Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Chaitra Navratri 2021 : नवरात्रि के 9 दिनों में कहीं आप भी तो नहीं करते ये 10 गलतियां, मातारानी हो जाएंगी नाराज

  • सनानत धर्म में चैत्र और अश्विन नवरात्रि ही मुख्य मानी जाती हैं।
  • चैत्र नवरात्रि से हिन्दुओं का नववर्ष शुरू होता है।
  • शारदीय नवरात्रि का भी हिन्दू धर्म में बहुत महत्व होता है।

Chaitra Navratri 2021 : नवरात्रि के 9 दिनों में कहीं आप भी तो नहीं करते ये 10 गलतियां, मातारानी हो जाएंगी नाराज
X

Chaitra Navratri 2021 : सनानत धर्म में चैत्र और अश्विन नवरात्रि ही मुख्य मानी जाती हैं। इनमें जहां चैत्र नवरात्रि से हिन्दुओं का नववर्ष शुरू होता है वहीं अश्विन यानी शारदीय नवरात्रि का भी बहुत महत्व होता है। यूं तो नवरात्रि साल में चार बार आती हैं जिसमें चैत्र और अश्विन की नवरात्रियों का विशेष महत्व होता है। जबकि दो अन्य नवरात्रियों को गुप्त नवरात्रि माना जाता है। चैत्र नवरात्रि से ही विक्रम संवत की शुरूआत होती है। इस बार से पर्व 13 अप्रैल 2021, दिन मंगलवार से शुरू हो रहा है। देवी मां के इन पावन दिनों में कुछ नियमों का विशेष ध्यान रखना चाहिए वरना मां नाराज हो सकती हैं। तो आइए जानते हैं कि कौन सी हैं वे बातें जिनका भक्तों को नवरात्रि के दौरान ध्यान रखना चाहिए।

ये भी पढ़ें : Chaitra Navratri 2021 : झंडेवाला देवी मंदिर में 13 अप्रैल से शुरू होगा वासंतिक नवरात्र मेला, एक क्लिक में देखें कार्यक्रम की सूची

  1. नवरात्रि के दौरान अकसर भक्त कलश स्थापना करते हैं और साथ ही नौ दिनों के लिए अखंड ज्योति भी जलाते हैं। मान्यता है कि ऐसा करने पर घर कभी खाली छोड़कर नहीं जाना चाहिए। क्योंकि ज्योति का बुझना अपशकुन माना जाता है। इसके अलावा माना जाता है कि ज्योति के जलने से घर में देवी मां का वास होता है।
  2. नवरात्रि का व्रत रखने वालों को नीबू नहीं काटना चाहिए। क्योंकि इसे देवी मां को अर्पण किया जाता है। साथ ही इसे मां शीतला का प्रिय भी माना जाता है।
  3. नवरात्रि के दौरान भक्तों को काले कपड़े नहीं पहनने चाहिए। क्योंकि काले कपड़े नाकारात्मकता का प्रतीक होते हैं। इसलिए नवरात्रि के नौ दिनों में लाल, सफेद, हरे या पीले रंग के कपड़े धारण करने चाहिए। इन्हें शुभ माना जाता है।
  4. नौ दिनों तक व्रत रखने वालों को अनाज और नमक का त्याग करना चाहिए। क्योंकि ये व्रत फलाहार रखे जाते हैं। पुराणों के अनुसार नमक की उत्पत्ति पसीने से हुई है, इसलिए व्रत में इसका प्रयोग नहीं करना चाहिए।
  5. नवरात्रि के दौरान चाहें आप व्रत रख रहे हों अथवा नहीं, परन्तु आप बिना स्नान किए भोजन ग्रहण ना करें। इस दौरान स्नान के बाद आप सबसे पहले दुर्गा मां की पूजा करें और फिर भोजन ग्रहण करें।
  6. नवरात्रि के दौरान मां दुर्गा की कृपा पाने के लिए घर में कलह का माहौल बिलकुल भी नहीं होना चाहिए। इस दौरान लड़ाई-झगड़ें और वाद-विवाद से दूर रहें।
  7. विष्णु पुराण के अनुसार, नवरात्रि के समय दिन में नहीं सोना चाहिए। इससे दुर्भाग्य आ सकता है।
  8. नवरात्रि के दौरान प्याज-लहसून और नॉनवेज नहीं खाना चाहिए। क्योंकि ये सभी चीजें तामसिक प्रवृति की होती हैं।
  9. नवरात्रि के दिनों में तंबाकू और बीड़ी-सिगरेट आदि का सेवन नहीं करना चाहिए। इससे देवी मां नाराज हो सकती हैं। इन चीजों के सेवन से गुस्सा बढ़ सकता है, जबकि व्रत रखने वालों को शांत रहना चाहिए।
  10. नवरात्रि के दिनों में ढाड़ी, नाखून और बाल नहीं कटवाने चाहिए, इसे अपशकुन माना जाता है।

(Disclaimer: इस स्टोरी में दी गई सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं। Haribhoomi.com इनकी पुष्टि नहीं करता है। इन तथ्यों को अमल में लाने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Next Story