Breaking News
Top

बीएचयू बवाल: बंदिशों में जीने को मजबूर हैं छात्राएं, ये हैं लड़कियों की दर्द-ए-दास्तां

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Sep 26 2017 12:14PM IST
बीएचयू बवाल: बंदिशों में जीने को मजबूर हैं छात्राएं, ये हैं लड़कियों की दर्द-ए-दास्तां

अपनी ऐतिहासिक पृष्ठभूमि के मशहूर बीएचयू यानि बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय इन दिनों विवादों में बना हुआ है। इसकी वजह है कि यहां की छात्राओं को बंदिशों में रहना पड़ रहा है। मजबूरन यहां की छात्राओं को विरोध-प्रदर्शन का सहारा लेना पड़ा।

बीएचयू कैंपस में छात्राओं से छेड़खानी तो आम बात है। जिन हॉस्टलों में वे रहती हैं, वहां भी वो शर्मसार करने वाली हरकतों से दो चार होती रहती है। इसके अलावा छात्राएं विश्वविद्यालय की तमाम बंदिशों को भी सहने का मजबूर हैं। 

यह भी पढ़ें:- बीएचयू विवाद को लेकर पीएम मोदी गंभीर, सीएम योगी से की बात

घुट-घुट कर जीने को मजबूर

हॉस्टल में रहने वाली छात्राओं के मुताबिक यहां उन्हें बहुत सी परेशानी भरे माहौल में रहना पड़ता है। एक छात्रा ने नाम उजागर नहीं करने की शर्त पर बताया कि हमें तरह-तरह बंदिशों का शिकार होना पड़ता है। इसकी वजह से हम घुट-घुट कर जीने को मजबूर हैं। 

विरोध-प्रदर्शन पर भी रोक 

एक दूसरी छात्रा अपने दर्द को कुछ इस तरह बयां करती है। वह बताती है कि एक तो लड़कियों की सुनी नहीं जाती है, दूसरे उनके विरोध-प्रदर्शन पर भी रोक लगी हुई है। एक तरह से यहां हमारी परेशानियां सुनने वाला कोई नहीं है।

यह भी पढ़ें:- BHU विवादः कमिश्नर ने यूपी सरकार को सौंपी अंतरिम जांच रिपोर्ट

खाने-पीने की भी पाबंदी

एक अन्य छात्रा के मुताबिक हम पर खाने-पीने की भी पाबंदी है। हम मांसाहार नहीं कर सकते हैं। अपनी तरह से कोई पार्टी एंज्वॉय नहीं कर सकते हैं। ऐसे में हम छात्राएं कैंपस में डिपरेशन की भी शिकार हो रही हैं।

शाम 6 बजे के बाद लगी रोक

एक समस्या तो यहां की छात्राओं के लिए बहुत ही कॉमन है, वो है कि इन्हें कैंपस में 6 बजे के बाद आने-जाने बिल्कुल नहीं दिया जाता है। इसकी वजह है कि यहां सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम नहीं हैं। लेकिन इसके लिए हम छात्राएं दोषी नहीं हैं। 

भरोसे के अलावा कुछ नहीं

छात्राओं का आरोप है कि अपनी दिक्कतों के लिए हम बीएचयू के उपकुलपति त्रिपाठी से भी मिल चुके थे, लेकिन भरोसे के अलावा कुछ नहीं हुआ। जब छेड़खानी का मुद्दा उठा तो हम छात्राओं ने विरोध का झंडा बुलंद करना शुरू किया। 

 
(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
bhu controvery bhu girls students are forced to live in compulsions

-Tags:#Banaras Hindu University#BHU#Yogi Adityanath#UP
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo