Breaking News
Top

भारत का पहला व्यक्तिगत ओलंपिक पदक होगा नीलाम

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Jul 25 2017 11:29PM IST
भारत का पहला व्यक्तिगत ओलंपिक पदक होगा नीलाम

भारत के पहले व्यक्तिगत ओलंपिक पदक विजेता के जाधव के परिवार ने उनके इस पदक को नीलामी के लिए रखा है जिससे कि उनके नाम पर कुश्ती अकादमी बनाने के लिए कोष जुटाया जा सके।

इस दिग्गज पहलवान के बेटे रंजीत जाधव ने पश्चिम महाराष्ट्र के सतारा जिले से फोन पर बताया, ‘‘कांस्य पदक की नीलामी का फैसला पीड़ादायक था क्योंकि अकादमी बनाने के वादे से राज्य सरकार के पीछे हटने पर हमारे पास अधिक विकल्प नहीं बचे थे।’

इसे भी पढ़े:- अरबों में बिकेंगे ये खिलाड़ी, होने जा रही है वर्ल्ड रिकॉर्ड डील

रंजीत ने कहा, ‘‘2009 में जलगांव में कुश्ती प्रतियोगिता के दौरान राज्य के तत्कालीन खेल मंत्री दिलीप देशमुख ने घोषणा की थी कि सरकार मेरे दिवंगत पिता के नाम पर सतारा जिले में राष्ट्रीय स्तर की कुश्ती अकादमी बनाएगी।''       

उन्होंने कहा, ‘‘आठ साल बाद भी कुछ नहीं हुआ है। दिसंबर 2013 में परियोजना के लिए एक करोड़ 58 लाख रुपये स्वीकृत किए गए थे लेकिन यह परियोजना आकार नहीं ले पाई।''      

जाधव 1952 हेलसिंकी ओलंपिक में 27 बरस की उम्र में इतिहास रचते हुए व्यक्तिगत खेल में ओलंपिक पदक (कांस्य) जीतने वाले पहले भारतीय बने थे। रंजीत ने कहा, ‘‘मेरे पिता अंतर्मुखी थे और उन्होंने कभी अपनी उपलब्धियों का गुणगान नहीं किया।

इसे भी पढ़े:- प्रो कबड्डी लीग में पटना पायरेट्स और दबंग दिल्ली ने अपने कप्तानों के नाम की घोषणा

वह 1984 तक जीवित रहे लेकिन सरकार ने कभी उन्हें अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित नहीं किया जो उन्हें उनके निधन के 16 साल बाद मिला। प्रतिष्ठित लोगों को उस समय क्यों नहीं सम्मानित करते जब वे जीवित होते हैं।'' 

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
india first individual olympic medal will be auctioned

-Tags:#Wrestling News#Olympic Medal#Jadhav
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo