Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

vastu dosh : घर-परिवार में झगड़ों का कारण, आप भी जानें

vastu dosh : वास्तु के जरिए अपनी सभी समस्याओं को दूर किया जा सकता है। फिर चाहे वो निजी जीवन से जुड़ी हों या प्रोफेशनल लाइफ से जुड़ी हुई हों। यहां तक की वास्तु के जरिए अपने रिश्तों को भी सुधारा जा सकता है। वास्तु के कुछ ऐसे टिप्स हैं जिन्हें अपनाकर सभी समस्याओं से छुटकारा पाया जा सकता है। तो आइए आप भी जानें इस बारे में जरुरी बातें।

vastu dosh : घर-परिवार में झगड़ों का कारण, आप भी जानें
X
प्रतीकात्मक तस्वीर

vastu dosh : वास्तु के जरिए अपनी सभी समस्याओं को दूर किया जा सकता है। फिर चाहे वो निजी जीवन से जुड़ी हों या प्रोफेशनल लाइफ से जुड़ी हुई हों। यहां तक की वास्तु के जरिए अपने रिश्तों को भी सुधारा जा सकता है। वास्तु के कुछ ऐसे टिप्स हैं जिन्हें अपनाकर सभी समस्याओं से छुटकारा पाया जा सकता है। तो आइए आप भी जानें इस बारे में जरुरी बातें।

घर का ईशान कोण उत्तर-पूर्वी कोना खंडित होने से पिता-पुत्र में आपसी मामलों को लेकर हमेशा झगड़े रहते हैं। इसलिए घर के उत्तर-पूर्व कोने को हमेशा ठीक रखना चाहिए।

घर के ईशान भाग यानि उत्तर-पूर्व से उठा हुआ होना अशुभ माना जाता है। अगर यह उठा हुआ है तो पिता-पुत्र के संबंधों में मित्रता व नजदीकी की कमी रहती है। इसलिए घर बनवाते समय इस बात का खास ध्यान रखना चाहिए।

ईशान कोण में स्टोर रूम टीले या पर्वत के समान आकृति के निर्माण से भी पिता-पुत्र के संबंधों में परेशानियां आती हैं। और दोनों में अविश्वास बना रहता है। घर के उत्तर-पूर्वी कोने में स्टोर रूम नहीं बनवाना चाहिए।

उत्तर-पूर्वी दिशा में रसोई घर या शौचालय का होना भी घर के लोगों के संबंधों को प्रभावित करता है। साथ ही स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां भी बनी रहती हैं। घर के उत्तर-पूर्वी दिशा में रसोईघर या शौचालय नहीं होना चाहिए।

ठंड या गर्मी उत्पन्न करने वाले अन्य उपकरणों को ईशान में रखने से पुत्र अपने पिता की आज्ञा नहीं मानता है। और घर-परिवार को अपमानित करता है। घर के उत्तर-पूर्वी दिशा में इन चीजों को नहीं रखना चाहिए।

यदि कोई प्लाट उत्तर या दक्षिण में सटकर तथा पूर्व व पश्चिम लंबा है तो ऐसी जगह को सूर्य भेदी कहते हैं। ऐसी जगह पर पिता-पुत्र के संबंधों में अनबन की स्थिति सदैव उत्पन्न होती रहती है। ऐसी जगह पर कभी घर नहीं बनाना चाहिए।

घर की उत्तर-पूर्व दिशा में कुड़ेदान बनाने या कचरा रखने से भी घर के लोगों में भी मनमुटाव और जलन की भावना रहती है। इस दिशा में कुड़ादान भूलकर भी नहीं रखना चाहिए।

Next Story
Top