Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

गुरु हरगोविंद के अंगरखे की कलियों को पकड़कर बाहर आए थे 52 राजा

भारतीय संस्कृति के रक्षक और महान परोपकारी सिक्खों के छठवें गुरू हरगोविंद साहिब को दाताबंदी छोड़ के रूप में याद किया जाता है। आज बुधवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ग्वालियर के उक्त ऐतिहासिक किले पर स्थित गुरूद्वारा दाताबंदी छोड़ पहुंचकर मत्था टेका और गुरू हरगोविंद साहिब को नमन किया और शताब्दी समारोह में शामिल हुए। दाताबंदी छोड़ के 400 साल पूर्ण होने के उपलक्ष्य में यहां पर शताब्दी समारोह मनाया जा रहा है। इस महोत्सव में देश-विदेश से सिख श्रृद्धालु गुरुद्वारा दाताबंदी छोड़ में अरदास करने आए हैं।

गुरु हरगोविंद के अंगरखे की कलियों को पकड़कर बाहर आए थे 52 राजा
X


मुख्यमंत्री ने आज ग्वालियर के ऐतिहासिक किले पर स्थित गुरूद्वारा दाताबंदी छोड़ पहुंचकर मत्था टेका

गुरु हरगोविंद के अंगरखे की कलियों को पकड़कर बाहर आए थे 52 राजा

भोपाल। गुरु हरगोविंद साहिब को मुगल बादशाह जहांगीर ने ग्वालियर किले में कैद कर रखा था। कहा जाता है एक फकीर की सलाह पर जहांगीर ने गुरु हरगोबिंद को रिहा करने का हुक्म जारी किया। पर गुरु साहिब ने यह कहकर रिहा होने से इनकार कर दिया कि हमारे साथ कैद 52 निर्दोष राजा रिहा किए जाएंगे तभी हम बाहर आएंगे। इस पर जहांगीर ने शर्त रखी कि जितने राजा गुरु हरगोविंद साहिब का दामन थाम कर बाहर आ सकेंगे वे रिहा कर दिए जाएंगे। बादशाह को लग रहा था कि 52 राजा इस तरह बाहर नहीं आ पाएंगे। पर दूरदृष्टि रखने वाले गुरु साहिब ने कैदी राजाओं को रिहा करवाने के लिए 52 कलियों का अंगरखा सिलवाया। गुरु जी ने उस अंगरखे को पहना और हर कली के छोर को इन राजाओं ने पकड़ लिया। इस तरह सभी राजा गुरु हरगोविंद साहिब के साथ रिहा हो गए। गुरु हरगोविंद साहिब को इसी वजह से दाता बंदी छोड़ कहा गया। गुरुजी के रिहा होने की याद में हर साल दाता बंदी छोड़ दिवस मनाया जाता है। इस साल 400 वां दिवस मनाया जा रहा है। ऐतिहासिक ग्वालियर किले पर सिक्ख समुदाय की ओर से गुरुद्वारे की स्थापना कि गई है, जो दुनियां भर में गुरुद्वारा दाता बंदी छोड़ के नाम से विख्यात है। इस मौके पर बाबा सेवा सिंह जी सहित अन्य संतजन, सांसद विवेक नारायण शेजवलकर जनप्रतिनिधि और अधिकारी मौजूद थे।



-------


Next Story