Hari Bhoomi Logo
शुक्रवार, सितम्बर 22, 2017  
Breaking News
Top

खुलासा: कर्नाटक के इन हजारों गावों में नहीं है एक भी ग्रेजुएट

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Jul 31 2017 6:03PM IST
खुलासा: कर्नाटक के इन हजारों गावों में नहीं है एक भी ग्रेजुएट

कर्नाटक सरकार के एक सर्वे की रिपोर्ट में एक बड़ा खुलासा हुआ है। इस रिपोर्ट के मुताबिक राज्य में करीब 2022 गांव ऐसे हैं, जहां एक भी ग्रेजुएट नहीं है। 

कर्नाटक सरकार के एक सर्वे की रिपोर्ट में एक बड़ा खुलासा हुआ है। इस रिपोर्ट के मुताबिक राज्य में करीब 2022 गांव ऐसे हैं, जहां एक भी ग्रेजुएट नहीं है। 

इसे भी पढ़ें- कर्नाटक के अलग झंडे की मांग के समर्थन में सामने आए शशि थरूर

देश में आजादी के बाद सर्व शिक्षा अभियान के जरिए ग्रामीण शिक्षा को अहमियत दिया गया। हालांकि इस अभियान के जरिए ग्रामीण शिक्षा का अनुपात बढ़ा है। लेकिन ग्रेजुएट होना अभी भी ग्रामीणों के लिए दूर की कौड़ी है। 

कर्नाटक राज्य में ऐसे अनेकों गांव है जिसकी जनसंख्या 2000-3000 के बीच है। लेकिन यहां उच्च शिक्षा अभी भी आम आदमी की पहुंच से बहुत दूर हैं। 

इसे भी पढ़ें- भारत का ये राज्य चाहता है अपना अलग झंडा, कांग्रेस ने कहा- देश का सिर्फ एक राष्ट्रध्वज

सर्वे के इन आंकड़ों के मुताबिक कर्नाटक के हर जिले में करीब 15 फीसदी गांव ऐसे हैं जहां एक भी ग्रेजुएट नहीं है। 

राज्य सरकार ने इस मसले को गंभीरता से लिया है। साथ ही 200 से अधिक आबादी वाले गांवों में कम से कम एक ग्रेजुएट तैयार करने की योजना बना रही है।

आपको बता दें कि ये आंकडें ग्रामीण विकास और पंचायती राज विकास विभाग द्वारा पेश किए गए थे। आंकड़ों के अनुसार उत्तर कर्नाटक के टुमकूर, कोलार जिलों में स्थिति सबसे ज्यादा खराब है।

 
(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
there is no not a single graduate in karnataka 2022 villages

-Tags:#Karnataka Government#Rural Education#Karnataka News#Education news
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo