Hari Bhoomi Logo
सोमवार, सितम्बर 25, 2017  
Breaking News
Top

27 साल से राम मंदिर के लिए पत्थर तराश रहा यह शख्स, मिलती है इतनी सैलरी

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Aug 11 2017 10:40AM IST
27 साल से राम मंदिर के लिए पत्थर तराश रहा यह शख्स, मिलती है इतनी सैलरी

अयोध्या में राममंदिर निर्माण स्थल के समीप स्थित कार्यशाला में पत्थरों को तराशने का काम करने वाले ज्यादातर कारीगर काम छोड़कर जा चुके हैं लेकिन 53 वर्षीय रजनीकांत ही अकेला बचा है जो राम मंदिर के लिए पत्थरों को तराशने में जुटा हुआ है।

आज से 27 वर्ष पहले जब कार्यशाला में पत्थरों को तराशने का काम शुरू हुआ उस वक्त गुजरात, राजस्थान और यूपी के मिर्जापुर से करीब 125 कारीगर काम में जुटे हुए थे। रजनीकांत बताते हैं कि उस समय उत्साह अपने चरम पर था।

इसे भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश: राम मंदिर के लिए दो ट्रक पत्थर पहुंचा अयोध्या

रजनीकांत का कहना है कि ये बात सच है कि अभी वो अकेले काम कर रहा है, लेकिन एक बार राम मंदिर को बनाने की हरी झंडी मिलने के बाद बहुत तेजी से काम तेज हो जाएगा। रजनीकांत का कहना है कि उनको अभी 12 हजार रुपये मेहनताना के तौर पर मिल रहे हैं।

जबकि उसने 1992 में तीन हजार रुपये से नौकरी शुरू की थी। उसका कहना है कि करीब 30 हजार पत्थरों को तराशा जाना अभी भी बाकी है। योजना के मुताबिक 268 फुट लंबे 140 फुट चौड़े और 128 फुट ऊंचे भव्य राम मंदिर का निर्माण प्रस्तावित है।

इसे भी पढ़ें: बदल जाएगी अयोध्या की तस्वीर, टॉप 10 टूरिस्ट डेस्टिनेशन में होगा शामिल

जिसमें नृत्य मंडप, रंग मंडप, गर्भ गृह और सिंह द्वार मंदिर के हिस्सा हैं जिनके पत्थरों में नक्काशी की जा रही है। उसने बताया कि भरतपुर से लाए गए पत्थर खुले में होने की वजह से काले भी पड़ चुके हैं।

इसके अलावा जो पत्थर मंदिर की दीवाल और छत के लिए तराशे जा चुके हैं उनकाे सुरक्षित रखा गया है।

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
rajnikant carved stone for ayodhya ram mandir from 27 years get 12 thousand salary

-Tags:#Ayodhya Case#Rajnikant Carved Stone#Supreme Court Hearing on Ayodhya Ram Mandir#Supreme Court Hearing on Babri Masjid Case
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo