हो जाएगा।

जब गर्भ में शिशु होता है तब सारी दिव्य एनर्जी गर्भ के अंदर प्राप्त करता है। शरीर का सबसे ज्यादा एनर्जी खिचने वाला शिशु होता है। गर्भावस्था के दौरान गर्भवती महिलाएं कभी नहीं चाहती है कि शिशु नकारात्मक एनर्जी के प्राप्त करें। इसलिए महिलाओं को ग्रहण के दौरान सोना नहीं चाहिए, क्योंकि इसका सीधा प्रभाव शिशु पर पड़ता है, और गर्भवती महिलाओं पर पड़ता है। इसलिए ग्रहण के दौरन कभी नहीं सोना चाहिए। जब आप जागे हुए होते हैं तो वायुमंडल की कोई भी एनर्जी को ग्रहण नहीं करते हैं।

Next Story
Top