Breaking News
भारतीय क्रिकेटर मोहम्मद शम्मी के खिलाफ पति से विवाद मामले में कोर्ट ने जारी किया समनएयरफोर्स का MiG-21 क्रैश, पायलट लापता, करीब एक घंटे से जारी खोजबीनCM नीतीश कुमार ने बिहार में किन्नरों को सुरक्षा गार्ड बनाने को लेकर की बैठकपीएम मोदी पहुंचे संसद भवन, कहा- देशहित में बहस जरूरी, सार्थक बहस करे विपक्षशशि थरूर ने हिंदू 'पाकिस्तान राष्ट्र' के बाद 'हिंदू तालिबान' को लेकर दिया विवादित बयानकर्नाटकः बस स्टैंड में लड़कियों को छेड़ रहे थे, पुलिस ने 6 मनचलों को किया गिरफ्तारकेरलः भारी बारिश के कारण प्राइवेट और सरकारी स्कूल को बंद करने का निर्देशग्रेटर नोएडा हादसा: 6 मंजिला इमारत गिरने से अब तक 3 लोगों की मौत, NDRF की टीम पहुंची
Top

राइट टू प्राइवेसी: बीफ खाने से लेकर संबंध बनाने तक अपने फैसले के तहत क्या कहा SC ने

अदिति पांडेय, टीम डिजिटल/हरिभूमि | UPDATED Aug 24 2017 6:05PM IST
राइट टू प्राइवेसी: बीफ खाने से लेकर संबंध बनाने तक अपने फैसले के तहत क्या कहा SC ने

सुप्रीम कोर्ट ने आज निजता के अधिकार को मौलिक अधिकार करार दिया है। केंद्र सरकार का कहना था कि जहां सब कुछ डिजिटल हो गया है वहां निजता का अधिकार मौलिक अधिकार कैसे माना जा सकता है लेकिन आज उच्चतम न्यायालय ने इसे मौलिक अधिकार कहा है।

इसे भी पढ़ें: राइट टू प्राइवेसी: सुप्रीम कोर्ट के फैसले से 134 करोड़ लोगों पर पड़ा ये सीधा असर

निजता के अधिकार के मौलिक अधिकार बताए जानें के बाद बहुत से सवाल उठ रहे हैं क्योंकि इसका असर बहुत से सिविल अधिकारों पर पड़ने वाला है जिसमें समलैंगिकता, बीफ कानून, गर्भपात जैसी चीजें शामिल हैं।

आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि निजता के इस अधिकार को मौलिक अधिकार करार दिए जानें के बाद कुछ अन्य कानूनों पर क्या असर पड़ा है।

ADS

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
the supreme court verdict may have an impact on these laws

-Tags:#Right to privacy#Article 21#Homosexuality

ADS

ADS

मुख्य खबरें

ADS

ADS

ADS

ADS

Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo