Breaking News
जायारा वसीम छेड़छाड़ पर बोला विस्तारा एयरलाइंस, 'जायरा ने शिकायत दर्ज करने से किया इंकार'हिसार: 5 साल की मासूम के गुप्तांग में घुसाई लकड़ी, रेप के बाद उतारा मौत के घाटसीएम योगी की तस्वीर से शादी करने वाली महिला पर देशद्रोह का मुकदमा, हुई इतने दिन की जेलस्मृति ने राहुल पर कसा करारा तंज, कहा 'बेचारे' को अध्यक्ष तो बनने दोजायरा वसीम छेड़छाड़ मामला: बयान लेने होटल पहुंची मुंबई पुलिस, महिला आयोग का एयरलाइन को नोटिसजायरा वसीम छेड़छाड़ मामला: सीएम महबूबा ने ट्विटर पर कही ये बड़ी बातगुजरात में गरजे राहुल, बोले- पीएम को गलत शब्द मत कहो, उन्हें मीठे शब्दों से भगाओपालनपुर में बोले पीएम मोदी- अय्यर ने मुझे नीच बताकर किया गुजरात का अपमान
Top

इन सवालों के जवाब नहीं तलाश पाई CBI, तलवार दंपत्ति की आज होगी रिहाई

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Oct 13 2017 1:26AM IST
इन सवालों के जवाब नहीं तलाश पाई CBI, तलवार दंपत्ति की आज होगी रिहाई

देश की सबसे बड़ी मर्डर मिस्ट्री 9 साल बाद जहां से चली थी वहीं पहुंच गई। इलाहाबाद हाई कोर्ट ने आरुषि और हेमराज हत्याकांड में तलवार दंपती को बरी कर दिया और इस तरह देखा जाए तो यह मर्डर मिस्ट्री फिर उलझ गई। 

हाई कोर्ट ने तलवार दंपति को बरी कर दिया, ऐसे में जाहिर है कि कातिल कोई और है। 9 साल पहले 15 व 16 मई 2008 की रात को जब आरुषि की हत्या हुई थी तब सवाल यह उठा था कि हत्यारा कौन है? 

मामले की जांच शुरू हुई और जांच एजेंसी की बदलती थ्योरी और उस पर उठते सवालों के बीच यह केस आगे बढ़ता रहा। आज भी यह सवाल कायम है कि आखिर कातिल कौन है?

2008 के 15 व 16 मई की रात नोएडा के जलवायु विहार में डॉक्टर राजेश तलवार और नूपुर तलवार की बेटी आरुषि की हत्या की जाती है। गला काटकर हत्याकांड को अंजाम दिया गया। 

अगले दिन तलवार के नौकर हेमराज का शव उनके छत से बरामद हुआ। इसके बाद यह मामला बेहद पेचीदा होता गया। आरुषि और हेमराज का मोबाइल गायब था। हत्या का मकसद क्या था। 

हथियार जिससे वारदात को अंजाम दिया गया वह गायब था और देखते-देखते यह मर्डर मिस्ट्री तब देश की सबसे बड़ी मर्डर मिस्ट्री बन गई। एक ही सवाल चारो ओर था कि कातिल कौन है?

यूपी पुलिस की जांच पर उठे सवाल

आरुषि की हत्या के बाद चूंकि घर से हेमराज गायब था इसलिए तत्काल उसी पर शक की सूई घूमी, लेकिन बाद में जब उसका शव तलवार के घर की छत से बरामद हुआ तो मामला फिर से उलझ गया। 

फिर पुलिस के लिए यह केस आसान नहीं रहा। यूपी सरकार ने पुलिस को टास्क फोर्स की मदद दी। इसके बाद तत्कालीन डीजीपी बृजलाल ने इस हत्याकांड को सुलझाने का दावा किया और राजेश तलवार को गिरफ्तार कर लिया गया। 

पुलिस की थ्योरी थी कि डॉक्टर तलवार और उनकी एक फैमिली फ्रेंड में संबंध थे और इसकी जानकारी आरुषि को थी। इस दौरान वह नौकर हेमराज से प्रगाढ़ संबंध में आ गई और यह बात तलवार को रास नहीं आई। 

उसने पहले हेमराज की हत्या की और फिर आरुषि की। लेकिन इस थ्योरी पर तमाम सवाल उठे। इसके बाद तत्कालीन बीएसपी की सरकार ने मामले की जांच सीबीआई के हवाले कर दिया।

सीबीआई ने नौकरों को आरोपी बनाया और कहा था कि तलवार का रोल नहीं

सीबीआई ने मामले की छानबीन के दौरान घरेलू नौकरों पर शक जाहिर की। सीबीआई ने कहा कि वारदात को खुखरी जैसे हथियार से अंजाम दिया गया है और फिर तलवार के नौकर कृष्णा से पूछताछ हुई और एक महीने बाद 13 जून को उसे गिरफ्तार कर लिया गया। 

फिर सीबीआई ने एक के बाद एक बाकी नौकरी को भी गिरफ्तार किया। इसमें तलवार की दोस्त के नौकर राजकुमार और पड़ोसी के नौकर विजय मंडल को भी गिरफ्तार किया गया। 

इन तीनों नौकरों का साइंटिफिक टेस्ट हुआ यानी ब्रेन मैपिंग टेस्ट, लाइ डिटेक्टर टेस्ट और नार्को टेस्ट कराया गया। वारदात के 56वें दिन सीबीआई ने पहली बार दावा किया कि हत्याकांड में नौकरों का हाथ है और तलवार का रोल नहीं है।

लेकिन साइंटिफिक सबूत के आधार पर सीबीआई ने तमाम हाथ पैर मारे, लेकिन नौकरी के खिलाफ पुख्ता सबूत नहीं मिले। चूंकि, केस परिस्थितिजन्य साक्ष्यों पर आधारित है ऐसे में हत्या का मकसद, लास्ट सीन एविडेंस और हथियार की बरामदगी अहम थी, लेकिन इनमें सीबीआई को खास सफालता नहीं मिली और नौकरों को जमानत मिल गई।

सीबीआई ने दाखिल की थी क्लोजर रिपोर्ट

छानबीन के बाद सीबीआई ने तलवार दंपति पर संदेह जताया, लेकिन कहा कि चूंकि केस परिस्थितिजन्य साक्ष्यों पर आधारित है ऐसे में साक्ष्यों की कड़ियां तलवार दंपति के खिलाफ नहीं जुटती हैं और फिर सीबीआई ने मामले में स्पेशल कोर्ट के सामने क्लोजर रिपोर्ट दाखिल कर दी और कहा कि मामले को बंद कर दिया जाए।

लेकिन स्पेशल कोर्ट ने पेश तथ्यों के आधार पर कहा कि जो साक्ष्य हैं, वह पुख्ता हैं और मामले में तलवार दंपति को बतौर आरोपी समन जारी कर दिया। हालांकि, क्लोजर रिपोर्ट में सीबीआई ने शक की सूई तलवार दंपति की तरफ घुमाया था, पर पुख्ता सबूत नहीं होने की बात कही थी।

वैसे सीबीआई की थ्योरी खुद ही बदलती रही। यूपी पुलिस ने तलवार को आरोपी बनाया था, लेकिन सीबीआई ने उसे नकार दिया था और नौकरों को आरोपी बनाया। इसके बावजूद जब पुख्ता सबूत नहीं मिले तो तलवार दंपति पर शक जाहिर किया था।

सीबीआई की थ्योरी से ही तलवार दंपति को समन

सीबीआई का दावा था कि कुछ ऐसी बातें हैं जो तलवार की संलिप्तता की ओर इशारा करती हैं। गुस्से में डॉ. राजेश तलवार ने इस हत्याकांड को अंजाम दिया था। ये गुस्सा एकाएक आया था और यूपी पुलिस की थ्योरी भी यही है।

गांधीनगर स्थित एफएसएल में टेस्ट से पहले तलवार दंपति ने बयान दिया था और कहा था कि रात को सोने से पहले वह आरुषि का कमरा बंद कर देते थे और चाबी नूपुर अपने पास रखती थीं।

अंदर से आरुषि का कमरा खुल सकता था, लेकिन बाहर से नहीं, जबकि घटना के बाद सुबह आरुषि का कमरा खुला हुआ था और चाबी लॉबी में मिली थी। सीबीआई का दावा था कि तलवार दंपति यह नहीं बता पाए थे कि कमरा कैसे खुला।

सीबीआई का कहना था कि इससे साफ है कि कमरा या तो आरुषि ने अंदर से खोला या फिर बाहर से चाबी से आरुषि के पैरेंट्स ने खोला, क्योंकि चाबी उन्हीं के पास थी। सीबीआई का दावा था कि आरुषि का गला तेज धारदार हथियार से किसी एक्सपर्ट के द्वारा काटा गया था और यह आरुषि के पैरेंट्स हो सकते हैं।

सीबीआई का दावा था कि आरुषि के मोबाइल का तमाम डाटा डिलीट किया जा चुका था और यह कोई जानकार ही कर सकता था। सीबीआई का कहना था कि गोल्फ स्टिक के बारे में बाद में तलवार दंपती ने सीबीआई को बताया।

सीबीआई का दावा है कि पहले गोल्फ स्टिक से मारा गया और फिर गला काटा गया था। जब नौकरानी आई तो दरवाजा बाहर से लॉक था और तब नूपुर ने घर से बाहर बालकनी से चाबी फेंकी थी ताकि नौकरानी घर में दाखिल हो पाए और नौकरानी के आने के दौरान उन्हें पता चला कि आरुषि की हत्या कर दी गई।

सीबीआई का कहना था कि पुलिस मौके पर सवा सात बजे सुबह पहुंची और तब तलवार ने बताया कि हेमराज गायब है और उसने हत्या की है। सीबीआई का कहना था कि तलवार के दोस्तों ने कहा था कि छत जाने वाली सीढ़ियों पर खून के निशान हैं लेकिन दरवाजा बंद है। जब चाबी मांगी गई तो तलवार ने उसे अनसुना कर दिया।

उस वक्त तलवार ने पुलिस से कहा था कि वह टाइम खराब न करें और हेमराज को तलाशें। यूपी पुलिस ने 2 दिनों बाद छत का दरवाजा तोड़ा और उन्हें हेमराज का शव मिला। तब तलवार ने शव को पहचानने से इनकार कर दिया था।

सीबीआई का दावा था कि यह तमाम तथ्य राजेश तलवार के संलिप्तता का इशारा करते हैं, लेकिन सीबीआई ने क्लोजर रिपोर्ट में यह कहा कि यह तमाम तथ्य केस चलाने के लिए पर्याप्त नहीं है और केस बंद करने की गुहार लगाई थी।

लेकिन अदालत ने इन तथ्यों को केस चलाने के लिए पर्याप्त माना और क्लोजर रिपोर्ट को चार्जशीट में तब्दील कर दिया और बतौर आरोपी तलवार दंपति को समन जारी कर दिया था।

तलवार दंपति ने सीबीआई की थ्योरी पर हाईकोर्ट के सामने उठाए थे सवाल

तलवार दंपति का दावा था कि सीबीआई की कहानी यह है कि आरुषि और हेमराज आपत्तिजनक अवस्था में थे और जब तलवार दंपति ने इसे देखा तो एकाएक गुस्से में पहले गोल्फ स्टिक से दोनों के सिर पर वार किया और फिर ब्लेड से गला काट दिया। इसके बाद हेमराज की बॉडी छत पर घसीटकर ले गए।

तलवार का कहना था कि अगर ऐसा ही हुआ कि कत्ल नीचे कमरे में हुआ तो कमरे में हेमराज के खून के धब्बे मिलने चाहिए थे और सीबीआई को वह धब्बे क्यों बरामद नहीं हुए। सीबीआई ने आरुषि के बेड से लेकर तमाम जगह सैंपल उठाए लेकिन हेमराज के खून के निशान क्यों नहीं दिखे।

सीबीआई का दावा था कि दोनों आपत्तिजनक अवस्था में थे तो ऐसे में मौके पर सीबीआई को हेमराज के शरीर का कोई सैंपल क्यों नहीं मिला। आरुषि का सैंपल भी नेगेटिव पाया गया था।

सीबीआई के गोल्फ स्टिक की थ्योरी पर भी तलवार दंपति ने सवाल उठाया था और कहा था कि पहले सीबीआई ने कहा कि स्टिक नंबर 5 से वार हुआ था, लेकिन बाद में कहा कि स्टिक नंबर 4 से वार किया गया था।

तलवार दंपति का कहना था कि सीबीआई की चार्जशीट में इस बात का जिक्र नहीं है कि कृष्णा के तकिए से हेमराज के खून के निशान कैसे मिले, जबकि शुरुआती जांच में ये बातें आई थीं।

सीबीआई ने इस मामले में नया तर्क गढ़ा कि जब जांच के लिए तकिए को भेजा गया था तो तकिए की अदला-बदली हो गई थी। कृष्णा के तकिए पर हेमराज का खून मिलना एक अलग ही ऐंगल बताती है और यह पुख्ता सबूत था, लेकिन सीबीआई ने इसे नजरअंदाज कर दिया। साइंटिफिक टेस्ट में नौकरों के खिलाफ पॉजिटिव रिपोर्ट थी, लेकिन सीबीआई ने कहा कि सबूत नहीं है।

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
nupur and rajesh talwar acquitted on the basis of doubt

-Tags:#Aarushi Murder Mystery#Allahabad High Court#Aarushi murder case#CBI
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo