Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Pradosh Vrat 2021 : भौम प्रदोष व्रत के दिन करें कर्ज मुक्ति का ये उपाय

  • प्रदोष व्रत (Pradosh Vrat) भगवान भोलेनाथ (God Shiv) को समर्पित है।
  • त्रयोदशी तिथि मंगलवार के दिन पड़े तो इसे भौम प्रदोष व्रत (bhaum Pradosh Vrat) कहते हैं।
  • माघ मास के भौम प्रदोष व्रत की तिथि (bhaum Pradosh Vrat Date), पूजा का शुभ मुहूर्त (Auspicious time of worship), पूजाविधि और उपाय (Puja method and remedy)

Bhaum Pradosh Vrat 2021 : भौम प्रदोष व्रत आज, कर्ज से मुक्ति के लिए सुनें ये मंगलकारी कथा
X

Pradosh Vrat 2021 : प्रदोष व्रत (Pradosh Vrat) भगवान भोलेनाथ (God Shiv) को समर्पित है। पंचांग के अनुसार हर मास शुक्ल पक्ष और कृष्ण पक्ष में त्रयोदशी तिथि के दिन भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए व्रत कर उनकी पूजा की जाती है। यदि त्रयोदशी तिथि मंगलवार के दिन पड़े तो इसे भौम प्रदोष व्रत (bhaum Pradosh Vrat) कहते हैं। मंगलवार हनुमान (God Hanuman) जी का दिन है जिस कारण इस दिन पड़ने वाला प्रदोष व्रत भगवान शिव के साथ ही हनुमान को प्रसन्न करने के लिए अति शुभ है। तो आइए जानते हैं माघ मास के भौम प्रदोष व्रत की तिथि, पूजा का शुभ मुहूर्त, पूजाविधि और उपायों के बारे में।

Also Read : Shukravar Vrat : शुक्रवार के दिन मां संतोषी की व्रत कथा सुनने और पढ़ने से होगी हर मनोकामना पूरी


भौम प्रदोष व्रत तिथि 2021

9 फरवरी 2021

माघ, कृष्ण त्रयोदशी प्रारंभ

9 फरवरी 2021, प्रात: 03:19 बजे

माघ, कृष्ण त्रयोदशी समाप्त

10 फरवरी 2021, प्रात: 02:05 बजे

प्रदोष काल पूजा का शुभ मुहूर्त

9 फरवरी 2021, शाम 06:03 बजे से रात्रि 08:40 बजे तक

Also Read : Love Astrology : राशि के अनुसार जानिए, जीवन में कितनी बार हो सकता है आपको प्रेम

प्रदोष व्रत के दिन ब्रह्ममुहूर्त में उठकर दैनिक कार्यों से निवृत्त होकर स्नान करें और भगवान शिव का स्मरण करते हुए व्रत का संकल्प करें। प्रदोष तिथि की पूजा प्रदोष काल में ही की जाती है। प्रदोष काल यानि शाम को सूर्यास्त होने के एक घंटे पहले स्वच्छ होकर पूजा के शुभ मुहूर्त में ईशान कोण को सबसे पहले गंगाजल से शुद्ध कर लें। और अब कुश के आसन में उत्तर-पूर्व की दिशा की ओर मुख करके भगवान शिव का पूजन करें। सबसे पहले ऊँ नम: शिवाय मंत्र का जाप करते हुए उनका जलाभिषेक करें। और बेलपत्र अर्पित करें। इसके बाद विधि-विधान के साथ शिव की पूजा-आरती करके प्रसाद बांटें।

कहा जाता है कि जब मंगलवार के दिन प्रदोष तिथि का योग बनता है तब यह भौम प्रदोष होता है। मंगल ग्रह का ही एक अन्य नाम भौम है। शास्त्रों के अनुसार यह व्रत हर तरह के कर्ज से छुटकारा दिलाता है। कर्ज संबंधी हर तरह की परेशानी दूर करने के लिए भौम प्रदोष व्रत लाभदायी सिद्ध होता है।

कर्ज मुक्ति का उपाय

  • कर्ज मुक्ति के लिए भौम प्रदोष व्रत के दिन शाम को हनुमान चालीसा का पाठ लाभयी सिद्ध होता है। इस दिन मंगलदेव के 21 या 108 नामों का जाप करने से जल्द ही कर्ज से छुटकारा मिलता है।
  • भौम प्रदोष के दिन हनुमान मंदिर में हनुमान चालीसा का पाठ कर बजरंग बली को बूदीं के लड्डू प्रसाद में अर्पित करके प्रसाद वितरण करें।
  • कर्ज मुक्ति के लिए भौम प्रदोष की रात्रि को हनुमान जी के समक्ष घी का नौ बातियों वाला दीपक जलाएं।
  • स्कंद पुराण के अनुसार भौम प्रदोष व्रत दो तरह से किया जा सकता है।

पहला व्रत

इस दिन सूर्योदय से सूर्यास्त तक उपवास कर शिव पूजा के बाद संध्या काल में व्रत खोला जाता है।

दूसरा व्रत

दूसरे प्रकार के व्रत में पूरे 24 घंटे का उपवास कर रात भर महादेव का भजन और पूजन किया जाता है। आप अपनी श्रद्धा के अनुसार इस व्रत को कर सकते हैं। (Disclaimer: इस स्टोरी में दी गई सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं। Haribhoomi.com इनकी पुष्टि नहीं करता है। इन तथ्यों को अमल में लाने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Next Story