Breaking News
उत्तराखंड: चमोली में बादल फटने की वजह से भूस्खलन, अलर्ट जारीNo Confidence Motion: गिरिराज सिंह ने राहुल गांधी पर ली चुटकी, बोले- भकूंप के मजे के लिए तैयारDaati Maharaj Case: कोर्ट ने CBI जांच वाली याचिका पर जारी किया नोटिस, मांगा जवाबमानसून सत्र 2018ः No Confidence Motion पर संसद में बहस जारीNo Confidence Motion: कांग्रेस को मिले समय पर खड़गे ने उठाए सवाल, कहा- 130 करोड़ लोगों के लिए 38 मिनट पर्याप्त नहींNo Confidence Motion: शिवसेना ने किया वहिष्कार, कहा- सदन की कार्यवाही में नहीं लेंगे हिस्साअविश्वास प्रस्ताव को प्रश्नकाल की तरह समय देने पर मल्लिकार्जुन खड़गे ने उठाए सवालमोदी सरकार की पहली 'परीक्षा' के लिए राहुल गांधी के 'भूकंप' लाने वाले सवाल लीक
Top

तीन तलाक: चिदंबरम ने मुस्लिम महिओं की बर्बादी के लिए बतलाए दो ऑप्शन

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Aug 24 2017 1:43PM IST
तीन तलाक: चिदंबरम ने मुस्लिम महिओं की बर्बादी के लिए बतलाए दो ऑप्शन

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने बुधवार को कहा कि एक बार में तीन तलाक भले ही खत्म हो गया हो लेकिन ‘तलाक' देने के दो अन्य तरीके अभी भी कायम हैं और ये लैंगिक न्याय तथा लैंगिक समानता के लिए चुनौती हैं।

चिदंबरम ने ट्वीट किया कि यह स्पष्ट हो गया। केवल एक बार में तीन तलाक ही गैरकानूनी हुआ है, तलाक के दो अन्य तरीके भी लैंगिक न्याय तथा लैंगिक समानता के लिए चुनौती हैं।

इसे भी पढ़ेंः तीन तलाक खत्म: सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर मुस्लिम संगठनों के बड़े बयान

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि ‘एक बार में तीन तलाक' की व्यवस्था कुरान के मौलिक कानूनी सिद्धांतों को तोड़मरोड़ कर बनाई गई थी और शीर्ष अदालत द्वारा इसे असंवैधानिक घोषित करना अच्छा रहा।

एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा कि फैसला बहुमत से आना लैंगिक न्याय और पति तथा पत्नी की बराबरी की जोरदार ढंग से पुष्टि करता है।

उच्चतम न्यायालय ने मंगलवार को अपने ऐतिहासिक फैसले में मुस्लिमों में तलाक-ए-बिद्दत (एक बार में तीन तलाक) को अमान्य करार दिया था।

इसे भी पढ़ें: तीन तलाक: सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद पीएम मोदी के पाले में गेंद!

हालांकि अदालत ने तलाक के दो अन्य तरीकों को नहीं छुआ। ये दो तरीके हैं, तलाक अहसन (अलग रहने के बाद एक बार बोला जाने वाला तलाक) और तलाक हसन तीन बार तलाक बोलना, एक के बाद एक तीन महीनों तक।

गौरतलब है कि 22 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ ने तीन तलाक की प्रथा को निरस्त करते हुए आज अपनी व्यवस्था में इसे असंवैधानिक, गैरकानूनी और शून्य करार दिया। 

न्यायालय ने कहा कि तीन तलाक की यह प्रथा कुरान के मूल सिद्धांत के खिलाफ है। और केंद्र सरकार को इसके लिए छह महीने के अंदर कानून बनाने के लिए भी कहा है।

ADS

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
three divorces p chidambaram gives two options for destruction of muslim women

-Tags:#Three Divorces#Triple Talaq#P Chidambaram#Supreme Court#Narendra Modi

ADS

ADS

मुख्य खबरें

ADS

ADS

ADS

ADS

Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo