/307500550/hocalwire_satya_new_ro_5d
डाडम खनन हादसे में पहली FIR : मृतक के भाई ने दी शिकायत, गोवर्धन माइंस कंपनी के ठेकेदार व कर्मचारियों पर केस

केस दर्ज

हरियाणा

डाडम खनन हादसे में पहली FIR : मृतक के भाई ने दी शिकायत, गोवर्धन माइंस कंपनी के ठेकेदार व कर्मचारियों पर केस

Manoj Jangra
3 Jan 2022 3:04 PM GMT

नए साल के दिन शनिवार की सुबह गांव डाडम की एक खान में एक भारी भरकम चट्टान खिसकने से बड़ा हादसा हो गया था। इस हादसे में पहाड़ों के नीचे अब तक पांच लोगों के शव मिल चुके हैं और दो लोग जिंदा निकाले गए हैं जिनकी हालत गंभीर है।

नववर्ष के आगमन पर डाडम खनन क्षेत्र में घटित हुई घटना के 59 घंटे बीत जाने के बाद आखिरकार सोमवार शाम पुलिस ने पहली एफ़आइआर दर्ज कर ली है। बिहार के तूफान सिंह इस घटना में अपनी जिंदगी की जंग हार गए तथा उसके भाई मिथुन शर्मा की शिकायत पर पुलिस ने गोवर्धन माइंस के ठेकेदार तथा कर्मचारियों पर धारा 304 ए के तहत पहला मुकदमा दर्ज किया है। तोशाम थाना प्रभारी सुखबीर जाखड़ ने बताया कि मिथुन शर्मा की शिकायत के आधार पर एफआईआर दर्ज की गई है। उन्होंने बताया कि मामले की जांच शुरू कर दी गई है। मृतक तूफान के भाई मिथुन ने बताया कि उसके भाई की जान लापरवाही की वजह से गई है। उन्होंने कहा कि उनका भाई तो वापस नहीं आ सकता लेकिन जिन लोगों की वजह से यह घटना घटित हुई उन्हें कड़ी से कड़ी सजा मिलनी चाहिए। इस हादसे में अब तक पांच लोगों के शव मिल चुके हैं और दो लोग जिंदा निकाले गए हैं जिनकी हालत गंभीर है।

पांच लोगों की मौत की पुष्टि

अब तक हादसे में पांच लोगों की मौत की पुष्टि हुई है, जिनमें पंजाब के दिनेशदत्त के अलावा रोहतक के धर्मबीर, बागनवाला बिजेंद्र, बिहार का तूफान और जींद का संजय शामिल हैं। दो लोग गंभीर रुप से जख्मी हैं जिनका उपचार चल रहा है। शनिवार अल सुबह हर कोई नए साल के आगमन को लेकर एक दूसरे को बधाई देने में जुटा था, लेकिन एकदम डाडम में खिसके पत्थरों ने पांच लोगों का जीवन लील लेने की खबर मिली तो हर कोई सन्न रह गया। नए साल पर छोटी कांशी ( डाडम) में हुई घटना इतिहास के पन्नों पर दर्ज हो गई। वहीं नव वर्ष के आगमन से लेकर अब रेस्क्यू ने सैकड़ों टन पत्थर को हटाकर दो लोगों को जीवित तथा पांच के शव निकाले हैं। सोमवार को भी जिला प्रशासन व अन्य टीमों का रेस्क्यू जारी रहा।

चार पोपलेंड, चार डम्फर व एक ड्रील मशीन निकाली

राहत एवं बचाव कार्य में जुटी टीमों ने मलबे के नीचे से चार डंपर, चार पॉपलैंड व एक ट्रैक्टर निकाला जा चुका है। अभी भी दो मशीनें मलबे में दबी हुई हैं, जिनको निकालने का अभियान जारी है। इस संबंध में एनडीआरएफ के इंस्पेक्टर संजय कुमार ने बताया कि मशीनें निकालने के लिए एक ब्लास्ट किया जा चुका है, एक ब्लास्ट और किया जाएगा। दोनों मशीनें निकालने के लिए कार्य चल रहा है। उन्होंने बताया कि इन मशीनों से संबंधित व्यक्तियों को निकाला जा चुका है, इसलिए शव मिलने की आशंका बहुत कम है।

Similar News