Hari Bhoomi Logo
गुरुवार, जुलाई 27, 2017  
Breaking News
Top

इस लकी नंबर को याद रखने से आसान हो जाते हैं सारे काम, नहीं आती कोई समस्या

haribhoomi.com | UPDATED Feb 16 2017 9:38AM IST
नई दिल्ली. यूं तो हर नंबर अपने आप में खास होता है। लेकिन कुछ ऐसे नंबर भी होते हैं जिन्हें गुडलक की श्रेणी में रखा जाता है। ऐसा ही एक नंबर है जिसे मात्र याद रखने से आपके सारे काम आसान हो जाएंगे। कभी भी किसी समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा।
 
 
हम बात कर रहे हैं नंबर 786 की। इस्लाम धर्म में 786 को शुभ अंक माना जाता है। जिस प्रकार हिंदुओं में किसी भी काम को शुरू करने से पहले गणेश पूजा की जाती है, उसी प्रकार इस्लाम में 786 का स्मरण किया जाता है। दरअसल इस्लाम धर्म में ‘786 का मतलब बिस्मिल्लाह उर रहमान ए रहीम होता है अर्थात् अल्लाह के नाम जो कि बहुत दयालु और रहमदिल है।’

महत्व
इस्लाम धर्म को मानने वाले 786 अंक को बिस्मिल्ला का रूप मानते हैं। लोगों का ऐसा विश्वास है कि 786 का स्मरण करने के बाद बाद शुरू किए गए हर काम में बरकक्त होती है। लोग इस अंक को सीधे अल्लाह से जोड़कर देखते हैं। 
 
इस्लाम धर्म के मानने वाले लोग इस नंबर को बेहद पवित्र और अल्लाह का वरदान मानते हैं। यही कारण है कि इस्लाम धर्म को मानने वाले अपने हर कार्य में 786 को शामिल करते हैं। उनका मानना है कि जिस काम में 786 शामिल किया जाता है उसके होने में अल्लाह की पूरी मर्जी होती है। उसे काम को होने से कोई नहीं रोक सकता।
 
 
इतना ही नहीं इस्लाम धर्म को मानने वाले मकान का नंबर, मोबाइल का नंबर या गाड़ी का नंबर 786 ही लेने की कोशिश करते हैं। यदि उन्हें यह नंबर नहीं मिलता तो वे इसे अपनी गाड़ी या मकान पर गुदवा भी देते हैं।
 
अंक ज्योतिष के अनुसार 786 को परस्पर जोड़ने पर (7+8+6=21) 21 प्राप्त होता है। अब यदि 21 को भी परस्पर जोड़ा जाए तो 3 प्राप्त होता है। तीन को करीब-करीब सभी धर्मों में शुभ अंक माना जाता है।
 
अमिताभ बच्चन ने भी किया था इस्तेमाल
अमिताभ बच्चन ने भी फिल्म कुली में बिल्ला नंबर 786 का इस्तेमाल किया था। बता दें कि इस फिल्म में उन्हें शूटिंग के दौरान उनकी आंत में चोट लगी थी। जिसके बाद भी उन्हें अस्पताल में भर्ती होना पड़ा। लोगों का कहना था कि अल्लाह के 786 नंबर ने उन्हें बचाया है। 
 
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo