Breaking News
Top

भाजपा का मिशन 2019: मोदी शाह का ये मास्टर प्लान करेगा विपक्ष को ध्वस्त

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Aug 22 2017 12:51PM IST
भाजपा का मिशन 2019: मोदी शाह का ये मास्टर प्लान करेगा विपक्ष को ध्वस्त

राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) की मिशन 2019 की किलेबंदी और मजबूत होती जा रही है। बिहार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी जदयू के राजग में शामिल होने से जहां उत्तर भारत में राजग मजबूत हुआ है,

वहीं तमिलनाडु में अन्नाद्रमुक के दोनों गुटों के एक होने के बाद अब इसके भी राजग में शामिल होने की प्रबल संभावना है। अन्नाद्रमुक के राजग का हिस्सा बन जाने के बाद दक्षिण भारत में भी वह और मजबूत हो जाएगा।

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस के लिए अात्ममंथन का समय, छोटे राज्यों तक सिमट कर रह गई पार्टी

अभी आंध्र प्रदेश में मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू की पार्टी टीडीपी के साथ भाजपा गठबंधन की सरकार है। कर्नाटक में भाजपा को सत्ता में वापसी की पूरी उम्मीद है। इस तरह दक्षिण के पांच राज्यों में से तीन में भाजपा मजबूत हो जाएगी।

केरल और आंध्र से अलग हुए तेलंगाना में भी भाजपा अपनी जमीन तैयार करने में जुटी हुई है। केरल में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह खुद कमान संभाले हुए हैं। वेंकैया नायडू को उपराष्ट्रपति बनाने के पीछे भी भाजपा की कोशिश दक्षिण में पार्टी के आधार को मजबूत बनाने की है।

इसे भी पढ़ें: रेल यात्रियों की सुरक्षा प्रभु भरोसे, सुनिश्चित करनी होगी व्यवस्था

वेंकैया के तेलंगाना में भी राजनीतिक पकड़ मजबूत है। खास बात यह है कि तमिलनाडु में अन्नाद्रमुक के दोनों धड़ों के नेता सीएम पलानीसामी और ओ पन्नीरसेल्वम के भाजपा से अच्छे संबंध है।

राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति चुनाव में अन्नाद्रमुक के दोनों गुटों ने राजग का साथ दिया था। उसी समय से कयास लगने लगे थे कि देरसबेर जयललिता की बनाई पार्टी अन्नाद्रमुक राजग में शामिल होगी।

भाजपा की कोशिश थी की दोनों गुट एक होकर राजग में आए। जयललिता के निधन के बाद पार्टी पर आधिपत्य की कोशिश में दो गुट बन गए थे। अब पलानी और पन्नीर गुट के एक हो जाने के बाद अन्नाद्रमुक के राजग में आने उम्मीद पुख्ता हो गई है।

भाजपा तमिलनाडु में रजनीकांत की राजनीतिक गतिविधि पर भी नजर बनाई हुई है। तमिलनाडु में भाजपा का अपना जनाधार मजबूत नहीं है, इसलिए उसे ताकतवर सहयोगी की जरूरत है।

मोदी मंत्रिमंडल के संभावित विस्तार में जदयू कोटे से दो मंत्री बनाए जाने के आसार हैं, तो अन्नाद्रमुक कोटे से भी कुछ मंत्री बनाए जाने के आसार हैं। नई दिल्ली में मोदी मंत्रिमंडल के विस्तार की सरगर्मी तेज है।

इसे भी पढ़ें: स्पेन आतंकी हमला: आतंकवाद के खात्मे के लिए एकजुट हो विश्व

माना जा रहा है कि इस संभावित विस्तार के चलते ही भाजपा अध्यक्ष अमित शाह का तमिलनाडु दौरा एकबार फिर टला है। मीरा-भायंदर महानगरपालिका चुनाव में भाजपा ने 95 में से 51 सीट जीत कर स्पष्ट संदेश दिया है कि महाराष्ट्र में वह और मजबूत हुई है।

यह जीत जहां शिवसेना के लिए सबक है, वहीं वापसी का सपना देख रहीं कांग्रेस व एनसीपी को झटका है। यह जीत भाजपा के लिए अहम इसलिए भी है कि मीरा-भायंदर में काफी अल्पसंख्यक रहते हैं और नतीजों से पता चलता है कि यहां अल्पसंख्यकों ने भी भाजपा को वोट दिया है।

पश्चिम बंगाल के नगर निकाय चुनाव में भी भाजपा दूसरी बड़ी पार्टी बन कर उभरी है। हालिया चुनावों में भाजपा की सफलता से साफ है कि अभी जनता में पीएम मोदी की लोकप्रियता का जादू बरकरार है।

इसे भी पढ़ें: कश्मीर से लेकर चीन तक का पीएम मोदी ने निकला हल

भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों और उपमुख्यमंत्रियों के साथ पीएम मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह की बैठक भी िमशन 2019 के परिप्रेक्ष्य में ही है। भाजपा विकास व सुशासन के दम पर अगले लोकसभा चुनाव में जाना चाहती है।

उत्तर, पश्चिम भारत में भाजपा अभी काफी मजबूत स्थिति में है। नॉर्थ-ईस्ट में भी वह अपनी जड़ें मजबूत कर रही है। अब दक्षिण में भी ताकतवर हो जाने से राजग के मिशन 2019 की राह और आसान हो जाएगी।

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
bjp mission 2019 narendra modi amit shah master plan how to win loksabha election

-Tags:#National Democratic Alliance#NDA#BJP Mission 2019#Narendra Modi#Amit Shah
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo