Hari Bhoomi Logo
बुधवार, सितम्बर 20, 2017  
Top

डोभाल की चीन यात्रा से तनाव में कमी की उम्मीद

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Jul 24 2017 4:50PM IST
डोभाल की चीन यात्रा से तनाव में कमी की उम्मीद

सिक्किम सीमा पर डोकलाम क्षेत्र को लेकर भारत और चीन के बीच जारी तनातनी में कमी लाने के लिए कूटनीतिक प्रयास के रंग लाने की उम्मीद दिखाई दे रही है। भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ब्रिक्स देशों के एनएसए की बैठक में भाग लेने बीजिंग जा रहे हैं। वे 27-28 जुलाई को चीन में रहेंगे।

डोभाल की बीजिंग यात्रा को जितनी उत्सुकता से चीन देख रहा है, उतनी ही जिजीविषा से भारत भी देख रहा है। चीनी विश्लेषकों को पूरा भरोसा है कि डोभाल की चीन यात्रा से दोनों देशों क तनाव में कमी आएगी। दोनों देश शांति की राह तलाशेंगे।

इसे भी पढ़े: सीमा विवाद के बीच चीन ने अपने नागरिकों को भारत आने से रोका

जबसे चीन ने डोकलाम विवाद शुरू किया है तबसे चीन की सेना और उसका सरकारी मीडिया लगातार भारत को उकसा रहे हैं। भारत को 1962 याद दिला रहे हैं तो युद्ध होने पर फिर से हारने की धमकी भी दे रहे हैं। चीन की इन गीदड़भभकियों का भारत पर कोई असर नहीं पड़ा है और डोकलाम में भारतीय सेना डटी हुई है।

चीन को यही खल रहा है। डोकलाम भूटान का क्षेत्र है, इसलिए चीन को लगा कि इसमें भारत नहीं कूदेगा। लेकिन भूटान सीमा की रक्षा संबंधी करार का पालन करते हुए भारत डोकलाम को चीनी कब्जे से बचाने में जुटा हुआ है। डोकलाम भारत के लिए भी सामरिक दृष्टि से अहम है।

इसे भी पढ़ें- मोदी और जिनपिंग के इस बयान के बाद कम हो जाएगा सिक्किम में तनाव

चीन ने ही डोकलाम पर लगातार भारत के साथ तनाव को बढ़ाया है। वह धौंस से भारत को झुकाने की मंशा पाले हुए है, इसलिए वह इस मसले के हल के लिए कूटनीतिक प्रयास पर अधिक जोर नहीं दे रहा है, बल्कि अपनी कूटनीति का इस्तेमाल खुद को पीड़ित बताते हुए भारत के खिलाफ कर रहा है।

भारत को डराने के लिए कभी तिब्बत के पाठार पर अपना सैन्य प्रदर्शन कर रहा है तो कभी दक्षिण चीन सागर में रूस के साथ मिलकर नौसैन्य अभ्यास कर रहा है। हालांकि चीन का कोई भी पैंतरा भारत को डरा नहीं पा रहा है। उल्टे भारत और मुखर हो रहा है। विश्व जनमत भी भारत के ही पक्ष में है। चीन की विस्तारवादी नीति से विश्व के सभी देश वाकिफ हैं।

इसे भी पढ़ें: डोकलाम विवाद: युद्ध नहीं चाहेगा चीन, दोनों देश का होगा नुकसान

अपने सीमावर्ती क्षेत्र हड़पने की लगातार चेष्टा करने की चीन की प्रवृत्ति के चलते लगभग 14 सीमाई देशों से बोर्डर पर चीनी सेना का विवाद है। दक्षिण चीन सागर में भी चीन अंतरराष्ट्रीय नियमों का उल्लंघन कर रहा है।

हालांकि डोकलाम पर चीन की चाल सफल होती नहीं दिखी तो अब वह भी किसी कूटनीतिक समाधान तलाशने लगा है। इसलिए वह डोभाल की बीजिंग यात्रा को उत्साह से देख रहा है। थिंकटैंक चाइना रिफॉर्म फोरम के एक रिसर्च फेलो मा जियाली के मुताबिक डोभाल का दौरा भारत तथा चीन के बीच तनाव कम करने का एक अवसर बन सकता है।

इसे भी पढ़ें: चीन की बौखलाहट, भारत में बढ़ाने लगा अपने कदम

डोकलाम विवाद से पहले भारत और चीन के एनएसए सीमा विवाद के हल के लिए अब तक 19 दौर की वार्ता कर चुके हैं। डोकलाम पर भी भारत चाहता है कि चीन के साथ कोई कूटनीतिक समाधान निकले। इस समय चाहकर भी चीन भारत के साथ युद्ध नहीं करना चाहेगा।

सीमित सैन्य कार्रवाई के बारे में सोच सकता है, लेकिन इसकी संभावना भी कम है क्योंकि चीन समझ रहा है कि इसकी कोई गारंटी नहीं है कि वह जीत ही जाएगा। इस इलाके में भारत ऊंचाई वाले इलाक़े पर काबिज़ है, जोकि पहाड़ के युद्ध में बहुत अहम बात होती है।

इसे भी पढ़ें: भारत-चीन सीमा विवाद: बहिष्कार से दिया जायेगा चीन को कड़ा जवाब

उसे यह भी डर है कि सीमित हमला अगर एक लंबी लड़ाई में खिंच जाएगा तो मंदी से जूझ रही उसकी घरेलू अर्थव्यवस्था संकट में फंस जाएगी। साथ ही भारत भी कूटनीतिक व सामरिक स्तर पर हर मुकाबले के लिए तैयार है।

भारत चीन सीमा पर अपने क्षेत्र में 73 सड़कें बना रहा है। चीन के ओबीओआर और सीपेक की काट के लिए एशिया-अफ्रीका गलियारा, चाबहार जैसे प्रोजेक्ट पर काम कर रहा है। भारत ने ऑस्ट्रेलिया ग्रुप, वासेनार के रूप में एनएसजी की काट भी ढूंढ़ लिया है।

चीन विश्व में भारत की बढ़ती आर्थिक और सामरिक ताकत से भी परेशान महसूस करता है। इसलिए हो सकता है कि एक चाल के तहत वह अरुणाचल के तवांग, सिक्किम सीमा पर डोकलाम और कश्मीर में अशांति के बहाने भारत को उलझाना चाहता है। जो भी हो डोभाल की चीन यात्रा से कूटनीतिक हल की उम्मीद बनी हुई है।

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
ajit dobhal china visit over doklam issue

-Tags:#India China War#India China Relationship#India China Dispute
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo