Breaking News
कर्नाटकः कुमारस्वामी के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंची हिंदू महासभा, कहा-असंवैधानिक तरीके से बन रहे हैं मुख्यमंत्रीGoogle ने Doodle बनाकर महान समाज सुधारक राजा राम मोहन राय को दी श्रद्धांजलियूपीः योगी के मंत्री के बेटे ने दी धमकी,कहा- महिलाओं को गलत तरीके से छूनेवालों के हाथ काट दूंगापूर्व प्रधानमंत्री देवगौड़ा का कांग्रेस को लेकर बड़ा खुलासा, बोले- हमने दिया था उन्हें सीएम का ऑफर'निपाह वायरस' का कहर, केरल के कोझिकोड में अब तक 16 लोगों की मौतरोटोमैक घोटाला: CBI ने विक्रम कोठारी के खिलाफ दायर की चार्जशीट, रोटोमैक की होगी नीलामीकर्नाटक में अभी बाकी है 'नाटक', किसे कौन सा मंत्रालय मिलेगा, आज होगा तयकर्नाटक में अभी बाकी है 'नाटक', किसे कौन सा मंत्रालय मिलेगा, आज होगा तय
Top

खुलासा: इन कारणों से धरती पर 2018 में आएंगे बड़े और भयानक भूकंप

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Nov 22 2017 9:13AM IST
खुलासा: इन कारणों से धरती पर 2018 में आएंगे बड़े और भयानक भूकंप

धरती पर भूकंप का खतरा दिन ब दिन बढ़ रहा है। इस बात का खुलासा यूनिवर्सिटी की रिसर्च में हुआ है। विश्वविद्यालयों के रिसर्चर्स ने चेतावनी दी है। अगले साल पृथ्वी पर कई बड़े और भयानक भूकंप आएंगे। 

वैज्ञानिकों ने भूकंप आने का कारण पृथ्वी के अपने अक्ष पर घूमने की स्पीड के लगातार कम होने को बताया है। रिसर्च में कहा गया है कि धरती प्रति दिन कुछ मिली सेकंड की गति से कम रोटेड हो रही है। 

इसके कारण उसके गर्भ में छिपी भूगर्भिक ऊर्जा तेजी से बाहर आएगी जिससे भूकंप आ सकते हैं। वैज्ञानिकों का कहना है कि रोटेशन और भूगर्भिक ऊर्जा के निकलने में सीधा संबंध है। 

इसे भी पढ़ें- तबाही: साल के सबसे बड़े भूकंप की तस्वीरें देखकर कलेजा कांप उठेगा

फिलहाल मौजूद तकनीक के आधार पर भूकंप से जुड़े खतरों के लिए 5 या 6 साल पहले चेतावनी दी जा सकती है और दिन की लंबाई इस बारे में अहम भूमिका निभा सकती है। 

इसके जरिए डिजास्टर प्लानिंग की जा सकती है। हालांकि, रिसर्च में साफ तौर पर यह नहीं बताया गया है कि वैज्ञानिक अगले साल से जिन भूकंपों के आने की बात कह रहे हैं वे किन क्षेत्रों में और किन स्थानों में आएंगे। 

पिछली सदी के आंड़कों पर अंदाजा

रेबेका और रोजर ने कहा कि पिछली सदी में 5 बार ऐसा हुआ जब 7 तीव्रता के भूकंप आए। दोनों वैज्ञानिकों ने इस शोध के लिए 1900 के बाद आए 7 से ज्यादा की तीव्रता वाले भूकंपों की प्रकृति को समझा और अपनी परिकल्पना तैयार की। 

हर बार इन भूकंप का संबंध पृथ्वी के घूमने की रफ्तार से जुड़ा पाया गया। हालांकि, कई बार छोटे दिन होने पर इनमें कमी भी देखी गई। इन वैज्ञानिकाें के मुताबिक, पृथ्वी के किनारों (Earth's core) में होने वाले छोटे बदलाव भी भूकंप से जुड़े हो सकते हैं।

दो यूनिवर्सिटीज का रिसर्च

यूनिवर्सिटी ऑफ कोलोराडो के रोजर बिल्हम और यूनिवर्सिटी ऑफ मोंटाना की रेबेका बेंडिक ने रिसर्च किया है। 

जियोलॉजिकल सोसायटी ऑफ अमेरिका को पूरी डिटेल भेज दी गई है। वैज्ञानिकों ने कहा कि पृथ्वी के घूमने की रफ्तार में कमी के चलते अंडरग्राउंड एनर्जी को बाहर आने मदद मिलेगी।

क्या है रोटेशन

पृथ्वी सौरमंडल में अपनी निधारित धुरी पर सदैव पश्चिम से पूर्व को घूमती रहती है। पृथ्वी की इसी गति को रोटेशन यानि घूर्णन अथवा आवर्तन गति कहा जाता है। पृथ्वी अपनी गति पर जब एक पूरा चक्कर लगा लेती है तो एक 24घंटे का समय हो जाता है। इसी से इस गति को दैनिक गति भी कहते हैं।

ADS

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
decrease earth rotation speed may cause big earthquake in 2018

-Tags:#Earthquake#Earthquake in 2018#America#Earth Rotation Speed

ADS

ADS

मुख्य खबरें

ADS

ADS

ADS

ADS

Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo