Breaking News
Top

चुनाव प्रचार: केरल के बाद योगी गुजरात में 'गौरव यात्रा' का करेंगे नेतृत्व

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Oct 5 2017 6:56PM IST
चुनाव प्रचार: केरल के बाद योगी गुजरात में 'गौरव यात्रा' का करेंगे नेतृत्व

केरल के बाद बीजेपी ने गुजरात में होने वाले चुनावों के मद्देनजर उत्तर प्रदेश के मुंख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को 'गौरव यात्रा' में उतारा हैं। इस यात्रा का नाम साल 2002 में दंगो से पहले पीएम मोदी के उस अभियान से लिया गया है जो गुजराती स्वाभिमान को पुर्नस्थापित करने को लेकर किया गया था। 

मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक, बीजेपी कार्यकर्ता कौशिक भाई पटेल ने कहा कि भगवाधारी मुख्यमंत्री लगातार दो दिनों तक यात्रा की कमान  संभालेंगे। जो 13 अक्टूबर को दक्षिण गुजरात और उसके अगले दिन उत्तरी गुजरात में होगी। 

इसे भी पढें: एयर चीफ मार्शल की पाकिस्तान को खुली चुनौती, हमारे निशाने पर हैं ये ठिकाने

गुजरात में 2002 के बाद पहली बार गौरव यात्रा का आयोजन किया जा रहा है। मोदी के पीएम बनने तक अब पहली बार ये यात्रा शुरू की जा रही है। बीजेपी यह आशा कर रही है कि वह उत्तर प्रदेश में अपनी चार परिवर्तन यात्रा की सफलता को फिर से दुहराने में कामयाब होगी। 

इसीलिए उसने राज्य में इसी साल होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले योगी को अपना चुनावी चेहरा बनाया है। गौरव यात्रा के पहले चरण का आगाज बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने 1 अक्टूबर को झंडी दिखाकर सरदार बल्लभभाई पटेल के जन्मस्थान कर्मसाड से इसकी शुरूआत कर दी है।

यह यात्रा मध्य और उत्तर गुजरात के 1361 किमी और 76 विधानसभा क्षेत्रों से होकर गुजरेगी। जिसका नेतृत्व उप-मुख्यमंत्री नितिन पटेल करेंगे। यात्रा के दूसरे चरण का नेतृत्व गुजरात के बीजेपी अध्यक्ष जीतू वघनानी कर रहे हैं। 

यह यात्रा दक्षिण गुजरात और सौराष्ट्र के कुल 2395 किमी क्षेत्र और 73 विधानसभा सीटों से होकर गुजरेगी। मुख्यमंत्री विजय रूपाणी दोनो यात्राओं से अलग-अलग दिनों पर मौजद रहेंगे। 

गुजरात बीजेपी समय रहते योगी की कट्टर हिंदुत्वादी छवि की लोकप्रियता को भुनाना चाहती है। कौशिक भाई पटेल ने टीओई को बताया कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री कार्यालय ने योगी के गुजरात दौरे को मंजूरी दे दी है। 

गुजरात के एक वरिष्ठ बीजेपी नेता ने कहा है, कि योगी पार्टी में नरेंद्र मोदी और अमित शाह के बाद तीसरे सबसे लोकप्रिय नेता हैं, और देश के सबसे लोकप्रिय मुख्यमंत्री है।

उन्होने कहा कि योगी पिछले कुछ सालों में राज्य में हुए जातीय संघर्ष और आंदोलनों के चलते नाराज चल रहे, हिंदू वोटों को पार्टी की तरफ मोड़ने के लिए बेहतर दांव हो सकता है। 

सूत्रों की मानें तो जाति आधारित नेताओं जैसे- हार्दिक पटेल, ओबीसी नेता अल्पेश ठाकुर और दलित एक्टिविस्ट जिग्नेश मेवानी के उदय के बाद बीजेपी को गुजरात में चुनावों से पहले एक कट्टर हिंदुत्व के चेहरे की आवश्यक्ता है। 

उत्तर प्रदेश के सीएम ने बीते 6 महीनों में राज्य में लोगों से जुड़े कामों और अवैध बूचड़खानों पर प्रतिबंध लगाने संबधी कड़े निर्णयों से काफी लोकप्रियता हासिल की है। बीजेपी प्रवक्ता चंद्रमोहन ने कहा कि पूरे भारत में बीजेपी कार्यकर्ताओं में सीएम योगी की काफी मांग रहती है । 

इसे भी पढें: आरआरएस की नई पहल, NMO ने मेडिकल स्टूडेंट्स को दिलाई चरक शपथ

आरएसएस के इशारे पर बीजेपी ने योगी को केरल और गुजरात में उतारने का निर्णय संघ परिवार की कट्टर हिदुंत्व की रणनीति को दर्शाता है। जिससे बहुसंख्यक लोगों में राष्ट्रीय नेता के रूप में उनकी स्वीकार्यता को बढ़ाया जा सके। 

योगी के दो दिवसीय दौरे की समाप्ति 'गुजरात गौरव यात्रा' के समाप्ति की तारीख 15 अक्टूबर के एक दिन पहले होगी। प्रधानमंत्री मोदी और अमित शाह  भी यात्रा के समापन समारोह में शामिल होंगे।

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
yogi to lead gaurav yatra in gujarat after kerala visit

-Tags:#Gujarat#Elections#Yogi#Kerala#Gaurav Yatra#PM Modi
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo