Breaking News
लखनऊ: परिवार कल्याण और महिला एवं बाल विकास मंत्री रीता बहुगुणा जोशी के आवास के सामने कैरोसिन डालकर एक महिला ने आत्महत्या का प्रयास कियातलवार दंपत्ति की रिहाई से जुड़े कागजात जमा, दोपहर बाद आएंगे बाहरचीनी मिल गोरखपुर के लोगों के लिए दीवाली का तोहफा: योगी आदित्यनाथदिल्ली में बीजेपी की 'जन रक्षा यात्रा' जारी, कई दिग्गज मौजूदकेंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने जोधपुर में आईबी ट्रेनिंग सेंटर का किया उद्घाटनझारखंड: सुरक्षा बलों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ में एक जवान घायलजेएनयू छात्र नजीब जंग मामले की जांच में सीबीआई की रुचि नहीं: दिल्ली हाईकोर्टजम्मू-कश्मीर: सुरक्षा बलों ने बीते 3 दिन में तीन आतकी गिरफ्तार
Top

भगवान राम से ही नहीं, रावण से भी सीखें जीवन के ये चार सूत्र

नरेंद्र सांवरिया/नई दिल्ली | UPDATED Sep 30 2017 1:51PM IST
भगवान राम से ही नहीं, रावण से भी सीखें जीवन के ये चार सूत्र

देश में ऐसी कई जगह हैं जहां रावण की पूजा की जाती है। इसके पीछे कई कारण हो सकते हैं, लेकिन आम आदमी की जिंदगी में भी रावण का होना बहुत महत्वपूर्ण होता है, जानिए रावण के उन चार सूत्रों के बाते में जिससे हमें बहुत कुछ सीखना चाहिए...

1. गुणों का दुरुपयोग

भगवान राम से हमने बहुत कुछ सीखा और उसे जीवन में उतारा, लेकिन दशहरा के अवसर पर आध्यात्मिक गुरु पं. विजयशंकर मेहता बताने जा रहे हैं कि व्यक्ति रावण से क्या सीख सकता है। हरिभूमि से खास बातचीत में पं. मेहता ने कहा, रावण शिक्षा और योग्यता यानी एजूकेशन और टैलेंट से परिपूर्ण था, लेकिन इन्हीं दो गुणों के दुरुपयोग ने उसे बुराई की पाठशाला बना दिया आज भी लोग शिक्षा और योग्यता के पीछे भाग रहे हैं। रावण से यही सीखना है कि इन गुणों का सही उपयोग किस तरह करें।

2. भोग-विलास

योग्यता जब भोग विलास में डूबती है, तो शिखर में पहुंचा आदमी भी किस तरह शून्य में आ जाता है, रावण इसका जीवंत उदाहरण है। जो गलतियां रावण ने की, अगर वे गलतियां हम भी करेंगे, तो हमें भी एक दिन शिखर से शून्य में आना होगा। रावण विश्व विजेता थे। उनके बाद विश्व विजेता न हुए हैं, न होंगे। उनके सामने तपस्वी वेश में सीमित साधन में प्रभु श्रीराम खड़े थे। राम ने असीमित सत्ता के स्वामी रावण को परास्त कर दिया। रावण भोग की वजह से मारा गया और प्रभु श्रीराम आत्मबल से विजयी हुए।

3. अहंकार का भाव

रावण ने संसार को अपहरण और आतंक दिया। आज सारी पृथ्वी भोग, विलास, अपहरण और आतंक से जूझ रही है। मदांध हैं, लोग अहंकार में डूबे हैं। मंथन करना चाहिए कि क्या हमारी शिक्षा इस काम आएगी? लोग अधूरी जानकारी से कहते हैं, रावण ने माता सीता का स्पर्श तक नहीं किया। वास्तविकता यह है, रावण को पुत्रवधु से बलात्कार की वजह से कुबेर के बेटे ने श्राप दिया था कि वह किसी परस्त्री की सहमति के बगैर उसका स्पर्श करेगा, तो मष्तिष्क के सौ टुकड़े हो जाएंगे। इस डर से उसने माता सीता का स्पर्श नहीं किया।

4. अपराजेय होने का भाव

रावण जैसा महाशक्तिशाली एक सन्यासी से हार गया। हमें समझना चाहिए कि प्रकृति ने अपराजेय किसी को नहीं बनाया है। कम से कम शक्ति या अहंकार के भाव के साथ सदैव अपराजेय होना असंभव है। विनम्रता, सदगुण और सत्य के साथ रहकर हार-जीत के भय से मुक्त रहा जा सकता है। लेकिन अगर किसी के मन में यह भाव आ गया कि अब कोई उसका कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता, उसी पल से उसके पतन का प्रारंभ हो जाता है। जब रावण की पराजय हो गई तो हम और आप हैं क्या।

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
dussehra 2017 ravana worshiped method

-Tags:#Dussehra 2017#Vijaya Dashmi 2017#Lord Ram#Ravana
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo